Thursday, April 25, 2024
spot_img
Homeभारत गौरवलुम्बिनी का माया देवी मंदिर और उसके पास का बोधि वृक्ष,स्तम्भ और...

लुम्बिनी का माया देवी मंदिर और उसके पास का बोधि वृक्ष,स्तम्भ और तालाब

अवस्थिति
शाक्य गणराज्य की राजधानी कपिलवस्तु के निकट उत्तर प्रदेश के ककरहवा नामक ग्राम से 14 मील और नेपाल-भारत सीमा से कुछ दूर पर नेपाल के अन्दर रुमिनोदेई नामक ग्राम ही लुम्बनीग्राम है, जो गौतम बुद्ध के जन्म स्थान के रूप में जगत प्रसिद्ध है।

लुम्बिनी-दूधी मार्ग
भारत के उत्तर प्रदेश राज्य का एक राज्य राजमार्ग है। 351 किलोमीटर लम्बा यह राजमार्ग ग्राम पीपरी के समीप नेपाल-भारत सीमा से शुरू होकर दूधी तक जाता है। यह सिद्धार्थनगर, बस्ती, अंबेडकर नगर, जौनपुर, संत रविदास नगर, मिर्ज़ापुर और सोनभद्र जिलों से होकर गुजरता है। यह दो लेन का ही मार्ग है। अधिकांशतः विना डीवाइडर वाला ही है। अतएव इस पर बड़ी सावधानी पूर्वक चलना होता है। भारत भू भाग स्थित सड़क की हालत नेपाल राज्य की सड़क से बेहतर है। नेपाल में प्रवेश करते ही एक शताब्दी पूर्व जैसा विना बिकसित वाले क्षेत्र जैसा आभास होने लगता है। ये हाल ककरहवा की तरफ से जाने पर होता है।

एकतरफा कस्टम ड्यूटी
ककरहवा बार्डर से लुंबिनी की दूरी महज 10 किमी है। नेपाल में प्रवेश के लिए चार पहिया वाहन को नेपाल मुद्रा में 500 रुपये एवं दो पहिया वाहनों के लिए 150 रुपये भारतीय मुद्रा में क्रमशः 300 रुपए और 90 रुपए कस्टम या भंसार के रूप में शुल्क जमा करना पड़ता है, जबकि पहले के नियम के अंतर्गत नि:शुल्क सुविधा पर्ची बनवाकर लोग लुंबिनी में शांति भवन का दर्शन करते थे। इस नियम के कारण स्थानीय लोगों ने लुंबिनी जाना कम कर दिया है।

बौद्ध धर्म में मूर्ति पूजा वर्जित फिर भी प्रचलन में
प्राचीन बुद्ध के समय के मनुष्य की एकाग्रता इतनी होती थी कि उन्हें किसी का अवलंबन का सहारा नही लेना पड़ता था। वे बिना मूर्ति के ही भगवान् का ध्यान कर लेते थे । किन्तु बाद में उसकी शक्ति कम होने लगी। उसका ध्यान भटकने लगा तो मूर्ति का अवलंबन लेकर ध्यान और पूजा का प्रचलन बौद्घ और जैन धर्म में शुरू हो गया।भगवान बुद्ध का जन्म 623 ईसापूर्व हुआ था। जबकि भारत में भगवान की मूर्तियां पहली शताब्दी में पहली वार कनिष्क ने ही वनवाई थी।

बुद्ध के जन्म की कहानी
कहा जाता है कि गौतम बुद्ध का जन्म 563 ईसा पूर्व में हुआ था।मायादेवी या महामाया, गौतम बुद्ध की माता थीं। उनका जन्म लुंबिनी से 7 किमी की दूरी पर स्थित कोलिया राज्य में महाराज अंजन व महारानी यशोधरा के यहां हुआ। सिद्धार्थ (गौतम बुद्ध) को जन्म देने के बाद संभवतः 7 दिनों में उनका स्वर्गवास हो गया तथा सिद्धार्थ का पालन पोषण उनकी बहन प्रजापति गौतमी ने किया।

