Sunday, June 16, 2024
spot_img
Homeखबरेंओड़िशा के राज्यपाल ने कीट में कार्डियोपल्मोनरी पुनर्जीवन प्रशिक्षण कार्यक्रम का...

ओड़िशा के राज्यपाल ने कीट में कार्डियोपल्मोनरी पुनर्जीवन प्रशिक्षण कार्यक्रम का शुभारंभ किया

भुवनेश्वर। कीट में एक विशाल कार्डियोपल्मोनरी पुनर्जीवन (सीपीआर) प्रशिक्षण कार्यक्रम का उद्घाटन मंगलवार को ओडिशा के राज्यपाल प्रो गणेशी लाल द्वारा हुआ। कीट के सहयोग से श्री जगन्नाथ सेवा फाउंडेशन और श्री सत्य साईं सेवा संगठन द्वारा आयोजित प्रशिक्षण कार्यक्रम में मुख्य आयकर आयुक्त कृष्ण किशोर जस्टि, सत्य साईं ट्रस्ट के ट्रस्टी अक्षय मणि, प्रख्यात पुनर्जीवन विशेषज्ञ और ओडिशा सरकार के सीपीआर सलाहकार दा वेमुरी एस मूर्ति, कीट और कीस के संस्थापक प्रो अच्युत सामंत प्रमुख वक्ता के रूप में भाग लिये और अपने विचार व्यक्त किये। वर्तमान समय में हृदय रोगियों की संख्या बढ़ रही है, ऐसे वक्त में कैसे आम नागरिक तुरंत उनकी मदद कर सकते हैं। आज कुल लगभग 1500 लोगों को विभिन्न चरणों में प्रशिक्षण दिया जाता है जबकि कीट और कीस के विद्यार्थियों एवं स्टाफ को 18 माह में प्रशिक्षण प्रदान किया जायेगा। यह प्रशिक्षण कीस में पढ़ने वाले छात्रों के लिए विशेष रूप से सहायक होगा और ओडिशा के विभिन्न क्षेत्रों में रहने वाले आदिवासी समुदायों की स्वास्थ्य स्थिति को बेहतर बनाने में मदद करेगा।

इस मौके पर राज्यपाल प्रोफेसर गणेशी लाल ने कहा कि प्रकृति के पास हर तरह की बीमारी का इलाज मौजूद है। लेकिन अब हम प्रकृति की रक्षा करने के बजाय उसे नुकसान पहुंचा रहे हैं। राज्यपाल ने कहा कि सतर्कता बरतनी चाहिए। प्रो अच्युत सामंत ने कहा कि आजकल जीवनशैली में बदलाव के कारण हम हार्ट अटैक जैसी बीमारियों से पीड़ित हो रहे हैं। इससे बचने के लिए हमें अपनी जीवनशैली में बदलाव करना होगा। सीपीआर प्रशिक्षण कार्यक्रम सत्यसाईं सेवा संगठन की एक अच्छी पहल है। यह प्रशिक्षण कई लोगों को दिल के दौरे के दौरान मरने से बचाने में मदद कर सकता है। प्रो सामंत ने कहा कि कीट और कीस के सभी छात्रों और कर्मचारियों को सीपीआर प्रशिक्षण प्रदान किया जाएगा। उन्होंने कहा कि इस प्रशिक्षण को प्राप्त करने के बाद कीस छात्र अपने-अपने क्षेत्र में लोगों को सीपीआर प्रशिक्षण प्रदान कर सकते हैं। उन्होंने राय व्यक्त की कि इससे आदिवासी समुदाय को लाभ हो सकता है। दुनिया भर में हृदय रोग से लाखों लोग मरते हैं। विशेष रूप से हृदय संबंधी समस्याओं को नजरअंदाज करने से अचानक कार्डियक अरेस्ट या कार्डियक अरेस्ट हो सकता है, जिसे हम आमतौर पर दिल का दौरा कहते हैं।

विशेष रूप से भारतीयों में उच्च रक्तचाप और चीनी से भरपूर अस्वास्थ्यकर आहार, व्यायाम की कमी, तंबाकू का उपयोग, तनाव और आनुवंशिकी के कारण हृदय रोग का खतरा होता है। कार्डियक अरेस्ट से पीड़ित 90% लोग तत्काल आपातकालीन देखभाल की कमी के कारण अस्पताल पहुंचने से पहले ही मर जाते हैं, जिसका अर्थ है कि आसपास खड़े लोग कार्डियोपल्मोनरी रिससिटेशन (सीपीआर) प्रदान करने में असमर्थ हैं। कार्डियोपल्मोनरी रिससिटेशन (सीपीआर) तकनीक का उपयोग रक्त परिसंचरण और छाती पर दवाब के माध्यम से कार्डियक अरेस्ट के दौरान हृदय को पुनः आरंभ करने के लिए किया जाता है। यह दिल की धड़कन सामान्य होने तक शरीर के विभिन्न प्रमुख हिस्सों में रक्त परिसंचरण में मदद करता है। कार्डियक अरेस्ट के पहले 4 से 5 मिनट के दौरान जान बचाने में सीपीआर महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। इसे अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर मान्यता प्राप्त है। स्वचालित बाह्य डिफिब्रिलेटर (एईडी) के उपयोग से सीपीआर से दिल के दौरे के पीड़ित को बचाने की संभावना बढ़ जाती है। अतिथियों ने कहा कि 10 वर्ष से अधिक उम्र का कोई भी व्यक्ति थोड़े से प्रशिक्षण के साथ आईईडी और सीपीआर तकनीकों के उपयोग से संबंधित ज्ञान प्रदान करके कई मूल्यवान जीवन बचाने में योगदान दे सकता है।

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -

वार त्यौहार