आप यहाँ है :

‘हम लोग’ के लिए रचनाएँ आमंत्रित

20 वर्ष से कार्यरत पुणे के सक्रिय बहुभाषी सांस्कृतिक-साहित्यिक-सामाजिक संगठन हिंदी आंदोलन परिवार के वार्षिक अंक “हम लोग-2015 ‘ के लिए लेख/कहानी/संस्मरण/लघुकथा /कविता/ललित निबंध/ अन्य विधादि 25 नवंबर 2015 तक आमंत्रित हैं। कृपया ध्यान दें कि रचनाएँ केवल सॉफ्ट कॉपी में ही भेजें । जहॉं तक संभव हो, टाइपिंग यूनिकोड में हो, अन्यथा की स्थिति में फॉंट साथ में भेजें। स्केन/ पी.डी. एफ./ हस्तलिखित के लिए क्षमा करें। हमारी नीति कम शब्दों वाली स्तरीय सामग्री को प्राथमिकता देने की है। रचनाओं पर संपादन मंडल का निर्णय अंतिम होगा। रचनाएँ [email protected] पर भेजें।

प्रकाशित होने के बाद ‘हम लोग’ का पीडीएफ संस्करण सम्बंधित रचनाकार को प्रेषित किया जाएगा। अंक को आंदोलन के फेसबुक अकाउंट पर भी उपलब्ध कराया जाएगा।

‘हम लोग-2015 ‘ के लिए विभिन्न श्रेणियों में विज्ञापन भी आमंत्रित हैं। विज्ञापन के लिए मूल्यपत्रक इस पत्र के अंत में दिया गया है।

वार्षिकांक का प्रकाशन जनवरी 2016 में होनेवाले संस्था के भव्य वार्षिकोत्सव में होगा।हितैषी संपूर्ण उत्सव / आंशिक आयोजन/ प्रीति भोज/ सभागृह का किराया/ सांस्कृतिक आयोजन/ अन्य खर्च प्रायोजित कर सहयोग कर सकते हैं।

अधिक जानकारी के लिए भी उपरोक्त मेल आई-डी या 9890122603 पर संपादक संजय भारद्वाज अथवा यह विज्ञप्ति फारवर्ड करनेवाले आंदोलन के पदाधिकारी या सहकारी से सम्पर्क कर सकते हैं।

विज्ञापन के लिए मूल्य पत्रक

1. कलर (बैक कवर) रु. 25,000/-

2. कलर (इनर कवर-1) रु. 15,000/-

3. कलर (इनर कवर-2) रु. 15,000/-

4. कलर (पूर्ण पृष्ठ) रु.10, 000/-

5. कलर (आधा पृष्ठ) रु. 5 000/-

6. कलर (1/4 पृष्ठ) रु. 3000/-

7. ब्लैक एंड वाइट (पूर्ण पृष्ठ) रु. 2000/-

8. ब्लैक एंड वाइट (आधा पृष्ठ) रु. 1000/-

9. साहित्यकार परिचय ( B/W आधा पृष्ठ) रु. 800/-

10. ब्लैक एंड वाइट (1/4 पृष्ठ) रु. 500/-

11. शुभेच्छा रु. 300/- (केवल नामोल्लेख)

संस्था को प्रतिवर्ष एकमुश्त रु. 2100/- देनेवाले हितैषियों को वार्षिक कंचन सहयोगी कहा जायेगा। इन सहयोगियों के चित्र स्मारिका में प्रकाशित किये जायेंगे।

संस्था को प्रतिवर्ष एकमुश्त रु. 1100/- देनेवाले हितैषियों को वार्षिक रजत सहयोगी कहा जायेगा। इन सहयोगियों के चित्र स्मारिका में प्रकाशित किये जायेंगे।

संस्था द्वारा प्रतिवर्ष दिये जानेवाले हिंदीभूषण और हिंदीश्री सम्मानों के लिए भी एकमुश्त जमाराशि ( फिक्स डिपॉजिट) स्वीकार करने का प्रस्ताव है। संबंधित पुरस्कार डिपॉजिट देनेवाले के नाम से देने पर भी विचार किया जा सकता है।
संपर्क
[email protected]

image_pdfimage_print


सम्बंधित लेख
 

Back to Top