ताजा सामाचार

आप यहाँ है :

 

  • 400 वर्ष पुरानी परम्परा बुझा रही ‘दतिया’ की प्यास

    400 वर्ष पुरानी परम्परा बुझा रही ‘दतिया’ की प्यास

    म.प्र. दतिया के प्रथम शासक की छोटी सी रियासत पहाड़ों तथा जंगलों के बीच घिरी बडोनी से शुरू हुई थी लेकिन समाप्त ओरछा के शासक बनने पर हुई। दतिया राज्य के अंग बुंदेलखंड राज्य की नींव कन्नौज के गुर्जर-प्रतिहारों तथा चंदेलों ने डाली थी। सबसे पहले बुंदेला राजा रुद्रप्रताप ने अप्रैल 1531 में बुंदेलों की […]

  • यात्रियों के मनपसंद बिस्तर के लिए रेल्वे ने शुरु किया सर्वे

    यात्रियों की सुविधाओं और सेवा में सुधार को ध्यान में रखते हुए रेल मंत्रालय ने यात्रियों के मनपसंद बिस्तरों के लिए ऑनलाइन सर्वेक्षण शुरू किया है, जिसमें उसके रंग और पसंदीदा डिजाइन के साथ साफ सफाई और स्वच्छता से जुड़े सभी पहलुओं को भी ध्यान में रखा जाएगा। मंत्रालय ने अपनी वेब्साइट (डब्ल्यू डब्ल्यू डब्ल्यू […]

  • अरविंद तुकांत कोश से घर बैठे कवि बन कविता लिखिए

    अपने जून मेँ छपने वाले अरविंद तुकांत कोश के बारे मेँ उस की अपनी भूमिका मेँ से कुछ अंश दे रहा हूँ. प्रकाशक है मेरी अपनी कंपनी – अरविंद लिंग्विस्टिक्स प्रा लि, ई-28 (प्रथम तल), कालिंदी कालोनी, नई दिल्ली – 110065 – संपर्क मीता लाल) अरविंद तुकांत कोश वाचिक कविता करने वालों के काम का तो है ही, प्रयोगवादी छंदमुक्त कविता, रेडियो जिंगल, टीवी विज्ञापनों और फ़िल्म […]

  • ‘गुरू’ ‘ पूर्णिमा’ का चाँद है

    ओशो ने हमारी भारतीय परंपराओं और रीति-रिवाजों पर बेहद गहन और सूक्ष्म दृष्टि से अपना विवेचन प्रस्तुत किया है। उन्होंने हमारी परंपराओं में व्याप्त विकृतियों को भी उघाड़ा है तो इन परंपराओं में छुपी गहरी अध्यात्मिकता, वैज्ञानिकता और सामाजिक उपयोगिता को भी स्थापित करने का प्रयास किया है। ओशो ने कई शब्दों और परंपराओं को […]

  • पुरूष को महापुरूष बनाने में गुरू का ही योगदान: दिनेश मुनि

      शिर्डी।  श्रमण संघीय सलाहकार दिनेष मुनि ने कहा कि गुरुपूर्णिमा का दिवस गुरुओं को वंदन करने और उनके प्रति कृतज्ञता ज्ञापित करने का दिन है। आज के दौर में पुराने गुरुओं की जरुरत महसूस हो रही है, पैसा लेकर मार्ग दिखाने वाला गुरु नहीं हो सकता, गुरु वह है जो सत्य, अहिंसा का मार्ग […]

  • 2 चाय के खर्चे में 1 करोड़ का टर्म इंश्योरेंस

    आजकल महंगाई बहुत बढ़ गई है। लेकिन इस बढ़ती महंगाई में आप थोड़ी सी समझदारी दिखाएं तो अपने परिवार की रिस्क को कवर कर सकते हैं। आप बहुत कम खर्च में अपने परिवार को सुरक्षा दे सकते हैं। जीहां सिर्फ रोजाना 2 चाय के खर्च में आप अपने परिवार को 1 करोड़ के इंश्योरेंस की […]

  • बाहुबली ने मचाई खलबली

    ये सवाल मन में कई बार उठता रहा कि क्या कोई फिल्म कभी पूरे भारत का प्रतिनिधित्व कर पाएगी? क्या कभी कोई फिल्मकार ऐसी फिल्म बना पाएगा, जिसमें कश्मीर से लेकर कन्याकुमारी तक आमजन जुड़ पाए? बाहुबली ने ये सारे जवाब बेहद सहजता से दे डाले हैं।   ज्यादा नहीं बस दो साल पहले की […]

  • विरोध इसलिए कि संस्थान में संस्कारवान लोग नहीं चाहिए

    मुंबई फिल्म उद्योग के ज्यादातर दिग्गज जहां जहां बाहुबली पर मुंह सिले हुए हैं वहीं वे एफटीआईआई में अध्यक्ष पद पर फिल्म एवं टीवी अभिनेता गजेन्द्र चौहान की नियुक्ति के मामले में खूब मुखर दिखते हैं। ऋषि कपूर और उनके बेटे रणबीर कपूर ने क्या बयान दिए, ये सब जानते हैं। अब कोई इनसे पूछे […]

  • डाककर्मी के पुत्र मुंशी प्रेमचंद ने लिखी साहित्य की नई इबारत – कृष्ण कुमार यादव

    हिन्दी साहित्य के इतिहास में उपन्यास सम्राट के रूप में अपनी पहचान बना चुके मुंशी प्रेमचंद के पिता अजायब राय श्रीवास्तव डाकमुंशी के रूप में कार्य करते थे। ऐसे में प्रेमचंद का डाक-परिवार से अटूट सम्बन्ध था।  पोस्टमास्टर जनरल कार्यालय में प्रेमचंद की जयंती पर आयोजित एक समारोह में उक्त उद्गार  राजस्थान पश्चिमी क्षेत्र के […]

  • कुशलतायुक्त पुरुषार्थ आज की जरूरत – स्वामी धर्मबंधु

    भोपाल। कुशलतायुक्त पुरुषार्थ आज की आवश्यकता है। एक साथ मिलकर रहना और एक-दूसरे का सम्मान करना हमें सीखना चाहिए। बुद्धि एवं विचार के मामले में भारतीय दुनिया में सबसे आगे हैं, परंतु संगठन निर्माण में पीछे रह जाते हैं। दुनिया में वह देश सबसे शक्तिशाली होगा, जहाँ लोग मिलकर रहेंगे और एक-दूसरे का सम्मान करेंगे। […]

Back to Top