Sunday, May 19, 2024
spot_img
Homeमीडिया की दुनिया से10 साल में 40 फीसदी कंपनियों का अस्तित्व खत्म हो जाएगा: सिसको...

10 साल में 40 फीसदी कंपनियों का अस्तित्व खत्म हो जाएगा: सिसको के सीईओ

सिसको लाइव के नाम से सिसको की भव्य कस्टमर कॉन्फ्रेंस सोमवार को सैन डीएगो में शुरू हुई। इस कॉन्फ्रेंस की खास बात यह थी कि इसमें सिसको के करीब 20 साल तक सीईओ रहे जॉन चेंबर्स ने अपनी आखिरी स्पीच दी क्योंकि अब वह सीईओ पद से रिटायर होने जा रहे हैं। अपनी इस स्पीच में उन्होंने कुछ सनसनीखेज भविष्यवाणियां करके इसे यादगार बना दिया।

उन्होंने स्पीच के दौरान कहा कि आज जितने बिजनस चल रहे हैं अगले दस सालों में उनमें से एक तिहाई बिजनस का अस्तित्व नहीं रहेगा। सिर्फ वही बिजनस जिंदा रहेंगे जो अपनी कंपनियों को डिजिटल और टेकी वर्जन में बदल देंगे और उनमें से बहुत सी कंपनियां ऐसा करने में असफल हो जाएंगी।

उन्होंने 25,000 श्रोतागण की उपस्थिति में कहा, 'दुर्भाग्यवश अगले 10 सालों में सही मायने में 40 फीसदी कंपनियों का अस्तित्व समाप्त हो जाएगा।' उन्होंने कहा कि 70 फीसदी कंपनियां डिजिटल बनने का प्रयास करेंगी जिनमें से सिर्फ 30 फीसदी ही सफल होंगी।

चेंबर्स ने कहा, ' यह दुनिया उतनी ही तेजी से एक डिजिटल वर्ल्ड बन जाएगी जिस तेजी से टेक्नॉलजी कंपनियां बदल रही हैं। उन्होंने कहा कि जमाने का यह बदलाव हमारे जीवन , हमारे स्वास्थ्य, हमारी शिक्षा और हमारे बिजनस मॉडल्स को बदलकर रख देंगे।' उन्होंने कंपनियों को चेताया कि उनको मार्केट में हो रहे बदलाव या बिजनस मॉडल बदलने के अवसर से चूकना नहीं चाहिए या वे अपने भविष्य और अतीत के प्रतिद्वंद्वी को कम करके नहीं आंक सकती हैं। उन्होंने कहा, 'या तो हमें खुद को बदलना होगा या हम बहुत पीछे छूट जाएंगे।' चेंबर्स ने कहा कि नए जमाने की स्टार्टअप्स सभी सेक्टर को बदलकर रख देना चाहती है जैसा ऊबर ने टैक्सी और एयरबीएनबी ने होटेल्स के सेक्टर में किया है।

उन्होंने जेपीमॉर्गन चेज के सीईओ जेमी डीमोन के शेयरधारकों को लिखे गए वार्षिक पत्र का उद्धरण पेश किया जिसमें चेतावनी दी गई है कि 'सिलिकन वैली आ रही है'। डीमोन के कहने का मतलब था कि स्टार्टअप्स लोन से लेकर पेमेंट तक हर चीज के लिए नए बैंकिंग ऐप्स तैयार कर रही हैं यानी सारा काम डिजिटल रूप में बदलता जा रहा है।

चेंबर्स ने उस दर्दभरे बदलाव के बारे में बात की जिससे सिसको पिछले तीन सालों में गुजरा है। इस बदलाव का नतीजा यह निकला कि सिसको की 25,000 इंजिनियर की टीम में भारी फेरबदल हुआ और 92 में से 24 लीडर्स निकल गए। उन्होंने कहा कि इसी प्रकार का भारी फेरबदल सेल्स एवं ऐडमिनिस्ट्रेटिव रैंकों पर हुआ।

उन्होंने कहा, 'सिसको ने क्लायंट को फेस करने वाले हमारे 41 फीसदी ऐग्जिक्युटिव्स को बदल दिया है। हमें बदलना होगा या हम बहुत पीछे रह जाएंगे।' चेंबर्स ने बताया कि कंपनी ने अपनी 62 बिजनस इकाइयों को बंद कर दिया है और उनका पुनर्गठन करके दो ग्रुप एंटरप्राइज एवं सर्विस प्रोवाइडर बना दिया है। 

साभार- इकॉनामिक टाईम्स से 

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -spot_img

वार त्यौहार