आप यहाँ है :

पश्चिम रेलवे के महाप्रबंधक द्वारा रतलाम मंडल का निरीक्षण

मुंबई। पश्चिम रेलवे के महाप्रबंधक श्री आलोक कंसल ने हाल ही में रतलाम मंडल के अपने दो दिवसीय दौरे के दौरान यात्री सुविधाओं के विभिन्न प्रमुख मापदंडों का निरीक्षण किया और रतलाम मंडल में चल रहे विकास कार्यों की प्रगति की समीक्षा की। इस दौरान श्री कंसल ने मंडल रेलवे अस्पताल और रतलाम डीजल लोको शेड में उपलब्ध कराई गई नवीनतम सुविधाओं का उद्घाटन किया। उन्होंने रतलाम- पालिया के साथ- साथ डॉ. अम्बेडकर नगर- कालाकुंड रेल खंडों का विंडो ट्रेलिंग निरीक्षण भी किया। महाप्रबंधक के साथ मंडल रेल प्रबंधक और रतलाम मंडल के सम्‍बंधित शाखा अधिकारी भी निरीक्षण के दौरान शामिल थे।

पश्चिम रेलवे के मुख्य जनसम्पर्क अधिकारी श्री सुमित ठाकुर द्वारा जारी प्रेस विज्ञप्ति के अनुसार महाप्रबंधक ने रतलाम मंडल के अपने निरीक्षण दौरे के पहले दिन विभिन्न विकास कार्यों के साथ संरक्षा एवं सुरक्षा से सम्बंधित कार्यों की प्रगति की समीक्षा की। श्री कंसल ने रतलाम स्टेशन पर नये कमीशन किये गये स्व-चालित निरीक्षण वाहन का उद्घाटन किया, जो व्यस्त मार्ग पर संरक्षा निरीक्षण करने में बहुत उपयोगी होगा। महाप्रबंधक ने रतलाम में मंडल रेलवे अस्पताल का भी निरीक्षण किया और 500 लीटर एलएमओ प्रति मिनट की उत्पादन क्षमता वाले पीएसए आधारित ऑक्सीजन जनरेटर संयंत्र, मॉड्यूलर ऑपरेशन थियेटर के साथ-साथ पोर्टेबल एक्स-रे मशीन का उद्घाटन किया।

उन्होंने मौजूदा ऑक्सीजन प्लांट, आईसीयू स्टोर, फिजियोथेरेपी कक्ष का भी निरीक्षण किया और इंडोर और ओपीडी रोगियों से बातचीत भी की। उन्होंने मुख्य चिकित्सा अधीक्षक को ओपीडी सेवाओं में सुधार लाने और प्रतीक्षा समय कम करने के निर्देश दिये। इसके बाद महाप्रबंधक ने डीजल लोको शेड, रतलाम का निरीक्षण किया। श्री कंसल ने उपस्थित अधिकारियों के साथ विभिन्न तकनीकी पहलुओं का विस्तार से जायजा लिया और इंफ्रास्ट्रक्चर सम्बंधी विभिन्न कार्यों में तेजी लाने पर जोर दिया। महाप्रबंधक ने इलेक्ट्रिकल लोको मॉडल रूम, रिवर्स टेस्ट बेंच, इलेक्ट्रिकल लोको गैलरी, क्वालिटी एश्योरेंस सेल जैसी विभिन्न सुविधाओं का भी उद्घाटन किया। उन्होंने डीजल ट्रैक्शन ट्रेनिंग सेंटर और डीजल शेड के अन्य अनुभागों का भी निरीक्षण किया।

श्री कंसल ने लोको शेड के कर्मचारियों द्वारा विकसित कर्टेन वाटर फाउंटेन की सराहना की। बाद में उन्होंने संशोधित विद्युत लोको 23383- डब्ल्यूएजी 5 एच को झंडी दिखाकर रवाना किया, जिसे बाद में सेवा में लगाया गया। महाप्रबंधक ने उत्पादन की गुणवत्ता और इकाई लागत अवधारणा के अनुपालन की आवश्यकता पर बल दिया।

श्री ठाकुर ने बताया कि महाप्रबंधक ने मंडल रेल प्रबंधक और सभी शाखा अधिकारियों के साथ बैठक कर मंडल की उपलब्धियों, कोरोना काल में किए गए उल्लेखनीय कार्यों, यात्री सुविधा से सम्बंधित कार्यों और चल रही विभिन्न परियोजनाओं की प्रगति एवं उनके पूर्ण होने की अनुमानित तारीख और ढाँचागत विकास सम्बंधी कार्यों आदि की समीक्षा की। श्री कंसल ने मंडल द्वारा किए गए कार्यों की गति की सराहना की, जिनमें से कई कार्यों को निर्धारित लक्ष्य अवधि के भीतर पूर्ण किया गया है। बाद में, श्री कंसल ने मीडिया प्रतिनिधियों के साथ बातचीत की और उन्हें मंडल में यात्रियों से सम्बंधित विभिन्न उपयोगी सूचनाओं और चल रहे कार्यों की प्रगति से अवगत कराया। तत्पश्चात श्री कंसल ने रतलाम- पालिया खंड का विंडो ट्रेलिंग निरीक्षण किया। महाप्रबंधक द्वारा सम्‍बंधित संरक्षा अधिकारियों को समुचित मार्गदर्शन भी दिया गया।

श्री ठाकुर ने बताया कि निरीक्षण के दूसरे दिन महाप्रबंधक श्री कंसल ने डॉ. अम्बेडकर नगर रेलवे स्टेशन का दौरा किया और स्टेशन पर यात्रियों की सुविधा का जायजा लेने के साथ-साथ जन प्रतिनिधियों और मीडियाकर्मियों से भी बातचीत की। उन्होंने कहा कि डॉ. अम्बेडकर नगर – कालाकुंड खंड को और अधिक बेहतर ढंग से विकसित किया जायेगा, ताकि यात्रियों और पर्यटकों को यात्रा के दौरान सुखद यात्रा का रोमांचक अनुभव मिल सके। उल्लेखनीय है कि हाल ही में इस खंड पर चलने वाली हेरिटेज ट्रेन में 2 विस्टाडोम कोच शामिल किये गये हैं, जिन्हें बहुत अच्छी प्रतिक्रिया मिल रही है।

महाप्रबंधक ने विशेष ट्रेनों द्वारा डॉ. अम्बेडकर स्टेशन- कालाकुंड मीटर गेज खंड का विंडो ट्रेलिंग निरीक्षण भी किया। इस निरीक्षण के दौरान निर्माण अधिकारियों के साथ खंडवा -महू गेज परिवर्तन परियोजना की प्रगति की भी समीक्षा की गई। महाप्रबंधक द्वारा प्रमुख विभागाध्‍यक्षों और मंडल रेल प्रबंधक को जनता की प्रतिक्रिया प्राप्त करने के लिए ब्रॉड गेज और मीटर गेज दोनों खंडों में लोकल डेमू/ मेमू ट्रेनें शुरू करने के निर्देश दिये गये। महाप्रबंधक ने इस क्षेत्र में बेहतरीन पर्यटन को बढ़ावा देने हेतु पातालपानी- कालाकुंड रेल खंड के विकास के लिए मध्‍य प्रदेश पर्यटन निगम के प्रबंध निदेशक से भी बातचीत की।

image_pdfimage_print


सम्बंधित लेख
 

Back to Top