ताजा सामाचार

आप यहाँ है :

आर्किटेक्टर में कैरियर के खूब मौके – जाने कहा से और कैसे बनाए

आर्किटेक्टर व्यवसायों में रचनात्मकता और वैज्ञानिक दृष्टिकोण शामिल हैं। एक आर्किटेक्ट वह होता है जो भवन के निर्माण की योजना, डिजाइन और देखरेख करता है। भारतीय निर्माण उद्योग अपने चरम पर है और यह भी कहा जाता है के एंगल दशक में इस उद्योग में भारी उछाल देखा जाएगा लगभग 70% अधिक निर्माण भारकके कुछ शहरों में देखने को मिलेगा

किसी भी आर्किटेक्ट का सबसे महत्वपूर्ण उद्देश्य कार्यात्मक, स्वस्थ, सुरक्षित और मनभावन प्रदान करना होता है |

सरल रूप में, आर्किटेक्ट सुंदर इमारतों और इंटीरियर के डिजाइनर हैं। अच्छी इमारत न केवल उसके रहने वालों को प्रभावित करती है, बल्कि यह इतिहास बन जाती है

। याद रखें कि ताजमहल अच्छे भवन निर्माण के लिए भी जाना जाता है |

आर्किटेक्ट आमतौर पर अभ्यास करते हैं, मतलब शुरुआती कुछ वर्षों के बाद अपना कार्यालय चलाते हैं |अनुभवों को हासिल करने के लिए अन्य वास्तु फर्मों के साथ काम करते है | आर्किटेक्चर पेशेवरों को विश्व में सबसे सम्मानित व्यवसायों में से एक माना जाता है। भारत में 100 स्मार्ट शहरों और कई नई परियोजनाओं की दृष्टि से, भविष्य की संभावनाओं और आर्किटेक्ट के लिए भविष्य बहुत उज्ज्वल हैं। इस कोर्स में 100% नौकरी है

सुरक्षा भी है |

उपलब्ध प्रौद्योगिकियों के तेजी से विकास के साथ, और उनमें के एकीकरण पेशे से, एक वास्तुकार की भूमिका पहले की तुलना में तेजी से बदल रही है। भविष्य में वास्तुकारों के लिए अपार अवसर देखे जा रहे है | वर्तमान में केवल 1.2 लाख आर्किटेक्ट हैं

भारत में हैं और भारत में नए वास्तुकारों और भवन डिजाइनरों की भारी मांग है। यह 90 के दशक की वही स्थिति है जब आईटी प्रोफेशनल और सॉफ्टवेयर इंजीनियर की भारी मांग थी । उसी तरह से भारत में और दुनिया भर में निर्माण उद्योग बहुत फलफूल रहा है|

भारत में बैचलर ऑफ आर्किटेक्चर पाठ्यक्रम में प्रवेश के लिए पात्र होने के लिए, छात्रों को चाहिए

काउंसिल द्वारा आयोजित NATA (नेशनल एप्टीट्यूड टेस्ट इन आर्किटेक्चर) में अर्हता काउंसल ऑफ़

आर्किटेक्चर (सीओए), जी Mainsपेपर -2 या एप्टीट्यूड टेस्ट राज्य द्वारा आयोजित किया जाता है। छात्र के पास

फिजिक्स, केमिस्ट्री और गणित विषयों के साथ 10 + 2 या डिप्लोमा होना चाहिए |

इसके 5 साल के पाठ्यक्रम में एक सेमेस्टर इंटर्नशिप शामिल है|

उपलब्ध प्रौद्योगिकियों, नवीनतम सॉफ्टवेयर के तेजी से विकास के साथ इमारतों में नई तकनीक का इस्तेमाल किया जाने लगा है । वास्तुकला पेशा और एक वास्तुकार की भूमिका में भी

पहले की तुलना में तेजी से बदल देखा रहा है। आर्किटेक्ट समस्या हल करने वाले और के डिजाइनर हैं। उदाहरण के लिए उत्पाद डिजाइनर, फर्नीचर डिजाइनर और कई अन्य प्रकार के डिजाइन जो मनुष्यों के लिए दैनिक उपयोग में हो रहे हैं वे वास्तुकला व्यवसाय के अन्य रूप या विशेषज्ञ हैं। कए छात्र आर्किटेक्ट ग्रेजुएट होने के बाद किसी एक पर्टिकुलर फील्ड में स्पेशलिसशन के लिए अनुकित होते है जैसे के कार डिजाइनिंग , प्रोडक्ट डिजाइनिंग, फर्नीचर डिजाइनिंग आदि |

भारत के कई प्रसिद्ध आर्किटेक्ट अंतरराष्ट्रीय स्तर पर जाने हजाते है जैसे के हफ़ीज़ कांट्रेक्टर , एशिया के सबसे बड़े वास्तुकला कार्यालयों में से एक का मालिक, हाल ही में पद्मा भूषण से. सम्मानित किये गए है |

अन्य प्रसिद्ध आर्किटेक्ट राज रेवाल, बी.वी. दोशी हैं जो 2018 में प्रित्जकर पुरस्कार के प्राप्तकर्ता हैं, जिन्हें आर्किटेक्टर फील्ड नोबेल पुरस्कार के रूप में माना जाता है

Ar। राजेंद्र कुमार,

डायरेक्टर , स्कूल ऑफ आर्किटेक्चर, नोएडा इंटरनेशनल यूनिवर्सिटी

image_pdfimage_print


सम्बंधित लेख
 

Back to Top