Wednesday, April 24, 2024
spot_img
Homeजियो तो ऐसे जियोपाकिस्तान को मुँहतोड़ जवाब देने वाली ईनम गंभीर

पाकिस्तान को मुँहतोड़ जवाब देने वाली ईनम गंभीर

नई द‍िल्‍ली : अगर आज के दिन किसी का नाम इंटरनेट की दुनिया में छाया हुआ है तो वह किसी और का नहीं बल्‍कि ईनम गंभीर का है. जी हां, ईनम गंभीर कोई और नहीं बल्‍कि संयुक्‍त राष्‍ट्र में भारत की पहली स्‍थाई सचिव हैं. ईनम ने शुक्रवार को संयुक्‍त राष्‍ट्र की आम सभा में पाकिस्‍तान को ऐसा करारा जवाब दिया कि वहां मौजूद हर कोई शख्‍स हैरान रह गया. ईनम ने अपने भाषण में पलटवार करते हुए कहा था, ‘पाकिस्तान अपने छोटे से इतिहास में आतंक का पर्याय बन चुका है. वह ज़मीन जिसे पाक बनाना था वह अब वास्तव में आतंक की ज़मीन बन चुकी है.’ इससे पहले संयुक्त राष्ट्र महासभा में अपने पहले संबोधन में प्रधानमंत्री शाहिद खाकान अब्बासी ने भारत पर उनके देश के खिलाफ आतंकवादी गतिविधियों में लिप्त होने का आरोप लगाया था और उन्होंने चेतावनी दी कि अगर उसकी (भारत की) ओर से नियंत्रण रेखा पार की जाती है या पाकिस्तान के खिलाफ सीमित युद्ध के सिद्धांत पर काम किया जाता है तो उसे ‘वैसा ही जवाब’ दिया जाएगा.

ईनम गंभीर के भाषण की 5 बड़ी बातें

पाकिस्‍तान के आरोपों का मुंहतोड़ जवाब देते हुए ईनम गंभीर ने संयुक्‍त राष्‍ट्र में सबके सामने पाकिस्तान को टेररिस्तान करार देते हुए कहा था कि पाकिस्‍तान लगातार आतंकियों को पनाह दे रहा है. आतंक को पैदा कर रहा है. वह तो अजीब है कि जो देश ओसामा बिना लादेन और मुल्ला उमर को पनाह देता है, वही पीड़ित होने का दावा कर रहा है. पाकिस्तान में हाफिज सईद जैसे आतंकी बैठकर आतंकवादी गतिविधियां चला रहे हैं. ईनम के इस भाषण को लोगों की खूब तारीफ मिल रही है. अब हर कोई जानना चाह रहा है कि पाकिस्‍तान के पीएम अब्‍बासी को मुंहतोड़ जवाब देने वाली ईनम गंभीर आख‍िर हैं कौन? तो चलिए हम आपकी मदद कर देते हैं.

कौन हैं ईनम गंभीर?

ईनम संयुक्‍त राष्‍ट्र में भारत की पहली सचिव हैं. दिल्‍ली की रहने वाली ईनम साल 2005 बैच की आईएफएस (भारतीय विदेश सेवा) अध‍िकारी हैं. उन्‍होंने दिल्‍ली यूनिवर्सिटी के हिंदू कॉलेज से मैथ्‍स में ग्रेजुएशन किया है. मीडिया की ख़बरों के मुताबिक उन्‍होंने यूनिवर्सिटी ऑफ जिनेवा से भी डिग्री ली है. बताया जा रहा है कि उनकी पहली पोस्‍टिंग मैड्रिड में थी. इस दौरान उन्‍होंने स्‍पैनिश भाषा में अपनी पकड़ बनाई क्‍योंकि वहां काम करने के लिए अंग्रेजी के अलावा स्‍पैनिश आना भी जरूरी था. इसके बाद ईनम ने अर्जेंटीना और ब्राजील में भारतीय दूतावास में काम किया. फिर वह भारत लौट आईं.

संयुक्‍त राष्‍ट्र जाने से पहले ईनम गंभीर दिल्‍ली स्थित विदेश मंत्रालय में पाकिस्‍तान-अफगानिस्‍तन-ईरान डेस्‍क पर भी काम कर चुकी हैं. संयुक्‍त राष्‍ट्र में गंभीर को कई वर्टिकल देखने हैं जिनमें सुरक्षा परिषद सुधार, आतंकवाद-निरोधी और साइबर सिक्‍यूरिटी शामिल हैं. यही नहीं उनके जिम्‍मे कई स्‍पेशल मिशन भी हैं.

आपको यह जानकर हैरानी होगी कि आईएफएस की हाइरार्की यानी कि पदक्रम के मुताबिक ईनम गंभीर जूनियर रैंक की अध‍िकारी हैं. लेकिन इसके बावजूद उन्‍हें सचिव बनाया गया. ऐसा पहली बार हुआ है जब किसी जूनियर रैंक के अधिकारी को सविच बनाया गया हो. बहरहाल, हम तो यही कहेंगे कि ईनम ने अंतरराष्‍ट्रीय पटल पर साबित करके दिखाया है कि महिलाएं किसी भी मामले में पीछे नहीं हैं. फिर चाहे बात पड़ोसी मुल्‍क से कूटनीतिक तरीके से ही निपटने की क्‍यों न हो.

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -spot_img

वार त्यौहार