आप यहाँ है :

एलिफेंटा के प्राचीन परिसर में पारंपरिक बुनकरों के बीच पहुँची स्मृति ईरानी

भारतीय कपड़ा उद्योग को विश्व पटल पर स्थापित करने में बुनकरों की भूमिका अहम हैं। लघु व मध्यम उद्यम अर्थव्यवस्था की रीढ़ की हड्डी है और अपने हुनर से उन्होंने कई पीढ़ियों से देश की इस विरासत को जिंदा रखा है। ये विचार केंद्रीय वस्त्र मंत्री श्रीमती स्मृति ईरानी ने वस्त्र मंत्रालय द्वारा मुंबई के प्रसिध्द एलिफेंटा गुफा पर आयोजित आयोजित कार्यक्रम ‘आर्टिसन स्पीक-2019’ को संबोधित करते हुए व्यक्त किए। उन्होंने कहा कि इस प्राचीन जगह पर बने हुए मूर्ति शिल्पों में हमारी सैकड़ों साल पुरानी वस्त्र कला की झलक मिलती है। श्रीमती ईरानी ने भारत सरकार के वस्त्र सचिव श्री राघवेंद्र सिंह की इस बात पर प्रशंसा की कि उन्होंने देश भर में जगह जगह फैले बुनकरों और देश के कपड़ा उद्योग को एक मंच पर लाकर बुनकरों द्वारा तैयार विभिन्न तरह के परिधानों और कपड़ों को एक नया बाज़ार उपलब्ध कराकर उन्हेें बिचौलियों से मुक्ति दिलाई है।

इस अवसर पर क्रिकेट खिलाड़ी सचिन तेंदुलकर भी उपस्थित थे। फैशन शो के साथ ही कपड़ा मंत्रालय की ओर से कपड़ा आयुक्त और कपड़ा सचिव ने कपड़ा निर्माता कंपनियों के साथ साझा अनुबंध पर हस्ताक्षर किए। इस आयोजन का प्रमुख आकर्षण एलिफेंटा गुफाओं का ऐतिहासिक व पुरातात्विक महत्व का परिसर भी था, और यहाँ आए फैशन डिज़ाईऩरों से लेकर उद्योगपति व अन्य अतिथि मुंबई शहर की चकाचौंध से दूर प्राकृतिक जगह पर इस आयोजन को लेकर रोमांचित थे।



सम्बंधित लेख
 

Back to Top