ताजा सामाचार

आप यहाँ है :

पठानों को जनाना सलवार पहनाई हरि सिंह नलवा ने

कुर्ते के साथ पायजामा पहना जाता है लेकिन पठानी कुर्ते और सलवार की जोड़ी क्यों है, हिन्दू वीरों की ये गौरव गाथा जानिए….

मुस्लिमों के रोज रोज के झगड़ों और औरतों व् बच्चों पर अत्याचारों से परेशान होकर महाराजा रणजीत सिंह के सेनापति हरी सिंह नलवा ने उनको उनकी औकात बताने के लिये अफगानिस्तान पर आक्रमण कर दिया।

मुस्लिमों को गाजर मूली की तरह काटा और अफगानिस्तान पर अधिकार कर लिया।

हजारों मुस्लिमों को बंदी बनाकर एक बाड़े में रोक दिया कि कल इन सबको काट देंगे ताकि फिर ना रहेगा बांस ना बजेगी बांसुरी।

उनकी बीवियां आकर रोने लगीं, उनकी जान बख्शने की विनती करने लगी, हिन्दू धर्म का वास्ता देने लगी।

आखिर नारी जाति को रोते देख हरी सिंह नलवा जी का हृदय पसीज गया और उन्होंने कहा कि ठीक है कल आप बाड़े के सामने एक एक सलवार ले कर पहुँच जाना, जिसका पति सलवार पहनकर जायेगा, उसे जाने दिया जायेगा।

अगले दिन सबको शर्त बता दी गयी, 2 मुस्लिमों ने बिना सलवार पहने बाड़े से बाहर कदम रखा और साथ की साथ तलवार के एक -एक ही वार से नरकगामी हो गए।

उनका ये हश्र देखकर सबने चुप चाप सलवार पहनी और अपनी औरतों के साथ हिजड़ा बन कर निकल गए।

इसके बाद सभी बाकि के मुस्लिम पुरुषों को भी सलवार में रहने का ही आदेश जारी कर दिया गया।

हरी सिंह नलवा जी एकमात्र (अमेरिका और रूस भी नहीं ) ऐसे योद्धा थे जिन्होंने सालों अफगानिस्तान पर राज किया और वहां के मुस्लिमों को अपनी पत्नियों के साथ उनकी सलवार पहन के रहना पड़ा, ये उनकी असली औकात थी।

कई सालों तक जिन्दा रहने के लिए मजबूरन पहनी वो सलवार बाद में मुस्लिम समाज का हिस्सा बन गयी जिसे वो आज तक पहन रहे हैं।
सिख शूरवीर हरी सिंह नलवा :- जो महाराजा रणजीत सिंह के सेनापति थे ||

image_pdfimage_print


1 टिप्पणी
 

  • Raju kumar Gupta.

    अगस्त 23, 2021 - 10:34 pm

    Good

Comments are closed.

सम्बंधित लेख
 

Back to Top