बौद्ध परंपरा में, बुद्ध के जन्म के तुरंत बाद माया की मृत्यु हो गई, जिसे आम तौर पर सात दिन बाद कहा जाता है, और बौद्ध स्वर्ग में फिर से जीवित हो गई, एक ऐसा पैटर्न जिसके बारे में कहा जाता है कि इसका पालन सभी बुद्धों के जन्म में किया जाता है। इस प्रकार माया ने अपने बेटे का पालन-पोषण नहीं किया, जिसका पालन-पोषण उसकी मौसी महा प्रजापति गौतमी ने किया। जीवन के खास दृश्यों में बुद्ध के जन्म के तुरंत बाद, उन्हें अक्सर गौतम को जन्म देते हुए चित्रित किया गया है, एक घटना जिसे आम तौर पर आधुनिक तराई के लुम्बिनी में घटित माना जाता है । माया को आम तौर पर एक पेड़ के नीचे खड़े होकर बच्चे को जन्म देते और सहारे के लिए एक शाखा पकड़ने के लिए ऊपर की ओर बढ़ते हुए दिखाया जाता है।

बौद्ध विद्वान मिरांडा शॉ का कहना है कि जन्म के दृश्य में रानी माया का चित्रण यक्षिनी नामक वृक्ष आत्माओं के पहले के बौद्ध चित्रणों में स्थापित एक पैटर्न का अनुसरण करता है। माया ने कपिलवस्तु के शाक्य वंश के शासक राजा शुद्धोदन से विवाह किया। वह राजा शुद्धोधन के चाचा की बेटी थी और इसलिए उनकी चचेरी बहन थी; उनके पिता देवदाह के राजा थे। माया ने सिद्धार्थ को जन्म दिया। गर्भावस्था दस चंद्र महीने तक चली। परंपरा का पालन करते हुए, रानी जन्म के लिए अपने घर लौट आई। रास्ते में, वह नेपाल के लुंबिनी क्षेत्र के लुंबिनी पार्क के खूबसूरत फूलों के बगीचे में, साल के पेड़ जिसे अक्सर अशोक के पेड़ के रूप में समझा जाता है, के नीचे टहलने के लिए अपनी पालकी से नीचे उतरीं। माया देवी पार्क से बहुत खुश हुई और उसने साल की शाखा को पकड़कर खड़े-खड़े ही बच्चे को जन्म दिया। किंवदंती है कि राजकुमार सिद्धार्थ उनके दाहिनी ओर से निकले थे। वह अप्रैल का आठवां दिन था। कुछ वृत्तांतों का कहना है कि उसने उसे लुम्बिनी क्षेत्र के पुस्करिणी तालाब में पहला स्नान कराया था। लेकिन किंवदंती है कि देवताओं ने नवजात शिशु को धोने के लिए बारिश कराई थी। बाद में उनका नाम सिद्धार्थ रखा गया।”

माया देवी का वर्तमान मंदिर
1992 में की गई खुदाई से कम से कम 2200 साल पुराने खंडहरों का पता चला, जिसमें एक ईंट के चबूतरे पर एक स्मारक पत्थर भी शामिल था, जो तीसरी शताब्दी ईसा पूर्व में सम्राट अशोक द्वारा रखे गए पत्थर के विवरण से मेल खाता था।

