Thursday, April 25, 2024
spot_img
Homeपत्रिकाकला-संस्कृतिदो दिवसीय पाटोत्सव ब्रजभाषा समारोह सात राज्यों की 76 विभूतियों का होगा...

दो दिवसीय पाटोत्सव ब्रजभाषा समारोह सात राज्यों की 76 विभूतियों का होगा सम्मान

कोटा। पाटोत्सव ब्रजभाषा दो दिवसीय समारोह नाथद्वारा में साहित्य मंडल नाथद्वारा की ओर से भगवती प्रसाद देवपुरा प्रेक्षागृह में 3 और 4 मार्च को आयोजित किया जायेगा। समारोह में राजस्थान सहित उत्तरप्रदेश, कर्नाटक, गुजरात, हरियाणा, दिल्ली, मध्यप्रदेश सात राज्यों की 76 विभूतियों का सम्मान किया जायेगा। विशिष्ठ प्रतिभा और विभिन्न परीक्षाओं में सर्वोच्च अंक प्राप्त करने वाले 26 विद्यार्थियों के अभिन्नदन के साथ-साथ साहित्य और संस्कृति क्षेत्र की 50 विभूतियों को विविध मानद उपाधियों से सम्मानित किया जाएगा। यह जानकारी देते हर साहित्य मंडल के प्रधानमंत्री श्याम प्रकाश देवपुरा ने बताया की ब्रजभाषा उपनिषद पर विशेष कार्यक्रम भी रखा गया है। मुख्य आकर्षण अखिल भारतीय ब्रजभाषा होगी।

ऐलन केरियर इंस्टीट्यूट कोटा के छात्र हार्दिक जैन का जेईई मुख्य परीक्षा 2024 में 98.44 प्रतिशत अंक प्राप्त करने पर अभिन्नदन किया जायेगा। राजस्थान प्रशासनिक सेवा परीक्षा 2021 में उत्तीर्ण होने वाले विवेक गुर्जर, मुकेश कुमार, सुश्री नेहा राव और हिमांशु शर्मा को सम्मानित किया जाएगा। पुणे से एम.टेक करने पर सुश्री कृपलानी जैन, एलएलबी में स्वर्ण पदक प्राप्त करने पर नाथद्वारा की सुश्री हेतल गागलिया और पी.एचडी.की उपाधि प्राप्त करने पर डॉ. विनीता पालीवाल को सम्मानित किया जाएगा। अधिस्नातक परीक्षा में उत्तीर्ण सुश्री दीपिका प्रजापत, मनीष परिहार, सुश्री सोना गायरी, स्नातक परीक्षा उत्तीर्ण करने पर निवेदिता सोनी, मानसी शर्मा, दीक्षिता शर्मा, प्रगति संचिहार, शास्त्री परीक्षा उत्तीर्ण करने पर हेमंत पालीवाल, वरिष्ठ उपाध्याय परीक्षाउत्तीर्ण करने पर पवन कुमार माली, दिव्य जोशी, उच्च माध्यमिक परीक्षा उत्तीर्ण करने पर नवजीत श्रीमाली, लक्ष्मी वैरागी,अंजली सनाढ्य,कल्पेश पालीवाल,पार्थ त्रिपाठी, मानस कुमावत एवं विशिष्ट प्रतिभावान छात्र कमलेश गायरी का अभिन्नदन और सम्मान किया जाएगा।

देवपुरा ने बताया कि इस विशेष उद्घाटन सत्र में मथुरा के डॉ.श्रीकृष्ण शरद “विलुप्त होते ब्रज – संस्कार गीत”, भरतपुर के डॉ. रामदास शर्मा, “बृज की लोक कथा में राष्ट्रप्रेम”, नगर- राजस्थान से डॉ. वेद प्रकाश शर्मा “बृज नाटक में राष्ट्रभक्ति की भावना”, जयपुर से डॉ.शीताभ शर्मा “ब्रज काव्य में राष्ट्रीयता, भरपूर से सुरेश कुमार “एवं नरेंद्र निर्मल” ब्रज लोकगीतों में राष्ट्रीय चेतना”, वृंदावन से सत्यप्रकाश शर्मा “बृज भक्ति काव्य में राष्ट्र प्रेम” और “अशोक अग्ये” ब्रज के अनूठे कवि राजा बाबा वर्मन ‘सरस ‘ विषयों पर व्याख्यान प्रस्तुत करेंगे।

उत्तरप्रदेश के मथुरा से महेश जैन, रवेंद्रपाल सिंह, राधाकुंड के कृष्ण चंद्र गौड़, इटावा के माहाराम सिंह, वृंदावन के गोपाल शरण शर्मा, नंदगांव के गौरव गोस्वामी, गोवर्धन के अनिल कुमार शर्मा, एटा की अंजु सिंह, राजस्थान में भरतपुर के श्यामसिंह जाघिना, गोविंद सिंह डागुर, नगर से अभिषेक अमर और कामवन से पवन पाराशर को ब्रजभाषा विभूषण सम्मान से सम्मानित किया जाएगा।

उन्होंने ने बताया कि अन्य सम्मानित होने वाले साहित्यकारों में “हिंदी साहित्य शिरोमणि सम्मान” से मुरादाबाद के रामानंद शर्मा, बेंगलुरु के प्रेमा भुवन, “बृजभाषा भूषण सम्मान” से अलीगढ़ के नरेंद्र शर्मा, मथुरा के डॉ. श्रीकृष्ण शरद, आगरा के प्रो. हरि निर्मोही, ब्रजभाषा मनीषी सम्मान से भरतपुर के डॉ. रामदास शर्मा, वृंदावन से डॉ.रामस्वरूप उपाध्याय, सिंहपुर से डॉ. पदम सिंह, मथुरा से डॉ. दिनेश पाठक, “लोक संगीत मर्मज्ञ उपाधि” से दौसा के राहुल शर्मा, झांसी की मधु अग्रवाल, राजसमंद से मांगीलाल मेघवाल शामिल हैं।

साथ ही “हिंदी काव्य मनीषी सम्मान” से भीलवाड़ा के अरुण शर्मा,शकुंतला अग्रवाल, मंदसौर से डॉ. ललित पंवार,दिल्ली से डॉ. ओंकार त्रिपाठी, हरदा से जयकृष्ण चांडक,गुरुग्राम से शिवकुमार गौतम, “हिंदी साहित्य मनीषी सम्मान” से राव मुकुल मानसिंह, प. हरिश्चंद्र दाधीच, डॉ. के. एस. लोहनी, डॉ. प्रदीप उपाध्याय, डॉ. शीतल प्रसाद गुप्ता, डॉ. रेखा गुप्ता, “पत्रकार प्रवर उपाधि” से नंदगांव के सुशील गोस्वामी, सुल्तानपुर के यतेंद्र प्रताप साही, श्रीनाथद्वारा से कृष्ण कांत सनाढ्य, “संपादक शिरीमणि” सम्मान से बस्ती उत्तरप्रदेश के लाल देवेंद्र श्रीवास्तव, दिल्ली से डॉ, हरिसिंह पाल तथा “हिंदी साहित्य शिरोमणि सम्मान” से उज्जैन के नरेंद्र कुमार मेहता, पंचकुला से किशोर शर्मा सारस्वत, जमशेदपुर से बसंत जमशेदपुरी, जन्हेरा से शंकर द्विवेदी, शामला जी से डॉ. वर्षा एच.पटेल, भिवानी से डॉ. करतार सिंह जाखड़ एवं दिल्ली से डॉ. इंद्र सेंगर को सम्मानित किया जाएगा।

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -spot_img

वार त्यौहार