Tuesday, June 18, 2024
spot_img
Homeमीडिया की दुनिया सेनिमिषा संपत पर आधारित है 'द केरल स्टोरी' :निमिषा की असली कहानी

निमिषा संपत पर आधारित है ‘द केरल स्टोरी’ :निमिषा की असली कहानी

निमिषा की माँ बिंदू संपत ने इस बारे में बात करते हुए बताया था, “मेरी बेटी को बहकाया गया, उस पर दबाव डाला गया। ये सब उसी सज्जाद सलीम ने किया। वो भी उसी कॉलेज से MBBS कर रहा था।”

बॉलीवुड निर्माता बिपुल अमृतलाल शाह और डायरेक्टर सुदीप्तो सेन की फिल्म ‘द केरल स्टोरी’ (The Kerala Story) शुक्रवार (5 मई, 2023) को सिनेमाघरों में रिलीज हो चुकी है। यह फिल्म सच्ची घटना पर आधारित है। इसमें दिखाया गया है कि कैसे केरल की मासूम हिंदू लड़कियों को सुनियोजित तरीके से ‘लव जिहाद’ के जाल में फँसाया जाता है और फिर उन्हें इस्लाम कबूल करवाकर आतंकवाद की आग में झोंक दिया जाता है।

ये भी देखिये https://youtu.be/x5eYnpYDzxo

‘द केरल स्टोरी’ में ‘शालिनी उन्नीकृष्णन’ का किरदार निमिषा उर्फ फातिमा ईसा पर आधारित है। वह केरल की उन चार महिलाओं में से एक हैं, जो 2016 और 2018 के बीच अफगानिस्तान के खुरासान प्रांत में अपने शौहर के साथ आतंकवादी संगठन आईएसआईएस में शामिल होने के लिए गई थी। निमिषा उर्फ फातिमा के साथ अफगानिस्तान गई अन्य तीन महिलाओं की पहचान सोनिया सेबेस्टियन उर्फ आयशा, रफीला, मेरिन जैकब उर्फ मरियम के रूप में हुई थी।

इन्हें आईएसआईएस की दुल्हन के रूप में भी जाना जाता है। फातिमा का शौहर इस्लामिक स्टेट (आईएस) का आतंकी था। वह एक हमले में मारा गया था, जिसके बाद से फातिमा अफगानिस्तान की जेल में बंद है।

धर्मांतरण का शिकार हिंदू लड़की निमिषा संपत डॉक्टर बनना चाहती थी। इसके लिए उसके परिवार वालों ने लाखों खर्चा करके उसका एडमिशन एक अच्छे मेडिकल कॉलेज में कराया था, लेकिन उन्हें कहाँ पता था कि उनकी बेटी ‘लव जिहाद’ का शिकार बन जाएगी और आईएसआईएस के लिए काम करने लगेगी।

केरल में निमिषा संपत को उसी के कॉलेज में MBBS कर रहे सज्जाद नाम के एक शख्स ने अपने प्रेम जाल में फँसाया था। निमिषा की माँ बिंदू संपत ने इस बारे में बात करते हुए बताया था, “मेरी बेटी को बहकाया गया, उस पर दबाव डाला गया। ये सब उसी सज्जाद सलीम ने किया। वो भी उसी कॉलेज से MBBS कर रहा था। सज्जाद अपनी अम्मी और पूरे परिवार के साथ 2012 से मेरी बेटी से मिल रहा था। उसकी अम्मी ने कहा था कि अगर तुम इस्लाम कबूल कर लो, तो मैं तुम्हारे परिवार से बात करूँगी और अपने बेटे से निकाह करवा दूँगी।”

निमिषा से गलती यह हुई थी कि उसने इस बारे में अपने परिवार वालों को कुछ भी नहीं बताया। निकाह के बाद सज्जाद ने निमिषा का धर्म परिवर्तन करवाया और उसे फातिमा ईसा नाम दिया। जब वह गर्भवती हो गई तो उसने उसे तलाक दे दिया। फिर एक मुस्लिम संगठन ने मदद के नाम पर उसका दोबारा निकाह करवाया। बीडीएस की छात्रा निमिषा 19 अन्य लोगों के साथ कासरगोड में अपने कॉलेज से 2016 में लापता हो गई थी। वह अपने शौहर के साथ अफगानिस्तान में आईएस के कब्जे वाले इलाके में पहुँच गई थी। यहाँ फातिमा ने एक बच्चे को जन्म भी दिया था।

राष्ट्रीय जाँच एजेंसी (NIA) ने भी इस मामले का खुलासा किया था कि निमिषा को आतंकवादी बनाकर अफगानिस्तान भेजा गया और अब वह आईएसआईएस आतंकी होने के आरोप में वहाँ की जेल में बंद है।

बता दें कि ‘द केरल स्टोरी’ फिल्म में भी यही दिखाया गया है कि कैसे शालिनी उन्नीकृष्णन को एक मुस्लिम शख्स अपने प्रेम के जाल में फाँसता है। उसे इस्लाम कबूल करवाकर शालिनी से फातिमा बनाया गया, उसका निकाह कराया और फिर उसे आतंकवाद की आग में झोंक दिया गया।

साभार – https://hindi.opindia.com/ से

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -

वार त्यौहार