आप यहाँ है :

संघ और राजनीति

आज नौ दशकों से अधिक की यात्रा पूरी कर चुके राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ को लेकर आजादी के बाद से ही राष्ट्र-विरोधी शक्तियों द्वारा भ्रम एवं दुराग्रहों का दुष्प्रचार कर उसकी छवि को बिगाड़ने का प्रयास किया जाता रहा है। यहां तक की दो-दो बार उसपर प्रतिबंध लगाकर उसे समाप्त करने की कोशिश भी की गई है।

मगर, इन सब अवरोधों के बावजूद संघ अपनी गति से बढ़ते हुए आज न केवल भारत अपितु पूरे विश्व का सबसे बड़ा सांस्कृतिक संगठन बन चुका है। साथ ही, संघ के स्वयंसेवक रहे नाम आज देश के शासन के शीर्ष पर काबिज हैं।

यह सब बातें तमाम दुष्प्रचारों के बावजूद भारतीय जनमानस के बीच संघ की विराट स्वीकृति को ही दर्शाती हैं। जिन्होंने कभी संघ को बदनाम करने का प्रयास किया आज वे अपने अस्तित्व के लिए संघर्ष कर रहे हैं। लेकिन तब भी संघ को लेकर उनका नज़रिया नहीं बदला और अब भी उनका दुष्प्रचार जारी है।

फिर चाहें वो हिन्दू आतंकवाद की मनगढ़ंत थ्योरी हो या गांधी जी की हत्या से संघ को जोड़ना हो अथवा संघ को दलित-विरोधी बताना हो आदि तमाम भ्रामक धारणाएं समाज में रोपने का प्रयास आज भी किया जा रहा है।

ऐसे में संघ विचारक, राष्ट्रवाद के प्रखर स्वर एवं राज्यसभा सांसद राकेश सिन्हा की यह पुस्तक ‘संघ और राजनीति’ न केवल संघ से जुड़े उक्त सभी दुष्प्रचारों की सच्चाई सामने लाती है, अपितु संघ वास्तव में क्या है, यह भी बताती है।

यह किताब अमेज़न पर उपलब्ध हो चुकी है और फिलहाल छूट के साथ 219 पन्नों की यह किताब मुफ्त डिलीवरी के साथ मात्र 199/- रुपये में प्री-ऑर्डर के लिए उपलब्ध है। संघ को जानने-समझने के इच्छुक हर संघ प्रेमी के पास यह किताब होनी चाहिए। अतः देर मत कीजिये और अभी अमेज़न पर जाकर अभी अपनी प्रति सुरक्षित कर लीजिए –

अमेज़न लिंक – https://www.amazon.in/dp/9381130892/ref=cm_sw_r_wa_apa_i_CCSIFbAM8N76M

#padhenyashaswibanenyashaswi

image_pdfimage_print


सम्बंधित लेख
 

Back to Top