ताजा सामाचार

आप यहाँ है :

प्रभुजी ने रेल यात्रा और सुहानी बनाई

भारतीय रेलवे ने तीन नई सुविधाएं शुरू की हैं। ई-टिकट पर ऑनलाइन बोर्डिंग स्‍टेशन बदलने और ट्रेन के भीतर 25 तरह की चाय की सुविधा के साथ ही यात्रियों को बेड रोल अपने घर ले जाने की परमिशन दी गई है।

ई-टिकट का बोर्डिंग स्‍टेशन : ई-टिकट बुक कराने वाले यात्री अब बोर्डिंग स्‍टेशन चेंज करने की सुविधा का लाभ उठा सकते हैं। आईआरसीटीसी ने इसके लिए बुक टिकट हिस्‍ट्री में नई व्‍यवस्‍था करके दी है। ट्रेन चलने से 24 घंटे पहले यात्री अपने बोर्डिंग स्‍टेशन में बदलाव कर सकते हैं। यह सुविधा टिकट पर दर्ज स्‍टेशन से आगे वाले स्‍टेशनों पर मिल सकेगी। इससे पहले ई-टिकट लेने वाले यात्रियों को रेलवे काउंटर पर टिकट का प्रिंट और आईडी दिखाने के बाद सुविधा का लाभ मिल पाता था। लेकिन अब इसे आईआरसीटीसीपोर्टल के साथ ही लिंक कर दिया गया है।

इसके लिए आईआरसीटीसी की साइट पर बुक हिस्‍ट्री में जाएं और बुक टिकट ऑप्‍शन को सलेक्‍ट करें। नीचे दिए गए चेंज बोर्डिंग पॉइंट पर क्लिक करें। जब आप स्‍टेशन चुन लें तो चेंज बोर्डिंग पर क्लिक करें ये बातें ध्‍यान रखें : बोर्डिंग स्‍टेशन बदलने के बाद पुराने बोर्डिंग से यात्रा करने पर जुर्माना लगेगा। कोई भी यात्री एक बार बोर्डिंग स्‍टेशन बदल सकेगा। हां, अगर टिकट जब्‍त हो चुका है तो बोर्डिंग स्‍टेशन में कोई बदलाव नहीं हो सकेगा। बेड रोल घर ले जाने वाले की सुविधा भी शुरू: रेलवे ने बेड रोल की सुविधा चेन्‍नई में शुरू कर दी गई है। रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने चेन्‍नई के तम्‍बरम स्‍टेशन पर इस सुविधा की शुरुआत की। अब उम्‍मीद की जा रही है कि दिल्‍ली में भी यह सुविधा शुरू की जाएगी।

इस योजना के तहत 140 रुपए देकर यात्री चादर और तकिया ल सकते हैं। इसके अलावा 110 रुपए देकर यात्री एक कंबल भी खरीद सकता है। खास बात यह है कि सफर के बाद आप इन्‍हें अपने साथ घर भी ले जा सकेंगे।

25 तरह की चाय: रेल में अच्‍छी चाय न मिलने की शिकायत काफी यात्रियों को रहती थी, लेकिन अब वे ऐसा नहीं कह पाएंगे। आईआरसीटीसी अब 25 तरह की चाय ट्रेन में उपलब्‍ध कराने जा रहा है। इनमें आम पापड़ चाय, नींबू चाय, हरी मिर्च चाय, अदरक-तुलसी चाय, शहद-अदरक-नीबू चाय आदि शामिल हैं। इस योजना का विस्‍तार आगे चलकर 12,000 रूटों पर किया जाएगा। आईआरसीटीसी ने इसके लिए मोबाइल एप्‍प लॉन्‍च किया है, जिस पर आप चाय का ऑर्डर दे सकते हैं।

image_pdfimage_print


Get in Touch

Back to Top