इस स्थल पर एक भव्य स्मारक बनाने की योजना है, लेकिन अभी एक मजबूत ईंट मंडप मंदिर के खंडहरों की सुरक्षा करता है।आप ऊंचे बोर्ड वॉक पर खंडहरों के चारों ओर घूम सकते हैं। तीर्थयात्रियों के लिए केंद्र बिंदु बुद्ध के जन्म की एक बलुआ पत्थर की नक्काशी है, जिसे 14 वीं शताब्दी में मल्ल राजा, रिपु मल्ला द्वारा यहां छोड़ा गया था, जब माया देवी को हिंदू मातृ देवी के अवतार के रूप में पूजा जाता था। सदियों से चली आ रही पूजा के कारण यह नक्काशी लगभग सपाट हो गई है, लेकिन आप माया देवी की आकृति को देख सकते हैं, जो एक पेड़ की शाखा को पकड़ रही है और बुद्ध को जन्म दे रही है, जबकि इंद्र और ब्रह्मा देख रहे हैं। इसके ठीक नीचे बुलेटप्रूफ शीशे के अंदर एक मार्कर पत्थर लगा हुआ है, जो उस स्थान को इंगित करता है जहां बुद्ध का जन्म हुआ था।

बोधि वृक्ष
लुम्बिनी में बोधि वृक्ष शांत माया देवी तालाब के तट पर मंदिर के ठीक बगल में माया देवी मंदिर परिसर में स्थित है। इस पेड़ के नीचे ही भगवान बुद्ध ने ज्ञान प्राप्त किया था। इस पेड़ को बहुत पवित्र माना जाता है। गौतम बुद्ध ने इस वृक्ष के नीचे ध्यान करके क्रोध, भ्रम, भोग और विलासिता से भरे अपने जीवन से मुक्ति प्राप्त की थी। इस पेड़ के करीब जाकर आपको अहसास होगा कि जीवन में भौतिक सुख के अलावा और भी बहुत कुछ है। यह पेड़ एक सदियों पुराना पीपल का पेड़ या फिकस रिलिजियोसा है जो रंग-बिरंगे प्रार्थना झंडों से सुसज्जित है, स्थानीय लोगों का मानना है कि रंग-बिरंगे प्रार्थना झंडों को बांधते समय मांगी गई इच्छाएं अक्सर पूरी होती हैं।

माया देवी का पावन मन्दिर
बौद्धों और हिंदुओं दोनों के लिए पवित्र मायादेवी मंदिर, माना जाता है कि इसे पांचवीं शताब्दी के मंदिर के ऊपर बनाया गया था, जो संभवतः अशोक के मंदिर के ऊपर बनाया गया था। मंदिर में बुद्ध के जन्म की एक पत्थर की आधार-राहत है। एक छोटे शिवालय जैसी संरचना में संरक्षित, यह छवि भगवान की मां मायादेवी को अपने दाहिने हाथ से साल के पेड़ की एक शाखा को पकड़कर सहारा देती हुई दिखाई देती है। नवजात बुद्ध को अंडाकार प्रभामंडल वाले कमल के मंच पर सीधे खड़े देखा जाता है। पवित्र पुष्करिणी कुंड महादेवी मंदिर के दक्षिण में स्थित है जहाँ मायादेवी ने भावी बुद्ध को जन्म देने से पहले स्नान किया था। यहीं पर सिद्धार्थ को पहला औपचारिक शुद्धिकरण स्नान भी कराया गया था। सनातन हिंदू बुद्ध को हिंदू भगवान विष्णु का 10वां अवतार मानते हैं और बैसाख (अप्रैल-मई) की पूर्णिमा के दिन हजारों नेपाली हिंदू भक्त माया देवी से प्रार्थना करने के लिए यहां आते हैं, जिन्हें स्थानीय लोग रूपा देवी “लुम्बिनी की देवी माँ”
कहते हैं।

जन्मस्थान का गर्भगृह
लुंबिनी (और संपूर्ण बौद्ध जगत का) का सबसे महत्वपूर्ण और पवित्र स्थान वह पत्थर की पटिया है जो सटीक स्थान बताती है जहां बुद्ध का जन्म हुआ था। यह गर्भगृह के अंदर गहराई में स्थित है और प्रसिद्ध मायादेवी मंदिर के पुराने स्थल पर खंडहरों की तीन परतों के नीचे की गई बहुत कठिन और श्रमसाध्य खुदाई के बाद पाया गया है ।

