आप यहाँ है :

राज्यपाल ने उ.प्र. में उत्कृष्ट कार्य करने वाले डाककर्मियों को ‘डाक सेवा अवार्ड’ से किया सम्मानित

लखनऊ। उत्तर प्रदेश डाक परिमंडल में विभिन्न क्षेत्रों में उत्कृष्ट कार्य करने वाले डाककर्मियों को उत्तर प्रदेश के राज्यपाल श्री राम नाईक ने लखनऊ जीपीओ में आयोजित एक भव्य समारोह में ‘डाक सेवा अवार्ड-2018’ से सम्मानित किया। राष्ट्रीय डाक सप्ताह के समापन अवसर पर 15 अक्टूबर को आयोजित कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि राज्यपाल ने वैयक्तिक श्रेणी में 6 डाक कर्मियों और स्वच्छता हेतु 3 कार्यालयों सहित कुल 9 डाक सेवा अवार्ड प्रदान किये। इसके अंतर्गत लखनऊ जीपीओ के पोस्टमैन श्री भरत सिंह, मैनपुरी में सहन शाखा डाकघर के ब्रांच पोस्टमास्टर श्री सतेंद्र सिंह, क्षेत्रीय कार्यालय गोरखपुर के डाक सहायक श्री नीतीश गौड़, परिमंडल कार्यालय, लखनऊ के अनुभाग पर्यवेक्षक श्री रंजीत सिंह, उरई उपमंडल, झाँसी के सहायक डाक अधीक्षक श्री राजीव तिवारी और गाजियाबाद मंडल की प्रवर डाक अधीक्षक सुश्री प्रियंका मिश्रा को ‘डाक सेवा अवार्ड’ के तहत प्रशस्ति-पत्र और नकद राशि देकर राज्यपाल द्वारा सम्मानित किया गया। स्वच्छ्तम कार्यालय के तहत डाकघर श्रेणी में लखनऊ जीपीओ, रेल डाक सेवा कार्यालय श्रेणी में झांसी आरएमएस और स्पीड पोस्ट सेण्टर श्रेणी में स्पीड पोस्ट सेंटर, आगरा को सम्मान मिला।

इस अवसर पर अपने सम्बोधन में राज्यपाल श्री राम नाईक ने कहा कि, भारतीय डाक विभाग देश के सबसे पुराने विभागों में से एक है। 164 वर्षो के अपने सफ़र में चरैवेति-चरैवेति भावना के साथ डाक विभाग नित्य आगे बढ़ रहा है। देश में बचत खाते की शुरुआत डाकघरों से हुई और हाल ही में प्रधानमंत्री जी ने समाज के अंतिम व्यक्ति का खाता खोलने की पहल करते हुए इण्डिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक का शुभारम्भ किया। पेमेंट बैंक आरम्भ होने के बाद प्रदेश में बैंको से भी ज्यादा शाखाये डाकघरो के पास हैं। राज्यपाल ने स्वच्छता अभियान की चर्चा करते हुए स्वच्छता हेतु कार्यालयों को दिए जा रहे डाक सेवा अवार्ड की सराहना की। उन्होंने कहा कि संचार के बदलते साधनों के साथ नवीन टेक्नोलॉजी को अपनाते हुए डाकघरों ने जनोपयोगी सेवाओं को समाज के अंतिम व्यक्ति तक पहुँचाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। केंद्र सरकार की तमाम अग्रणी योजनाओं को डाक विभाग के माध्यम से प्रमुखता से लागू किया जा रहा है। लखनऊ जीपीओ की स्थापत्य कला, सजावट और यहाँ के काउंटर मैनेजमेंट को देखकर राज्यपाल ने कहा की यहाँ आकर एयरपोर्ट की अनुभूति होती है

इस अवसर पर उत्तर प्रदेश के चीफ पोस्टमास्टर जनरल श्री विनय प्रकाश सिंह ने उत्तर प्रदेश में डाक सेवाओं के बढ़ते कदम की चर्चा करते हुए कहा कि बदलते परिवेश में डाक विभाग नई भूमिका निभाने के लिए तत्पर है। बचत, बैंकिंग, बीमा, ई-कॉमर्स जैसे क्षेत्रों में डाकघर नवीन टेक्नालॉजी के साथ लोगों की जरूरतें पूरा कर रहे हैं । इण्डिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक आरम्भ होने के बाद दूर-दराज के ग्रामीण क्षेत्रों में भी डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर के तहत तमाम सामाजिक सुरक्षा योजनाओं का पैसा सीधे लोगों के खाते में पहुँच जायेगा। समाज के अंतिम व्यक्ति तक सरकार की तमाम सामाजिक सुरक्षा और जनकल्याणकारी योजनाओं को क्रियान्वित करने के लिए डाक विभाग प्रतिबद्ध है।

लखनऊ परिक्षेत्र के निदेशक डाक सेवाएँ श्री कृष्ण कुमार यादव ने आभार ज्ञापन करते हुए कहा कि उत्तर प्रदेश की डाक सेवाओं के इतिहास में यह पहली बार है जब राज्यपाल महोदय द्वारा उत्कृष्ट सेवाओं हेतु “डाक सेवा अवार्ड” दिए जा रहे हैं। सम्मान और पुरस्कार सदैव प्रोत्साहन का कार्य करते हैं और लोगों के लिए प्रेरणा का कार्य भी करते हैं। ऐसे में यह सुअवसर डाक विभाग को और भी ऊँचाइयों पर ले जायेगा।

इस अवसर पर बरेली क्षेत्र के पोस्टमास्टर जनरल श्री आरकेबी सिंह, आगरा क्षेत्र की पोस्टमास्टर जनरल श्रीमती मनीषा सिन्हा, कानपुर क्षेत्र के पोस्टमास्टर जनरल श्री विनोद कुमार वर्मा, वाराणसी क्षेत्र के पोस्टमास्टर जनरल श्री प्रणव कुमार, गोरखपुर क्षेत्र के पोस्टमास्टर जनरल श्री संजय सिंह, निदेशक मुख्यालय श्री राजीव उमराव, चीफ पोस्टमास्टर श्री योगेंद्र मौर्य, सहायक निदेशक आर. एन. यादव, भोला शाह, आरके मिश्र, ओम प्रकाश चौहान, एपी अस्थाना, मधुसूदन मिश्र, टीपी सिंह सहित तमाम विभागीय अधिकारी-कर्मचारी उपस्थित रहे। कार्यक्रम का संचालन डॉ. जेके अवस्थी ने किया।



सम्बंधित लेख
 

Back to Top