Monday, April 22, 2024
spot_img
Homeसोशल मीडिया सेएक डॉक्टर का दर्दः मरीजों को कैसे लूटा जाता है

एक डॉक्टर का दर्दः मरीजों को कैसे लूटा जाता है

लकवा हुआ होश पूरी तरह था। सीटी स्कैन में छोटा सा ब्लीड हुआ। जिसको हुआ वो, लखनऊ में हाई सोसाइटी के लोग थे। तमाम सरकारी चिकित्सालयों को नाकार पहुँचे, पाँच सितारा चिकित्सालय। वहाँ तुरंत आईसीयू में रख इलाज शुरू। बेहोशी की दवा दे, वेंटीलेटर पर। ३ दिन बाद, गला काट के ट्यूब लग गया। इधर, बड़े आदमी के रिश्तेदार बड़े डाक्टर्स से चर्चा कर रहे। गूगल पर इलाज ढूँढ रहे। दस दिन का खर्च, बीस लाख का बिल। मरीज़ आधा होश के हाल में, गले के पाइप के साथ डिस्चार्ज।

पाँच सितारा चिकित्सालय के चिकित्सकों ने, घर पर ही आईसीयू केयर के लिये कुछ उपकरण और बेड बता दिये। साथ में अपना एक आदमी भी रोज़ केयर के लिये लगा दिया। अब एक महीने में घर का इलाज में भी दस लाख खर्च। पर मरीज़ अब वेंटिलेटर जनित रोग से ग्रसित। अभी भी लाचार रिश्तेदार, अब इलाज ढूँढ रहे। पर ऐसे रोग का इलाज, केवल रेस्ट करने और बीपी कंट्रोल से हो सकता है। ऐसे बड़े लोग, रोज़ ठगे जा रहे। साथ में ग़रीब लोग भी बड़े चिकित्सालयों के चक्कर में बिक जा रहे! कोई सुध लेने को तैयार नहीं!

इसका बड़ा कारण है कि बिना जाने सोचे, बड़े चिकित्सालयों की और दौड़ना! उधर मज़बूरी है कि इतना बड़ा चिकित्सालयों का खर्च कैसे निकले? तो बस फिर क्या, मरीज़ पहुँचे, तो बस रिश्तेदारों का लूटना शुरू! अब इसका एक ही इलाज है। चिकित्सालय में इलाज संबंधित सभी दस्तावेजों को सार्वजनिक आप डिजिटल प्लेटफर्म पर डाल, इसके एनएमसी से ऑडिट करायें और जानकारी को रिश्तेदारों को साझा करें।

साभार- https://twitter.com/DrVNMishraa से

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -spot_img

वार त्यौहार