ताजा सामाचार

आप यहाँ है :

एक शहर-ग्यारह घर अभियान का शंखनाद, मातृभाषा के प्रयासों से जुड़ेंगे एक लाख से अधिक हिन्दी प्रेमी*

इन्दौर। भारत के एक हज़ार शहरों में हिन्दीभाषियों के विस्तार की परिकल्पना तैयार कर मातृभाषा उन्नयन संस्थान ने एक शहर-ग्यारह घर अभियान का शंखनाद किया। इस वर्ष सितम्बर माह में आने वाले हिन्दी दिवस तक संस्थान देशभर के लाखों हिन्दीप्रेमियों को एकजुट कर हिन्दी को राष्ट्रभाषा बनाने के लिए समर्थन अर्जित करेगा और इसी के साथ हिन्दीभाषा के प्रचार के लिए कार्य करेगा।

संस्थान के अध्यक्ष डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ ने बताया कि ‘मातृभाषा उन्नयन संस्थान के प्रयासों से वर्तमान में लगभग 20 लाख लोगों ने अपने हस्ताक्षर अन्य भाषाओं से हिन्दी में बदले हैं। इसी अभियान के साथ संस्थान भारत के लगभग एक हज़ार शहरों में हिन्दी के विस्तार की परियोजना लेकर आया है, जिसका ध्येय हिन्दी की सर्वांगणीय मज़बूती है और हिन्दी को भारत की राष्ट्रभाषा के रूप में स्थापित करवाने के लिए जन समर्थन प्राप्त करना है।’

एक शहर-ग्यारह घर अभियान के बारे में श्री जैन ने यह भी बताया कि ‘संस्थान के सभी इकाईयों के पदाधिकारियों के साथ-साथ हिन्दीयोद्धाओं के भी सहयोग से साहित्य अथवा आम व्यक्तियों और परिवारों को हिन्दी के बारे में जागरुक कर हिन्दी का प्रचार किया जाएगा। इससे हिन्दी भी मज़बूत होगी और हिन्दी आंदोलन के लिए कार्यकर्ताओं की शक्ति भी बढ़ेगी।’

क्या है ‘एक शहर-ग्यारह घर अभियान’ ?

‘एक शहर-ग्यारह घर’ अभियान का उद्देश्य भारत के प्रत्येक ग्राम, नगर में इस अभियान के अन्तर्गत ग्यारह परिवारों को मातृभाषा उन्नयन संस्थान से जोड़ा जाएगा। वे ग्यारह परिवार उस नगर में मिलकर हिन्दी भाषा का प्रचार करेंगे, लोगों को हिन्दी के प्रति सकारात्मक भाव से जागरुक करेंगे, हिन्दी को राष्ट्रभाषा बनाने के लिए जनजागृति व हस्ताक्षर बदलो अभियान संचालित करेंगे, विभिन्न विद्यालयों, महाविद्यालयों और विश्वविद्यालय के छात्र-छात्राओं को आन्दोलन से जोड़ेंगे। कुल मिलाकर मातृभाषा उन्नयन संस्थान द्वारा संचालित गतिविधियों को अपने शहर में भी संचालित करेंगे और हिन्दी के आयतन का विस्तार करेंगे।

निश्चित तौर पर हमने बचपन से सुना है ‘एक और एक ग्यारह’ तो अब ग्यारह परिवार मिलकर उन नगरों में हिन्दी ग्राम की स्थापना का स्तुत्य कार्य करेंगे। और केन्द्रीय संगठन यथासंभव सहयोग और सहायता भी करेगा। प्रकाशित सामग्री, विवरणिका, प्रचार सामग्री इत्यादि केंद्रीय कार्यालय से उपलब्ध होगी। इसके पीछे यही कारण है कि हिन्दी के व्यास का विस्तार हो।
हिन्दी भाषा के विस्तार के लिए चलाए जा रहे वैचारिक आंदोलन की धार को अत्याधिक पैनी करने में मातृभाषा उन्नयन संस्थान के पदाधिकारियों के बौद्धिक सत्र, व्याख्यान, कवि सम्मेलन आदि का भी आयोजन किया जाएगा।

इस अभियान से भारत का कोई भी नागरिक, जो हिन्दीप्रेमी हो, वह जुड़ सकता है। संस्थान की वेबसाइट व व्हाट्सएप 9406653005 के माध्यम से इस अभियान से जुड़ा जा सकता है। जल्द ही इस अभियान का मोबाइल एप भी तैयार हो रहा है।

image_pdfimage_print


सम्बंधित लेख
 

Back to Top