Saturday, May 25, 2024
spot_img
Homeपुस्तक चर्चास्वप्न जिस भाषा में देखो उसी को प्रचारित करो - आचार्य विद्यासागर...

स्वप्न जिस भाषा में देखो उसी को प्रचारित करो – आचार्य विद्यासागर जी

इंदौर। हिन्दी भाषा हमारे संस्कारों की जननी है, भाषा को निर्दोष रखें, इसी में राष्ट्र की प्रगति निहित है। उक्त विचार संत शिरोमणि आचार्य विद्यासागर जी महाराज द्वारा मातृभाषा उन्नयन संस्थान से जुड़े रचनाकारों के हिन्दी भाषा को प्रचारित करने वाली कविताओं के संग्रह ‘मातृभाषा.कॉम-भाग तीन’ के विमोचन के दौरान कहे गए। पुस्तक संस्मय प्रकाशन द्वारा प्रकाशित है एवं इसका सम्पादन मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ द्वारा किया गया है।
ज्ञात हो कि शरद पूर्णिमा को आचार्य श्री का अवतरण दिवस भी है।

इस अवसर पर संयम चर्या व आध्यात्म सरोवर के राजहंस संत शिरोमणी राष्ट्र संत आचार्य विद्यासागर जी द्वारा कहा गया कि ‘जिस भाषा में आप स्वप्न देखते हैं, उसी भाषा में कार्य करें, उसे प्रचारित करें, हिन्दी में अधिकाधिक लिखें व भाषा को अंग्रेज़ी मिश्रित न बनाएँ। हिन्दी का प्रचार करें।’

आचार्य श्री ने मातृभाषा उन्नयन संस्थान द्वारा हिन्दी को राष्ट्रभाषा बनाए जाने के लिए चलाए जा रहे आंदोलन को आशीर्वाद भी दिया।

संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ ने जैन कवि संगम के बारे में आचार्य श्री को विस्तार से बताया तथा आचार्य श्री के अवतरण दिवस निमित्त लिखे गीत, जिसमें देश के विभिन्न राज्य, नगर व स्थान के कवियों ने अपनी भूमिका निभाई, उसकी भी चर्चा की। विमोचन के अवसर पर ब्रह्मचारी सुनील भैया सहित संस्थान के राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य नितेश गुप्ता, रोहित त्रिवेदी आदि उपस्थित रहे।

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -spot_img

वार त्यौहार