Friday, May 24, 2024
spot_img
Homeसोशल मीडिया सेबाबा रामदेव के जी का जंजाल बना रजनीगंधा वाला ये फोटो

बाबा रामदेव के जी का जंजाल बना रजनीगंधा वाला ये फोटो

25 और 26 नवम्बर को दिल्ली में टाइम्स ऑफ इंडिया ग्रुप के टाइम्स लिटफेस्ट यानी लिटरेचर फेस्टिवल में बाबा रामदेव का रजनीगंधा के विज्ञापन के साथ फोटो उनके जी का जंजाल बन गया है।

अगर आप इस खबर के साथ लगा ये फोटो देखेंगे तो आपको तस्वीर साफ हो जाएगी। बाबा टाइम्स लिटफेस्ट के मंच से लोगों का अभिवादन स्वीकार कर रहे हैं और उनके ठीक पीछे के परदे पर नजर आ रहा है पानमसाला रजनीगंधा का बड़ा सा एड, जिसकी टैग लाइन है- कदमों में दुनिया। जाहिर था मीडिया का इवेंट था और बड़ा ही प्रतिष्ठित मीडिया कंपनी का, इतनी हस्तियां आईं थीं, तो बाबा को सम्मान ही महसूस हुआ लेकिन एक बंदे की ट्वीट ने बाबा का मन खिन्न कर दिया।

उस बंदे की ट्वीट पढने से पहले जानिए कि बाबा ने अपनी ट्विटर वॉल पर जब ये फोटो लगाया तो साथ में क्या लिखा था, बाबा ने लिखा था– “When people talk about saving dogs, donkeys & tigers, it’s seen as a humanitarian work but when someone wants to save cows, why is he called communal?”

बाबा की बात में तो दम था लेकिन एक बंदे गिरीश चंद्र खुल्बे ने इसके जवाब में एक ट्वीट कर दिया। वो ट्वीट भी पढ़िए- ‘बाबा जी, बातें तो बड़ी अच्छी कर लेते हो! ज़रा अपने पीछे देखो आप खुलेआम पान मसाले का प्रचार कर रहे हो…आपको पान मसाले वाला प्रणाम।’

इस ट्वीट से बाबा को लगा कि बात तो सही है, कल को मीडिया भले ही ना इश्यू उठाए, उनके और उनके ब्रैंड के दुश्मन तो इस फोटो गलत इस्तेमाल कर ही सकते हैं तो बाबा ने उस बंदे को जवाब दिया

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -spot_img

वार त्यौहार