Wednesday, May 29, 2024
spot_img
Homeजियो तो ऐसे जियोबेटी की फ्राक के लिए दो साल तक भीख माँगता रहा

बेटी की फ्राक के लिए दो साल तक भीख माँगता रहा

बांग्लादेश के एक भिखारी को अपनी बेटी के लिए नई फ्रॉक खरीदने के लिए दो साल तक पैसे बचाने पड़े, तब जाकर वह अपनी बेटी के लिए नई फ्रॉक खरीद सका।

हाल ही में सोशल मीडिया पर फोटोग्राफर जीएमबी आकाश के एक पोस्ट खूब वायरल हो रही है, जिसमें कौसर हुसैन नाम के एक भिखारी की कहानी बताई गई है, जिसने एक हादसे में अपना दाहिना हाथ गंवा दिया और परिवार को पालने के लिए उसे भीख मांगने के लिए मजबूर होना पड़ा।

कहानी में बताया गया कि एक दिन जब वह अपनी बेटी के लिए नई फ्रॉक खरीदने के लिए दुकान पर गए तो दुकानदार ने उन्हें अपमानित करके भगा दिया। तब मेरा अपमान होते देख मेरी बेटी की आंखे भी भीग गई और उसने नई ड्रेस लेने से इनकार कर दिया।

इस घटना के दो साल बाद अब कौसर हुसैन ने अपनी बेटी के लिए नई फ्रॉक खरीदी है। एक-एक पैसा बचाकर कौसर ने अपनी बेटी के लिए अब एक खूबसूरत पीले रंग की फ्रॉक खरीदी है, जिसे पाकर वह अब बेहद खुश है। उसी पल को पत्रकार जीएमबी आकाश ने अपने कैमरे में कैद कर लिया। कौसर हुसैन की कहानी फेसबुक पर पोस्ट की।

कौसर ने कहा कि हां, मैं एक भिखारी हूं, लेकिन 10 साल पहले मैंने सपने में भी नहीं सोचा था कि मुझे कभी भीख मांगकर अपने परिवार को गुजारा करना पड़ेगा। उसने बताया कि वह नाइट कोच पुल से गिर गया था, जिसके कारण वह विकलांग हो गया। मेरा एक हाथ नहीं रहने के बाद मेरी बेटी ही मुझे खाना खिलाती है। वह कहती है कि मैं जानती हूं कि एक हाथ से काम करने पैसा कमाना कितना मुश्किल है।

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -

वार त्यौहार