Sunday, May 26, 2024
spot_img
Homeमीडिया की दुनिया सेचीन के इस पड़ोसी देश में कोरोना से को मौत नहीं हुई

चीन के इस पड़ोसी देश में कोरोना से को मौत नहीं हुई

चीन से निकले कारोना वायरस ने दुनियाभर में तबाही मचाई है। अमेरिका, रूस ब्राजील, ब्रिटेन से लेकर भारत तक, हर देश में लाखों लोग संक्रमित हुए हैं और हजारों लोग मारे गए हैं। अमेरिका में तो 1 लाख 22 हजार लोग इस संक्रमण की चपेट में आकर दम तोड़ चुके हैं। लेकिन चीन से सटा एक ऐसा देश भी है जिसने कोरोना वायरस को इस तरह काबू किया कि अब तक वहां केवल 349 लोग संक्रमित हुए हैं और एक भी व्यक्ति की मौत नहीं हुई है।

करोना वायरस महामारी के छह महीने बीतने के बाद भी वियतनाम की यह सफलता हैरान करने वाली है। ऐसा भी नहीं है कि यह कुछ लाख की आबादी वाला देश है। वियतनाम की आबादी करीब 10 करोड़ है। लेकिन समय रहते किए गए इंतजामों और लोगों के अनुशासन से चीन के इस पड़ोसी ने कोरोना वायरस को अपने लिए खतरा नहीं बनने दिया है। इतनी आबादी वाला वियतनाम एकमात्र देश है जहां अभी तक कोरोना संक्रमण से किसी की जान नहीं गई है।

वॉइस ऑफ अमेरिका ने वियतनाम की सफलता को लेकर एक रिपोर्ट दी है, जिसमें बताया गया है कि किस तरह यहां निर्देशों का सख्ती से पालन किया जा रहा है। इस रिपोर्ट के मुताबिक, यदि आप किसी कैफे में जाते हैं तो वहां पहले सिक्यॉरिटी गार्ड आपके हाथों को सैनिटाइज करेगा। किसी बस में सफर करने के लिए मास्क पहनना अनिवार्य है और एक एक पंक्ति की सीट पर एक ही व्यक्ति सफर कर सकता है। कुछ लोग डेटा पर भी सवाल उठाते हैं, लेकिन वियतनाम सरकार की मानें तो उन्हें यह सफलत समय रहते कदम उठाने की वजह से मिली है।

24 मार्च को हू चिन मिन शह के नेता ने कहा था कि देश 1000 कोरोना वायरस केसों को झेलने को तैयार है। सरकारी वेबसाइट पर कहा गया, ”अगले 10 दिनों से 14 दिनों के बीच देश में कोरोना केस को 1000 से अधिक नहीं बढ़ने देना है, नहीं तो बीमारी के बेकाबू होने का खतरा बढ़ जाएगा।” वियतनाम सरकार ने इस लक्ष्य को हासिल किया। यहां अब तक 349 केस ही आए हैं।

जनवरी में जिस सप्ताह अमेरिका में कोरोना का पहला मरीज मिला, उसी सप्ताह वियतनाम में भी संक्रमण का पहला केस आया था। कोलंबिया यूनिवर्सिटी के मुताबिक यदि अमेरिका ने 15 मार्च की बजाय 8 मार्च को ही लॉकडाउन किया होता तो कोविड से मरने वालों की संख्या 36 हजार तक कम हो सकती थी। वियतनाम ने यह गलती नहीं की और पहला केस मिलने के साथ ही कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग पर जोर दिया और लोगों की आवाजाही रोक दी।

वियतनाम में केस भले ही 340 मिले हैं, लेकिन सरकार ने एहतियात के तौर पर 84 हजार लोगों को क्वारंटाइन कर दिया। घर-घर जाकर लोगों की जांच की गई। विदेश से आए लोगों का सर्वे किया गया।

कोरोना वायरस से दुनिया में करीब 92 लाख लोग संक्रमित हो चुके हैं तो 4 लाख 74 हजार लोगों की जान जा चुकी है। अमेरिका में 23 लाख संक्रमित हुए हैं और 1 लाख 22 हजार की जान गई है। ब्राजील में 11 लाख लोग संक्रमण की चपेट में आए तो 51 हजार लोगों की मौत हो चुकी है। रूस में 5 लाख 92 हजार लोग संक्रमित हुए तो 8 हजार से ज्यादा लोगों की मौत हुए। भारत में 4 लाख 40 हजार लोग संक्रमित हुए हैं और 14 हजार से अधिक लोगों की सांसें थम चुकी हैं। ब्रिटेन में 3 लाख 5 हजार लोग संक्रमित हुए तो 42,647 लोगों की मौत हुई।

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -spot_img

वार त्यौहार