आप यहाँ है :

ज़िला जेल जींद में आएगा जल्दी ही अपना रेडियो

हरियाणा की जेलों में रेडियो लाने की मुहिम अब अगले चरण में

हरियाणा की ज़िला जेल जींद में रेडियो लाने की तैयारी शुरू हो गई है। इस जेल के बंदियों का ऑडिशन आज संपन्न हुआ। इसमें 7 बंदियों का चुनाव हुआ है। इसके अलावा 14 बंदियों को गायकों के तौर पर चुना गया है। रेडियो जॉकी के लिए चुने गए 4 बंदी आजीवन कारावास पर हैं जबकि 3 विचाराधीन हैं। संगीत की टीम में चुने गए 6 बंदी आजीवन कारावास पर हैं और 8 विचाराधीन हैं। । इनका ऑडीशन जेल सुधारक औऱ तिनका तिनका फाउंडेशन की संस्थापक वर्तिका नन्दा ने किया।

ज़िला जेल जींद की स्थापना 22 नवंबर, 1985 को हुई थी। इस जेल की कुल क्षमता 669 बंदियों की है। इस समय इस जेल में लगभग 1,000 बंदी हैं, जिनमें 28 महिला बंदी शामिल हैं।

बंदियों को दी जाएगी ट्रेनिंग
हरियाण में कुल 19 जेलें हैं जिनमें से 3 जेलों में पहले ही रेडियो लाया जा चुका है। जींद रेडियो की तैयारी के तहत अब इन बंदियों को रेडियो के संचालन की ट्रेनिंग दी जाएगी। इसके बाद रेडियो लाने की प्रक्रिया के तहत जेल रेडियो का कमरा तैयार किया जाएगा।

हरियाणा की 19 जेलों में से 3 जेलों में रेडियो पहले ही लाया जा चुका है। इसी साल जनवरी फरवरी के महीने में पानीपत , फरीदाबाद , अम्बाला की सेंट्रल जेल में रेडियो का उद्घाटन हुआ है। हरियाणा के पहले जेल रेडियो का उद्घाटन श्री रणजीत सिंह (जेल मंत्री), श्री राजीव अरोड़ा आईएएस, अतिरिक्‍त मुख्‍य सचिव (गृह और जेल) और श्री के सेल्वराज, आईपीएस, जेल महानिरीक्षक, हरियाणा ने किया था।

तीसरे चरण में जिला जेल जींद में स्थापित किया किया जाएगा जेल रेडियो
इस समय हरियाणा की जेलों में रेडियो लाने का दूसरा चरण चल रहा है। इनमें जिला जेल करनाल, जिला जेल रोहतक, जिला जेल गुरुग्राम और केंद्रीय कारागार (प्रथम) हिसार को शामिल किया है।

जिला जेल जींद का चुनाव हरियाणा में जेल रेडियो लाने के तीसरे चरण में किया गया है। तीसरे चरण में 5 जेलों को चुना गया है जिसमें जिला जेल सिरसा सोनीपत, जींद, झज्जर और यमुनानगर है। जिला जेल जींद के जेल अधीक्षक श्री संजीव बुधवार हैं। उन्होंने बताया कि जेल में रेडियो के आने की सूचना से बंदियों में काफी उत्साह हैं और वे सभी जेल रेडियो के जरिए अपनी बात को रखना चाहते हैं।

तिनका तिनका फाउंडेशन
हरियाणा जेल रेडियो की संकल्पना तिनका तिनका फाउंडेशन की संस्थापक डॉ. वर्तिका नन्दा ने की है। 2019 में तिनका तिनका फाउंडेशन ने जिला जेल, आगरा में जेल रेडियो स्‍थापित किया था। हरियाणा जेल रेडियो उन्हीं की संकल्पना पर आधारित है। वे तिनका मॉडल ऑफ प्रिजन रिफार्म के तहत देश की जेलों में रेडियो लाने पर काम कर रही है। वर्तिका नन्दा दिल्ली विश्वविद्यालय के लेडी श्रीराम कॉलेज में पत्रकारिता विभाग की प्रमुख हैं।

image_pdfimage_print


Get in Touch

Back to Top