Thursday, February 22, 2024
spot_img
Homeमीडिया की दुनिया सेकिसान आंदोलन के मंच से पत्रकार का स्तीफा

किसान आंदोलन के मंच से पत्रकार का स्तीफा

एबीपी न्यूज के सीनियर रिपोर्टर रक्षित सिंह के किसान आंदोलन के मंच से इस्तीफे का वीडियो देखा। सच कहूं तो मुझे उनका एलान-ए-अंदाज फिलहाल तो महज एक स्टंट लगा। इस तरह के स्टंट का जो इतिहास रहा है वह यह कि क्रांतिकारी की छवि बनाकर लोकप्रियता और जनता की सिम्पैथी हासिल करना। फिर इसे सीढ़ी बनाकर अपनी राजनीति की राह आसान बनाना। आजकल यह पहचान यू-ट्यूब से पैसा कमाने का जरिया भी बन रहा है।

जैसे ही आपकी एक खास विचारधारा की छवि बनती है, उसके लाखों समर्थक रातो-रात आपके यू-ट्यूब चैनल के सब्सक्राइबर बन जाते हैं। हो सकता मैं गलत होऊं और रक्षित वाकई एक आदर्शवादी पत्रकार हों। कुछ समय बाद यह पता चल ही जाएगा कि वह एक आदर्शवादी पत्रकार हैं या फिर स्टंटिया।

पूर्व में कई पत्रकारों को रक्षित जैसा स्टंट करते देखा है, जो बाद में राजनीति में गए। या फिर अपनी लोकप्रियता का किसी राजनीतिक दल के लिए मोटा माल लेकर इस्तेमाल करते रहे। दिल्ली के ही कई पत्रकारों का स्टंट याद कर लीजिए। एक पत्रकार भाई ने तो प्रेस कांफ्रेंस में ही तब के गृह मंत्री पर जूता चला दिया था और वे एक खास समुदाय में पलभर में ही इतने लोकप्रिय हो गए कि आम आदमी पार्टी से विधायक भी बन गए।

यह सच है कि अब की पत्रकारिता का स्तर बहुत गिर गया है। मीडिया संस्थानों के मालिक सामचारो का कारोबार जूते के कारोबार की तरह ही करते हैं। विचारधारा के आधार पर मीडिया बुरी तरह बंट गया है। पत्रकार का जितना उंचा पद, उसे उतने ही समझौते करने पड़ते हैं। यह सच्चाई है। मेनस्ट्रीम के जो अच्छे पत्रकार हैं उन पर ऐसा दबाव रहता ही है। वे कई बार इस्तीफा भी देते हैं। दरबदर की ठोकर भी खाते हैं। कई साथियों ने तो अभाव में जान भी गंवाई है। लेकिन, उन लोगों ने रक्षित की तरह किसी जनसभा के मंच पर स्टंट करते हुए अपना इस्तीफा नहीं दिया।

साभार – वरिष्ठ पत्रकार अनिल पांडेय जी के फेस बुक पेज से

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -spot_img

वार त्यौहार