यूनेस्को की विश्व धरोहर
लुम्बिनी में सबसे प्राचीन बौद्ध मंदिरों में से एक, जो यूनेस्को की विश्व धरोहर स्थल भी है, माया देवी मंदिर सबसे प्रसिद्ध मंदिरों में से एक है जिसे गौतम बुद्ध के जन्मस्थान के रूप में जाना जाता है। यह मंदिर लुंबिनी विकास क्षेत्र नामक पार्क मैदान के बीच में स्थित है, इसका निरंतर विकास इसे एक अवश्य देखने योग्य आकर्षण बनाता है। माया देवी मंदिर, पुष्करिणी नामक पवित्र तालाब और एक पवित्र उद्यान के ठीक बगल में स्थित है। यह मंदिर उस स्थान को चिह्नित करता है जहां माया देवी ने गौतम बुद्ध को जन्म दिया था और इस स्थान के पुरातात्विक अवशेष लगभग तीसरी शताब्दी ईसा पूर्व अशोक के समय के हैं।

मायादेवी का पवित्र तालाब लुम्बिनी
लुम्बिनी में माया देवी मंदिर के ठीक सामने स्थित, माया देवी तालाब एक चौकोर आकार की संरचना है जिसमें जल स्तर तक चढ़ने के लिए चारों ओर सीढ़ियाँ हैं। इसे पुष्करिणी के नाम से भी जाना जाता है, यह वह जगह है जहां गौतम बुद्ध की मां – माया देवी – स्नान करती थीं। दरअसल भगवान बुद्ध का प्रथम स्नान इसी तालाब में हुआ था। तालाब के एक तरफ हरे-भरे झाड़ियों से घिरा ऊंचे पेड़ों वाला एक अच्छी तरह से रखा हुआ बगीचा है और दूसरी तरफ प्राचीन खंडहर हैं जो तीसरी शताब्दी ईसा पूर्व के हैं। माना जाता है कि ये खंडहर ईंट के मंडपों से संरक्षित प्राचीन मंदिरों और स्तूपों के अवशेष है। यहां माया देवी ने बुद्ध को जन्म देने से पहले स्नान किया था। मैदान के चारों ओर दूसरी शताब्दी ईसा पूर्व से लेकर 9वीं शताब्दी ईस्वी तक के कई ईंट स्तूपों और मठों की खंडहर नींवें बिखरी हुई हैं।

अशोक स्‍तंभ
यूं तो दुनिया में कई अशोक स्‍तंभ हैं, लेकिन लुम्बिनी में बना अशोक स्‍तंभ सबसे प्रसिद्ध है। तीसरी शताब्दी में बनी यह प्राचीन संरचना माया देवी मंदिर के परिसर के अंदर स्थित है। कहते हैं कि राजा अशोक ने भगवान बुद्ध को श्रद्धांजलि देने के लिए इस स्तंभ का निर्माण करवाया था। इसकी ऊंचाई 6 मीटर है, इसलिए आप इसे दूर से ही देख पाएंगे। अगर आप लुंबिनी गए हैं, तो आपको अशोक स्‍तंभ को देखने जरूर जाना चाहिए।

(लेखक भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण, आगरा मंडल ,आगरा में सहायक पुस्तकालय एवं सूचनाधिकारी पद से सेवामुक्त हुए हैं। वर्तमान समय में उत्तर प्रदेश के बस्ती नगर में निवास करते हुए समसामयिक विषयों,साहित्य, इतिहास, पुरातत्व, संस्कृति और अध्यात्म पर अपना विचार व्यक्त करते रहते हैं लेखक को अभी हाल ही में इस पावन स्थल को देखने का अवसर मिला था।)

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -spot_img

वार त्यौहार