Sunday, March 3, 2024
spot_img
Homeसोशल मीडिया सेसमंदर  सारे  शराब  होते  तो  सोचो  कितने  फसाद  होते

समंदर  सारे  शराब  होते  तो  सोचो  कितने  फसाद  होते

समंदर  सारे  शराब  होते  तो  सोचो  कितने  फसाद  होते,

हकीक़त हो जाते ख्वाब सारे तो  सोचो  कितने  फसाद  होते..

किसी  के  दिल  में क्या  छुपा  है  बस  ये  खुदा ही  जानता  है,

दिल  अगर  बेनक़ाब  होते  तो  सोचो  कितने  फसाद  होते..

थी  ख़ामोशी  फितरत  हमारी  तभी  तो   बरसों  निभा  गई,

अगर  हमारे  मुंह  में  भी  जवाब  होते  तो  सोचो  कितने  फसाद  होते..

हम  अच्छे  थे  पर  लोगों  की  नज़र मे सदा  रहे  बुरे,

कहीं  हम  सच   में  खराब  होते  तो  सोचो  कितने  फसाद  होते..

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -spot_img

वार त्यौहार