Monday, April 22, 2024
spot_img
Homeअध्यात्म गंगामाधव वैष्णव ब्रह्म संप्रदाय और उत्तर तोत्रादि मठ एक विशाल आध्यात्मिक समूह

माधव वैष्णव ब्रह्म संप्रदाय और उत्तर तोत्रादि मठ एक विशाल आध्यात्मिक समूह

मध्वाचार्य माध्व वैष्णव ब्रह्म सम्प्रदाय के संस्थापक :-
राम सखा संप्रदाय का पैतृक गुरु घराना “माधव वैष्णव संप्रदाय” और उत्तर तोत्रादि मठ रहा है। यह मूलतः ‘ माध्व वैष्णव सम्प्रदाय’ की एक शाखा है, जो एक संगठित समूह में नहीं बल्कि बिखरे स्वरूप में मिलता है। संत राम सखे इनके अनुयायी थे। माधव सम्प्रदाय के संस्थापक मध्वाचार्य जी थे। मध्वाचार्य भारत में भक्ति आन्दोलन के समय के सबसे महत्वपूर्ण दार्शनिकों में से एक थे। वे पूर्णप्रज्ञ व आनन्दतीर्थ के नाम से भी प्रसिद्ध हैं। वे भगवान नारायण की आज्ञा से वायु देव ने भक्ति सिद्धांत की रक्षा के लिए मंगलूर के वेलालि गांव में माघ शुक्ल सप्तमी संवत 1295 विक्रमी ( 1238 ई.–1317 ई.) को अवतार ग्रहण किया था। मध्वाचार्य को वायु का तृतीय अवतार माना जाता है ।

हनुमान और भीम वायु देव के क्रमशः प्रथम व द्वितीय अवतार थे। मध्वाचार्य कई अर्थों में अपने समय के अग्रदूत थे। जिस मन्दिर में वे रहते थे, वह अब भी ‘उडीपी’ नामक स्थान में विद्यमान है। वहाँ उन्होंने एक चमत्कारपूर्ण कृष्ण की मूर्ति स्थापित की थी। द्वारका के मालावार तट तुलुब के पास एक जहाज समुंद्र में डूब रही थी। इस पर गोपी चन्दन से ढकी श्री कृष्ण जी की सुन्दर मूर्ति थी। भगवान की आज्ञा से मध्वाचार्य ने उडुपी में उस दिव्य मूर्ति की स्थापना कराई थी। इसे महाभारत के योद्धा अर्जुन ने बनाई हुई बताया जाता हैं। ( संदर्भ : श्री भक्तमाल गीता प्रेस,पृष्ठ : 332) ।

उनके द्वारा स्थापित यह सम्प्रदाय भागवत पुराण पर आधारित होने वाला पहला सम्प्रदाय है। रामानंद की भांति चतुष्ट्य संप्रदाय में इसकी भी गणना होती है। भगवान भक्ति को ही मोक्ष का सर्वोपरि साधन मानने वाले रामानुज- सम्प्रदाय के पश्चात एक तीसरा सम्प्रदाय निकला जिसे द्वैत सम्प्रदाय-माध्व सम्प्रदाय– ब्रह्म सम्प्रदाय भी कहते हैं।

महान संत और समाज सुधारक माधवाचार्य:-
माधवाचार्य महान संत और समाज सुधारक थे। इन्होंने ब्रह्म सूत्र और दस उपनिषदों की व्याख्या लिखी। इस संप्रदाय को ब्रह्म संप्रदाय के रूप में भी जाना जाता है, आध्यात्मिक गुरु (गुरु) के उत्तराधिकार में अपने पारंपरिक मूल का उल्लेख करते हुए ब्रह्मा से उत्पन्न हुआ कहा है। इस मूल सम्प्रदाय की स्थापना तेरहवीं शताब्दी के प्रारम्भिक दशकों में हुई।

मध्वाचार्य जी के सिद्धान्त : —
मध्वाचार्य जी के प्रमुख सिद्धान्त निम्न लिखित हैं ।
विष्णु सर्वोच्च तत्त्व है। जगत सत्य है। ब्रह्म और जीव का भेद वास्तविक है। जीव ईश्वराधीन है। जीवों में तारतम्य है।आत्मा के आन्तरिक सुखों की अनुभूति ही मुक्ति है। शुद्ध और निर्मल भक्ति ही मोक्ष का साधन है।मध्वाचार्य ने इस सम्प्रदाय की स्थापना तेरहवीं शताब्दी के प्रारम्भिक दशकों में की थी। श्री राम सखे का गुरु घराना वैष्णव माध्व सम्प्रदाय के उत्तर तोत्रादि मठ से सबंधित है।

