Sunday, March 3, 2024
spot_img
Homeसोशल मीडिया सेयह रौबदार आवाज़ अब रेडिओ पर नहीं गूँजेगी

यह रौबदार आवाज़ अब रेडिओ पर नहीं गूँजेगी

आज का दिन खास है क्योंकि एक साल अलविदा कह रहा है और नया साल आने में महज़ कुछ घंटे बाक़ी है! आकाशवाणी परिवार के लिए और इसके श्रोताओं के लिए भी ये दिन अविस्मरणीय है! क्योंकि हिंदी समाचार की जिस बुलंद आवाज़ को आप पिछले लगभग 37 साल से रेडियो पर सुन रहे थे, आज समाचार प्रभात यानि सुबह के बुलेटिन के साथ ही उनका ये पड़ाव समाप्त हुआ। आकाशवाणी के मुख्य हिंदी समाचार वाचक अखिल मित्तल जी लगभग 37 वर्षों की सेवा के बाद आज रिटायर हुए। हालाँकि ये उनके जीवन में एक पड़ाव ही है, क्योंकि जो लाखों श्रोता रेडियो सेट पर उनके समाचारों का इंतज़ार करते हैं वो जानते हैं कि सर रेडियो के सितारे हैं जो ब्रॉडकास्टिंग के आसमान में अपनी जगह बदल रहे हैं।

बचपन में रेडियो के जिन कार्यक्रम और लोगों के बारे में सुना करते थे उनमें से ही एक रेडियो पर्सनॅलिटी अखिल सर के सान्निध्य में jagritiआकाशवाणी दिल्ली में काम करने का मौका मिला, हालाँकि सर का मार्गदर्शन तो हमेशा मिलेगा लेकिन न्यूज़ रूम में उनकी कमी ज़रूर खलेगी!!

अखिल सर अपने पेशे के अलावा भी शानदार व्यक्तित्व के लिए जाने जाते हैं, नए लोगों को रेडियो की बारीकियां सिखाना हो या किसी मुश्किल में मदद चाहिए हो, सर सबसे आगे रहते हैं।

unnamed (5)

यूँ तो फरवरी 1980 में आकाशवाणी नज़ीबाबाद में उद्घोषक के रूप में ये सफ़र शुरू हुआ। 18 जनवरी 1982 में आकाशवाणी शिमला में समाचार सेवा प्रभाग में समाचार वाचक के तौर पर जुड़े और जल्द ही देश की राजधानी दिल्ली पहुंचे। 30 मई 1982 में दिल्ली आकाशवाणी के हिंदी समाचार कक्ष में समाचार वाचक के रूप में आए। ये वो दौर था जब एक से एक बड़े नाम जैसे देवकीनन्दन पाण्डे, इंदु वाही, केके भार्गव रेडियो की दुनिया में स्थापित थे लेकिन अपनी लगन, मेहनत के बल पर जल्द उन्होंने अपनी जगह बनाई।

आकाशवाणी के आलावा भी जापान ब्रॉडकास्टिंग कॉर्पोरेशन रेडियो में 1993 से 1996 और 2007 से 2010 तक सेवाएं दी। उन्हें आकाशवाणी के सर्वश्रेष्ठ संपादक का भी पुरुस्कार मिला। और आज मुख्य समाचार वाचक के रूप में सेवानिवृत्त हुए।

सर आपसे एक ही अनुरोध कि आपके अनाड़ी, खिलाड़ी बनने की राह पर हैं बस अपना स्नेह और मार्गदर्शन बनाए रखिएगा!! किसी ने सच कहा है कि बड़े लोगों की अहमियत उनकी अनुपस्थिति में पता चलती है आप उनमें से एक हैं। जीवन की नई पारी के लिए हार्दिक अशेष शुभकामनाएं आदरणीय सर!!

(जागृति शर्मा, समाचार वाचक आकाशवाणी दिल्ली की फेसबुक वॉल से)

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -spot_img

वार त्यौहार