ताजा सामाचार

आप यहाँ है :

विकिपीडिया के सह संस्थापक लैरी सेंगर ने खोली इसकी पोल

“निष्पक्ष जानकारी के लिए कभी भी विकिपीडिया पर किसी को विश्वास नहीं करना चाहिए, ये अपने वास्तविक उद्देश्य से भटक गया है।”

यह कहना है विकिपीडिया के सह-संस्थापक लैरी सैंगर का। उन्होंने साल 2001 में जिमी वेल्स के साथ मिलकर इसकी शुरुआत की थी। लेकिन अब उनका कहना है कि इस पर डेमोक्रेटिक पार्टी के समर्थकों और वामपंथियों ने कब्जा कर लिया है। उनके अनुसार साइट पर वामपंथी एडिटर विकिपीडिया यूजर्स को पेज एडिट तक नहीं करने देते और उस हर जानकारी को डिलीट कर देते हैं जो उनके एजेंडे पर फिट नहीं बैठती।

अनहर्ड को दिए इंटरव्यू में 52 वर्षीय सैंगर ने अपनी बात को साबित करने के लिए डेमोक्रेटिक पार्टी के नेता और वर्तमान अमेरिकी राष्ट्रपति ‘जो बायडेन’ से संबंधित जानकारी का उदाहरण दिया। उनका कहना है कि साइट पर न तो उनसे जुड़े स्कैंडल्स का उल्लेख किया गया है और न ही उनके बेटे हंटर बायडेन के लैपटॉप संबंधी कोई सूचना है जिसमें अश्लील सामग्री पाई गई थी।

इंटरव्यू में जब सैंगर से पूछा गया कि क्या इस साइट पर सच जानने के लिए भरोसा किया जा सकता है? उन्होंने कहा कि ये डिपेंड करता है कि आप सच के बारे में क्या सोचते हैं। उन्होंने ध्यान दिलाया कि किस तरह साइट पर जो बायडेन को लेकर एकतरफा जानकारी दी गई है।

उन्होंने कहा कि बायडेन के आर्टिकल को देखें तो उसमें ये बात बहुत कम देखने को मिलेगी कि रिपब्लिकन पार्टी के समर्थक उनके बारे में क्या सोचते हैं। इसलिए यदि कोई चाहता है कि रिपब्लिकन पार्टी वालों का पक्ष उनके बारे में जानें तो उन्हें वो सब विकिपीडिया के आर्टिकल में नहीं मिलेगा। यदि आप यूक्रेन स्कैंडल के बारे में जानना चाहते हैं तो उस पर आपको बहुत कम जानकारी मिलेगी और उसमें भी आप पक्षपात एकदम साफ देख पाएँगे।

विकिपीडिया पर जो बायडेन पर लिखे गए आर्टिकल में देख सकते हैं कि वहाँ केवल एक ऐसा पक्ष है जिसमें सारी बातें बायडेन के पाले में झुकी हुई हैं और रिपब्लिकन पार्टी को नेगेटिव शेड में प्रस्तुत कर रही है। उदाहरण के लिए भाषा देखें कि विकिपीडिया के आर्टिकल में क्या है। इसमें एक जगह लिखा है, “सितंबर 2019 में ट्रंप ने यूक्रेनियन राष्ट्रपति को बायडेन के हर काले चिट्ठे और उनके बेटे के कारनामों पर जाँच करने को कहा था, लेकिन इन सभी आरोपों के बावजूद कोई सबूत नहीं मिला।”

इसी प्रकार एक पैराग्राफ में लिखा है कि ट्रंप ने 2019 की शुरुआत में बायडेन पर झूठे आरोप मढ़े थे कि उन्होंने यूक्रेनियन अधिवक्ता विक्टर शोकिन को फायर करवा दिया था जो उस बर्मा होल्डिंग्स की जाँच कर रहे थे जिसने हंटर बायडेन को नियुक्त किया था। बायडेन पर इस प्रयास में यूक्रेन से 1 बिलियन डॉलर की सहायता रोकने का आरोप लगाया गया था।