माधव सम्प्रदाय की स्थापना:-
माधवाचार्य, एक कट्टर वैष्णव थे, जिन्होंने इस विश्वास को दृढ़ता से आगे बढ़ाया कि विष्णु हिंदू देवताओं में सबसे ऊंचे थे, और किसी भी दावे को स्वीकार करने से इनकार कर दिया कि अन्य हिंदू देवता समान रूप से उच्चतम हो सकते हैं। वे कहते हैं कि शुरुआत में केवल एक ही भगवान नारायण या विष्णु थे । परम दिव्य वास्तविकता जिसे हिंदू परंपराएं ब्राह्मण के रूप में संदर्भित करती और व्यक्तिगत आत्माएं, जिन्हें जीवात्मा के रूप में जाना जाता है , स्वतंत्र वास्तविकताओं के रूप में मौजूद हैं, और ये अलग हैं।

कई मठों की स्थापना :-
माधवाचार्य ने विभिन्न संप्रदायों के विभिन्न आचार्यों को हराकर कई मठों की स्थापना की। माधव के अनुयायी कई अलग-अलग समूहों के हैं, वे हैं, तुलुवा ब्राह्मण , कन्नड़ ब्राह्मण , मराठी ब्राह्मण , तेलुगु ब्राह्मण और कोंकणी भाषी गौड़ सारस्वत ब्राह्मण । इस प्रकार माधव-वैष्णव मत की चौबीस अलग-अलग संस्थाएँ हैं।

लम्बी शिष्य परंपरा और घराने:-
मध्वाचार्य जी ने कई शिष्य बनाये:- 1. सत्यतीर्थ जी, 2. श्री शोभन जी भट्ट 3. श्री त्रिविक्रम जी 4. श्री रामभ्रद जी, 5. विष्णुतीर्थ, 6. श्री गोविन्द जी शास्त्री, 7. पद्मनाभाचार्य जी, 8. जयतीर्थाचार्य, 9. व्यासराज स्वामी, 10. श्री रामाचार्य जी 11. श्री राघवेन्द्र स्वामी, 12. श्री विदेह तीर्थ जी आदि कई शिष्य ने वैष्णव धर्म का प्रचार किया । इसके अलावा आठ मठ या घराने भी इन्ही से उदभ्रित हुए हैं। माधवाचार्य के प्रत्यक्ष शिष्यों द्वारा स्थापित उडुपी के अष्ट मठ है। उडुपी का तुलु अष्ट मठ माधवाचार्य द्वारा स्थापित आठ मठों या हिंदू मठों का एक समूह है, जो हिंदू विचार के द्वैत विद्यालय के पूर्वदाता हैं। आठ मठों में से प्रत्येक के लिए, माधवाचार्य ने अपने प्रत्यक्ष शिष्यों में से एक को पहला स्वामी नियुक्त किया।

शास्त्रों का पूर्ण ज्ञानवाली उपाधि तीर्थ:-
मध्वाचार्य की मृत्यु के 150 वर्ष बाद उनके शिष्य जयतीर्थ इस सम्प्रदाय के प्रमुख आचार्य हुए।संस्कृत में, ‘तीर्थ’ शब्द का अर्थ ‘शास्त्र’ (शास्त्र) है। इसलिए जब किसी संत के नाम में ‘तीर्थ’ होता है, तो इसका अर्थ यह होता है कि उसे सभी शास्त्रों का पूर्ण ज्ञान हो गया है। माधव संतों के नाम में ‘तीर्थ’ होने के पीछे यही तर्क है। इस संप्रदाय के गुरुओं ने तीर्थ उप नाम अपने नाम के आगे लगाना शुरू कर दिया।

माधवाचार्य ने अपने शिष्य पद्मनाभ तीर्थ (प्राप्त सिद्धि 1317– 1324) के साथ तुलुनाडु क्षेत्र के बाहर तत्त्ववाद(द्वैत) का प्रसार करने के निर्देश के साथ अपने शिष्य पद्मनाभ तीर्थ के साथ एक मठ की स्थापना की। जो एक द्वैत दार्शनिक और विद्वान थे । उनके शिष्य नरहरि तीर्थ , माधव तीर्थ और अक्षरोभ तीर्थ इस मठ के उत्तराधिकारी बने। अक्षोभ तीर्थ के शिष्य श्री जयतीर्थ ( सी. 1345 – सी. 1388 ) एक हिंदू दार्शनिक, महान द्वैतवादी, नीतिज्ञ और मध्वचार्य पीठ के छठे आचार्य थे। उन्हें टीकाचार्य के नाम से भी जाना जाता है। मध्वाचार्य की कृतियों की सम्यक व्याख्या के कारण द्वैत दर्शन के इतिहास के सबसे महत्वपूर्ण विचारकों में उनकी गिनती होती है। मध्वाचार्य, व्यासतीर्थ और जयतीर्थ को द्वैत दर्शन के ‘मुनित्रय’ की संज्ञा दी गयी है। वे आदि शेष के अंश तथा इंद्र के अवतार माने गये हैं। माधवाचार्य के कार्यों की उनकी ध्वनि व्याख्या के कारण उन्हें द्वैत विचारधारा के इतिहास में सबसे महत्वपूर्ण संतों में से एक माना जाता है । अंतर्निहित आध्यात्मिक पेचीदगियों को उजागर करने के लिए द्वैत ग्रंथों पर विस्तार करने के उनके अग्रणी प्रयासों को 14 वीं शताब्दी के दार्शनिक जयतीर्थ ने आगे बढ़ाया।

