ताजा सामाचार

आप यहाँ है :

भारत की राजनीति में जॉर्ज सोरोस की घुसपैठ

कौन है जॉर्ज सोरोस, जिसकी अप्रत्यक्ष घुसपैठ भारतीय राजनीति में हो चुकी है।

जॉर्ज सोरोस एक अमरीकन निवेषकर्ता (इन्वेंस्टर) और लेखक है, जिसे विश्व भर में वामपंथी (लेफ्ट विचारधारा) का एक शक्तिशाली समर्थक माना जाता है!

जॉर्ज सोरोस का दिमाग कितना तेज काम करता है, आप इस तरह समझ सकते हैं, कि वो एक यहूदी है… विश्व भर में जितने भी बड़े बड़े आविष्कार हुए हैं, अधिकतर यहूदियों ने ही किए हैं!

अमरीका के चुनाव में डॉनल्ड ट्रंप का खुलेआम विरोध किया! ना सिर्फ विरोध किया, बल्कि येन केन प्रकारेण डॉनल्ड ट्रंप को पराजित कराने में जॉर्ज की अहम भूमिका मानी जाती है! ट्रंप अमरीका के चुनाव में बेईमानी का आरोप भी लगा चुके हैं!

जॉर्ज सोरोस संपूर्ण विश्व में राइट विंग पावर्स को समाप्त कर देना चाहते हैं! इसके लिए जॉर्ज ने विश्व भर के एन.जी.ओ की फंडिंग की है!

जॉर्ज सोरोस ने ३२ बिलियन डॉलर्स अपने ही “ओपन सोसायटी फाउंडेशन” को दान कर दिए हैं! इस फंड में से १५ बिलियन डॉलर्स “ओपन सोसायटी फाउंडेशन” विश्व भर में दान कर चुकी है!

वास्तव में इसी दान के दम पर जॉर्ज सोरेस संपूर्ण विश्व के तमाम देशों में सरकार विरोधी प्रदर्शन करवाता है! माना जाता है कि शाहीन बाग, किसान आंदोलन, और मोदी सरकार के विरुद्ध हुए तमाम आंदोलनों को जॉर्ज सोरोस का समर्थन हासिल है!

जोर्ज सोरेस के साथ विश्व भर के वकील और समाचारपत्र भी हैं! जो देश के विकार को रोकने के लिए बड़े न्यायालयों में याचिकाएं लगवाते हैं!

वर्ष २०१९ में मोदी जी को पराजित करने के लिए जॉर्ज सोरोस ने “फेसबुक” और “ट्विटर” जैसे कंपनियों से सेटिंग करके, राइट विंगर्स की वैयक्तिक पहचानों को भारी मात्रा में क्षति पहुंचाई है, ताकी राइट विंग विचारधारा ध्वस्त हो जाए!

लेकिन इसके बाद भी मोदी सरकार वर्ष २०१९ के चुनावों में विजयी बनने में सफल रही, क्यों कि उनकी “मास अपील” के सामने विपक्ष और जॉर्ज सोरोस की एक नहीं चल पाई!

जॉर्ज सोरोस का प्रभाव इतना अधिक है, कि अगर आप कथित सेकुलर और लेफ्ट विंग के लिए काम करेंगे, तो आपके सारे काम अपने आप होते चले जाएंगे! लेकिन अगर आप राइट विंगर हैं, तो आपका जीना दूभर कर दिया जाएगा!

अब उत्तर प्रदेश में योगी को पराजित करना जॉर्ज सोरोस का अगला सबसे बड़ा मिशन है, क्यों कि उत्तर प्रदेश में राइट विंग पार्टी को पराजित करने के पश्चात ही, २०२४ में मोदी जी को हराया जा सकता है!

image_pdfimage_print


सम्बंधित लेख
 

Back to Top