सैंगर इन सभी बातों पर बोलते हैं कि लेख में कहीं भी इस बात का उल्लेख नहीं है कि हंटर बायडेन को 2014 से 2019 तक में एक यूक्रेनी ऊर्जा फर्म से, काम करने के लिए प्रति वर्ष $ 600,000 (4,47,66,150रुपए ) मिले, जबकि बायडेन को उर्जा सेक्टर में काम करने का कोई अनुभव तक नहीं था। इसके अलावा उनके बेटे हंटर के लैपटॉप की जानकारी भी कहीं नहीं है, जिसमें कई तरह की आपत्तिजनक सामग्री बरामद हुई थी।

मालूम हो कि साल 2020 में चुनाव के समय हंटर बायडेन के लैपटॉप को लेकर ट्रंप के वकील रूडी गुलियानी ने सवाल उठाए थे। गुलियानी ने आरोप लगाया था कि उनके लैपटॉप में नाबालिग लड़कियों की नग्न तस्वीरें और कुछ संदेश थे। उसी लैपटॉप को लेकर ब्रिटिश रिपोर्ट्स ने दावा किया था कि लैपटॉप की हार्डड्राइव से 2000 फोटो, 1 लाख 54 हजार ईमेल, 1,03,000 संदेश बरामद हुए हैं। फॉरेंसिक टीम ने भी इनकी पुष्टि की थी। उनका कहना था कि हंटर के लैपटॉप के हार्ड ड्राइव की कॉपी मिली थी, जिसके बाद मैरीमैन एंड एसोसिएट्स नाम की फर्म से साइबर एक्सपर्ट्स को इकट्ठा करके उसकी प्रमाणिकता की जाँच करवाई गई। जाँच में यही सामने आया कि लैपटॉप में मौजूद अप्रैल 2019 से पहले का डेटा हंटर बायडेन का है, जिस पर लगे टाइम स्टैम्प को देख लगता है कि उसके साथ कोई छेड़छाड़ नहीं हुई है।

विकिपीडिया के पक्षपाती रवैए पर सैंगर कहते हैं कि ऐसे कई लोग हैं जो ऐसे आर्टिकल्स को न्यूट्रल बना सकते हैं, लेकिन उन्हें लिखने नहीं दिया जाएगा। वह कहते हैं कि विकिपीडिया अन्य मीडिया इकाइयों जैसी है जिसमें किसी भी विवादित प्रश्न के लिए बचाव के रूप में एक तरह का सच है। उनके मुताबिक विकिपीडिया अब पहले जैसा नहीं रह गया। उसने अपने न्यूट्रल नेचर को 2009 में खो दिया था। उससे पहले हर विचारधारा के लोग वहाँ एडिटर थे। सैंगर ने बताया कि कैसे साइट ने डेली मेल और फॉक्स न्यूज को ब्लैकलिस्ट किया है ताकि उनकी सामग्री विकिपीडिया पर न छप सके।

उन्होंने जानकारी दी कि अब विकी पीआर जैसी बड़ी कंपनियाँ हैं, जो लोगों को विकिपीडिया पर लिखने के लिए नियुक्त करती हैं, लेकिन ऐसे लेखक और संपादक यह नहीं बताते कि वे ऐसी कंपनियों से जुड़े हैं। उन्होंने कहा कि लोग विकिपीडिया लेखों में बदलाव करने के लिए पैसे खर्च कर रहे हैं क्योंकि एक बहुत बड़ा, बुरा, जटिल खेल पर्दे के पीछे खेला जा रहा है ताकि लेख वह कह सके कि जो कोई उनसे कहलवाना चाहता है।

बता दें कि लैरी सैंगर ने वेबसाइट चलाने के तरीके को लेकर सह-संस्थापक जिमी वेल्स के साथ पैदा हुए मतभेदों के कारण विकिपीडिया छोड़ दिया था। तब से वह इसके वामपंथी झुकाव की वजह से इसके कट्टर आलोचक बन गए हैं। इससे पहले उन्होंने कहा था कि विकिपीडिया एक बहुत बड़ा नैतिक खतरा बन गया है।

साभार-https://hindi.opindia.com/ से

image_pdfimage_print


Leave a Reply
 

Your email address will not be published. Required fields are marked (*)

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

सम्बंधित लेख
 

Back to Top