Saturday, June 15, 2024
spot_img
Homeचर्चा संगोष्ठीएक्सप्रेस करने को लिखें, इम्प्रेस करने को नहीं- डॉ दीपक श्रीवास्तव

एक्सप्रेस करने को लिखें, इम्प्रेस करने को नहीं- डॉ दीपक श्रीवास्तव

कोटा। मरियम अबाचा अमेरिकन यूनिवर्सिटी ऑफ नाइजीरिया , कानो नाइजीरिया और गवर्नमेंट डिविजनल पब्लिक लाइब्रेरी कोटा राजस्थान भारत के संयुक्त तत्वाधान मे “इनफोर्मेशन सर्चिंग , सोर्सींग एण्ड यूज फोर एकेडेमिक रेटिंग्स- टिप्स एण्ड स्ट्रेटेजीज” थीम पर हाल ही में आयोजित दो दिवसीय अंतराष्ट्रीय कार्यशाला के प्रथम दिवस के उदघाटन सत्र में की-नोट स्पीकर गवर्नमेंट डिविजनल पब्लिक लाइब्रेरी कोटा के डीवीजनल लाईब्रेरीयन एवं इनेली साउथ एशिया मेंटर डॉ. दीपक कुमार श्रीवास्तव ने संबोधित करते हुये कहा कि शोधार्थी “ एक्सप्रेस करने के लिये लिखे ना कि इम्प्रेस करने के लिये।

डॉ. दीपक ने अंतर्राष्ट्रीय विद्वानसभा को संबोधित करते हुए कहा कि कोई भी सर्च इंजन सभी जानकारी नहीं ढूंढ सकता है, आगे उन्होंने समझाया कि कोई भी सामान्य सर्चर , गूगल सर्च इंजन के केवल 16 प्रतिशत भाग को ही खोज करने की अनुमति देता है, बाकी सर्च इंजन की पहुंच से बाहर है। जिसे अदृश्य वेब या डीप वेब कहा जाता है । कुछ शैक्षणिक संसाधन भी खोज इंजन की पहुंच से बाहर हैं, क्योंकि विभिन्न उपयोगकर्ता अधिकारों के कारण लाइसेंस प्राप्त संसाधनों तक पहुंच प्रतिबंधित है।

डॉ श्रीवास्तव ने इंटरनेशनल रिसर्च स्कॉलर को शोध कार्यों में विकिपीडिया का उपयोग न करने की भी सलाह दी। यह एक वैज्ञानिक स्रोत नहीं है, गूगल के बजाय गूगल स्कॉलर का उपयोग करें और अंत में अपनी खोज को बढ़ावा देने के लिए गूगल में बूलियन ऑपरेटरों, वाक्यांश खोज और छंटनी का भी उपयोग करने की सलाह दी।

दो दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय कार्यशाला के प्रथम सत्र में कोटा विश्वविधालय की स्पोर्टस चेयरपर्सन डॉ. एकता धारीवाल ने भी “ सीक्रेटस ऑफ एकेर्डेमीक सक्सेज” विषय पर प्रेजेंटेशन दिया । उन्होने कहा कि “ सक्सेज केन डीलेयड बट नॉट डीनाईड । मुख्य अतिथि डॉ सारा कद्दू अध्यक्ष युगांडा लाइब्रेरी एंड इंफॉर्मेशन एसोसिएशन, युगांडा, प्रोफेसर अदमू अबुबकर ग्वर्ड्ज़ो संस्थापक एवं अध्यक्ष गवर्निंग काउंसिल मरियम अबाचा अमेरिकन यूनिवर्सिटी ऑफ नाइजीरिया , प्रोफेसर (डॉ।) मोहम्मद इसरार राष्ट्रपति मरियम अबाचा अमेरिकी नाइजीरिया विश्वविद्यालय (एमएएयूएन) कानो लाइब्रेरी कॉम्प्लेक्स, कानो, डॉ. उकाष्टु हमजा मूसा यूनिवर्सिटी लाइब्रेरियन फेडरल यूनिवर्सिटी डस्टिन-मा और इस इंटरनेशनल वर्कशॉप के ऑब्जर्वर, डॉ. अमीनू मूसा, मेडिकल लाइब्रेरियन एबीयू टीचिंग अस्पताल ज़ारिया, डॉ साहबी एम.कबीर एचओडी टीचिंग सपोर्ट डिवीजन कडुना स्टेट यूनिवर्सिटी, डॉ. हसन उस्मान कॉलेज लाइब्रेरियन डीएसी अबू ज़ारिया ने अपना उदबोधन दिया। कार्यशाला कााआयोजन राष्ट्रीय वाचन माह की श्रृंखला के तहत और आजादी का अमृत महोत्सव के तत्वावधान में किया गया।

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -

वार त्यौहार