आप यहाँ है :

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड ने 10वीं और 12वीं में छात्रों पर से बोझ हटाया

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) ने 10वीं और 12वीं में कई अकादमिक और वोकेशनल विषयों को नए सत्र से समाप्त करने की घोषणा कर दी है. सीबीएसई के डायरेक्टर एकेडमिक संयम भारद्वाज ने इस बाबत सभी स्कूलों को निर्देश जारी किए हैं. सीबीएसई निदेशक द्वारा जारी निर्देश में कहा गया है कि कुछ अकादमिक व वोकेशनल विषयों को समाप्त किया जा रहा है. इसलिए स्कूल 9वीं और 11वीं के इस कोर्स को ऑफर न करें. जो छात्र इसे ले चुके हैं वह 10वीं और 12वीं में इन्हें जारी रख सकते हैं. इसके अलावा आदेश में बताया गया है कि इस सत्र से कुछ विषयों के नाम भी बदल दिए गए हैं.

9वीं के पाठ्यक्रम में सीबीएसई ने किया बदलाव
आदेश के मुताबिक इस सत्र (2018-19) से 9वीं कक्षा में अंग्रेजी कम्युनिकेशन, इंफॉर्मेशन एंड कम्युनिकेशन टेक्नोलॉजी, ई-पब्लिशिंग और ई-ऑफिस विषय को समाप्त किया गया है. इसके अलावा संस्कृत कम्युनिकेशन का नाम बदलकर संस्कृत कर दिया गया है. जबकि फाउंडेशन आफ इंफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी के स्थान पर अब कंप्यूटर एप्लीकेशंस विषय पढ़ाया जाएगा. आदेश के मुताबिक जो विषय बदले गए हैं उनके कोड नहीं बदले गए हैं.

बदल गया है 11वीं का भी पाठ्यक्रम
इसी तररह 11वीं में डांस- मोहिनीअट्टम, मल्टी मीडिया वेब टेक्नोलॉजी के साथ-साथ इंग्लिश इलेक्टिव विषय को भी समाप्त कर दिया गया है. आदेश में बताया गया है कि इस साल कंप्यूटर साइंस के दो कोर्स लाए गए हैं. कंप्यूटर साइंस के नए कोर्स और कंप्यूटर साइंस के पुराने कोर्स में से स्कूलों को कोई एक ही कोर्स चुनने की सलाह दी है. इसके अलावा स्कूलों को आदेश में यह भी सलाह दी गई है कि यदि स्कूल कंप्यूटर साइंस विषय पढ़ा रहे हैं तो उसे नए करिकुलम के साथ शुरू करें. इसके अलावा इस बात का भी जिक्र है कि कंप्यूटर साइंस के अध्यापकों को भी नए पाठ्यक्रम के हिसाब से तैयारी कराई जाए क्योंकि अगले साल (2019-20) में केवल नया कोर्स ही पढ़ाया जाएगा.

आदेश में बताया गया है कि इसके अलावा एग्रीकल्चर, फैशन स्टडीज और मास मीडिया स्टडीज को वोकेशनल कोर्स के साथ जोड़ा जाएगा.



सम्बंधित लेख
 

Back to Top