आप यहाँ है :

अमरीका के ह्यूस्टन में प्रकृति के खौफ का ये नज़ारा आपको सिहरा देगा

#आर्कटिक #ब्लास्ट के कारण रविवार रात से जो स्थिति बिगड़नी प्रारम्भ हुई कि हमारे यहाँ सोमवार को तापमान शून्य से 13 डिग्री सेल्सियस नीचे चला गया। पूरे राज्य में कोहराम व ताण्डव मच गया। ऊपर से पॉवर ग्रिड और पॉवर जेनेरेटर तहस-नहस हो गये।

अभी भी नगर के 14 लाख घरों में 4 दिन से बत्ती नहीं है, बहुत-से क्षेत्रों में पानी नहीं है, स्थान-स्थान पर पानी के पाईप जम जाने से फट चुके हैं, सड़कों पर बर्फ है तो उस से वाहन फिसलने से होने वाली दुर्घटनाएँ घट रही हैं, लोगों के घरों व भवनों में आग लग रही है किन्तु पानी का प्रेशर न होने के कारण फायर ब्रिगेड आग बुझाने में असमर्थ है, स्कूल-ऑफिस बन्द हैं, बिजली न होने से इन्टरनेट और फोन सेवा बाधित है, और मोबाईल चार्ज ही नहीं हो सकते, भयावह ठण्ड में बिना ताप व हीटिंग के कई लोग प्राण गँवा चुके, बिजली न होने से चूल्हे नहीं जल सकते तो कई लोगों के पास पेट भरने का कोई विकल्प नहीं है, कुछ लोग कार-इञ्जिन स्टार्ट कर स्वयं को ठण्ड से बचाने बैठे तो कार्बन मोनो-ऑक्साईड से प्राण चले गए, कुछ लोग घर के भीतर कोयले या लकड़ी का अलाव जला बैठे तो भी मोनो- ऑक्साईड से जीवन चला गया। ऊपर से ऐसे भयावह समय में जब हिम-तूफान चल रहा है, कर्मचारी कार्य करने में असमर्थ हैं। घरों से बाहर निकलने में असमर्थ हैं। दुकानें-बाजार बन्द हैं। ऊपर से कोरोना का कहर जारी है।

‘ह्यूस्टन’ (टेक्सस) समझिए कि अमेरिका का केरल है, एकदम दक्षिण में व मेक्सिको बॉर्डर पर बहुत गर्म व रेतीला प्रदेश है। भीषण गर्मी पड़ती है, अतः लोगों के पास शीत झेल सकने हेतु न गरम वस्त्रों की व्यवस्था है, न हिम पर चल सकने वाले जूतों की। घर भी ठण्ड झेल सकने लायक नहीं बने हैं। जिन स्थानों पर हिमपात और शीत सामान्य घटना है, वहाँ तदनुसार प्रबन्ध भी हैं। किन्तु सोचिए कि यदि केरल में यकायक हिमतूफान आ जाये तो क्या स्थिति होगी। बस ह्यूस्टन व आसपास का क्षेत्र इसी दुर्भाग्य से जूझ रहा है।

सौभाग्य से हमारे घर में गैस का फायरप्लेस है, जिसे मैंने स्वयं कुछ वर्ष पूर्व faux wood logs ( कृत्रिम लकड़ी के लट्ठ जो मूलतः सीमेण्ट जैसे किसी पदार्थ से बने होते हैं) से सजावटी प्रयोग हेतु तैयार किया था। उस ने हमारी जीवन रक्षा की है। उस पर डिब्बा बन्द खाद्य-सामग्री गर्म कर व चाय आदि बना हमने यह सप्ताह बिताया। उसी से चिपक धरती पर बैठे-बैठे तीन दिन बिताए।

हम सुरक्षित हैं, सकुशल हैं, स्थिति पहले से ठीक है, यद्यपि हिम-तूफान अभी इस सप्ताह जारी है । हमारी बत्ती फिलहाल लौट आई है, कब तक रहेगी, नहीं पता। राज्य को भीषण आपदा ग्रस्त क्षेत्र घोषित किया गया है।

साभार https://www.facebook.com/kvachaknavee से

(लेखिका अमरीका में रहती हैं और वरिष्ठ साहित्यकार हैं)

image_pdfimage_print


Leave a Reply
 

Your email address will not be published. Required fields are marked (*)

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

सम्बंधित लेख
 

Back to Top