आप यहाँ है :

आप भी बन जाईये या बनाईये बिग बॉस

आठ दस चरित्रहीन लम्पट और उतनी ही कुलटाओं को एक घर के अन्दर ठूस दीजिए …जाहिर है, वो वहां बैठ कर भजन तो गाएंगे नहीं …उनकी करतूतों को रिकॉर्ड करके टी. वी पर प्रसारित कीजिए …बन गया देश का पसंदीदा शो “बिग बॉस” |

घर में माताएं , बहने , बच्चियां , बच्चे ..पुरुष ..इस शो से चिपके रहते हैं | लड़ना , झगड़ना ..गालियाँ बकना …कामोद्देपक अठखेलियाँ ..यही सब तो चरित्र निर्माण के पाठ हैं , जिसे लोग केबल प्रसारण दाता (Cable Provider) को “आप के कलर्स ” के लिए अतिरिक्त शुल्क देकर खरीदते हैं ..

कुलटाओं की बाचालता को महिमामंडित करते हुए , पूरे समाज को दूषित करने का षड्यंत्र अबाध गति से पिछले कई वर्षो से पूर्ण सफलता के साथ चल रहा है | बस एक कमी रह गई थी.. वो थी इस शो के माध्यम से हिन्दू धर्म को कलंकित नहीं कर पाने की |

इसलिए इस बार एक भाड़े के भांड को लाया गया , जिसका पुकारने वाला नाम “ओम स्वामी” है ..ना उसका “ओम” से कोई मतलब है ना ही किसी दृष्टि से स्वामी है | पर उसकी लम्बी दाढ़ी , तिलक और बस्त्र से सच्चे साधु – संतों की छवि को गहरा धक्का अवश्य लगेगा | औसत से कम मानसिक स्तर के तमाम लोग इसे संत ही समझेंगे और किसी भी कुकृत्य को करने से पहले बड़ी आसानी से कह देंगे कि , “अरे देखा नहीं बिग – बॉस में स्वामी जी कैसे लिपट कर ,,,,,

समझ में नहीं आ रहा है कि तमाम अखाडा परिषद , महामंडलेश्वर , महंत और इस तरह के संगठन इसका विरोध क्यों नहीं कर रहे हैं | इस तरह के किसी भी चारित्रिक अपपतन करने वाले कार्यक्रम में किसी का भी भगवा – वस्त्र में प्रवेश वर्जित होना चाहिए ….न्यायालय और सूचना प्रसारण मंत्रालय का रास्ता खुला हुआ है…आज का यह मौन भविष्य के लिए बहुत घातक सिद्ध होने वाला है ..

image_pdfimage_print


सम्बंधित लेख
 

Back to Top