उत्तरादि मठ की विशालता :-
ऐतिहासिक रूप से, श्री उत्तरादि मठ जगद्गुरु श्री माधवाचार्य की मूल सीट है। विश्वसनीय स्रोतों से हमें पता चलता है कि माधवाचार्य को यह सीट श्री अच्युत प्रेक्षा से विरासत में मिली है, जो ब्रह्म सम्प्रदाय के एकदंडी क्रम से संबंधित थे। इस ब्रह्म सम्प्रदाय की शुरुआत कैसे हुई, इस पर एक किंवदंती है। माधवाचार्य द्वारा स्थापित मुख्य मठ उत्तरादि मठ का प्रमुख तुलुनाडु क्षेत्र के बाहर द्वैत वेदांत ( तत्ववदा ) को संरक्षित और प्रचारित करने के लिए पद्मनाभ तीर्थ है। उत्तरादि मठ तीन प्रमुख द्वैत मठों या मथात्रय में से एक है, जो जयतीर्थ के माध्यम से पद्मनाभ तीर्थ के वंश में माधवाचार्य के वंशज हैं । जयतीर्थ और विद्याधिराज तीर्थ के बाद, उत्तरादि मठ कवींद्र तीर्थ (विद्याधिराज तीर्थ के एक शिष्य) और बाद में विद्यानिधि तीर्थ (रामचंद्र तीर्थ के एक शिष्य) के वंश में जारी रहा।

माध्वाचार्य ने उत्तरादि मठ में दैनिक पूजा के लिए श्री सीता और श्री राम की मूर्तियाँ भी दीं। चूंकि ये मूर्तियाँ श्री सीता और राम की अन्य सभी मूर्तियों से पहले थीं, इसलिए उन्हें श्री मूल सीता और मूल राम की मूर्तियाँ कहा जाता था। तदनुसार श्री ब्रह्मा ने श्री उत्तरादि मठ के पुजारी के रूप में अपनी क्षमता में बहुत लंबे समय तक श्री मूल राम और श्री सीता की पूजा की और सनक को पोंटिफिकल सीट दी। कलियुग के आगमन तक यह परंपरा लंबे समय तक चलती रही।

उत्तरादि मठ में पूजे जाने वाले मूल राम और मूल सीता की मूर्तियों का एक लंबा इतिहास है और वे अपनी महान दिव्यता के लिए पूजनीय हैं। उत्तरादि मठ प्रमुख हिंदू मठवासी संस्थानों में से एक है जिसने ऐतिहासिक रूप से भारत में उपग्रह संस्थानों के माध्यम से मठवासी गतिविधियों का समन्वय किया है , संस्कृत साहित्य को संरक्षित किया है और द्वैत अध्ययन किया है । इस मठ को पहले “पद्मनाभ तीर्थ मठ” के नाम से भी जाना जाता था। पारंपरिक खातों के अनुसार, उत्तरादि मठ मुख्य मठ था जो पद्मनाभ तीर्थ , नरहरि तीर्थ , माधव तीर्थ , अक्षोब्य तीर्थ , जयतीर्थ , विद्याधिराज तीर्थ और कविंद्र तीर्थ के माध्यम से माधवाचार्य से उतरा था, इसलिए इस मठ को “आदि मठ” के रूप में भी जाना जाता है” मूल मठ” या “मूल संस्थान” या “श्री माधवाचार्य का मूल महा संस्थान” भी कहा जाता है। उत्तरादि मठ का कोई मुख्यालय नहीं है, कभी-कभी कुछ स्थानों पर विशेष ध्यान दिया गया है। यह मुख्य रूप से एक भ्रमणशील संस्था है जो एक स्थान से दूसरे स्थान पर चलती और डेरा डाले रहती है, जहाँ भी यह जाती है आध्यात्मिक शिक्षा की मशाल को ले जाने में व्यस्त रहती है।

(लेखक सहायक पुस्तकालय एवं सूचनाधिकारी पद पर कार्य कर चुके हैं। वर्तमान में साहित्य, इतिहास, पुरातत्व और अध्यात्म विषयों पर अपने विचार व्यक्त करते रहते हैं।)

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -spot_img

वार त्यौहार