Saturday, March 2, 2024
spot_img
Homeप्रेस विज्ञप्तिपश्चिम रेलवे पर क्षेत्रीय राजभाषा कार्यान्वयन समिति की तिमाही बैठक सम्‍पन्‍न

पश्चिम रेलवे पर क्षेत्रीय राजभाषा कार्यान्वयन समिति की तिमाही बैठक सम्‍पन्‍न

मुंबई।

पश्चिम रेलवे की क्षेत्रीय राजभाषा कार्यान्‍वयन समिति की बैठक 29 अगस्‍त, 2023 को पश्चिम रेलवे के महाप्रबंधक श्री अशोक कुमार मिश्र की अध्यक्षता में आयोजित की गई। इस अवसर पर पश्चिम रेलवे, प्रधान कार्यालय की ई-पत्रिका ‘ई-राजहंस’ के 52वें अंक का विमोचन महाप्रबंधक महोदय के कर-कमलों से किया गया। साथ ही सुप्रसिद्ध कवयित्री अमृता प्रीतम जी की जयंती भी मनाई गई। उनके जीवन के संक्षिप्‍त परिचय से सदस्‍यों को अवगत कराया गया और उनकी एक प्रसिद्ध कविता की संगीतमय प्रस्‍तुति की गई। पश्चिम रेलवे के दाहोद कारखाना के मुख्‍य कारखाना प्रबंधक श्री बिनय कुमार को 28 अगस्‍त, 2023 को रेलवे बोर्ड, नई दिल्‍ली में रेल मंत्री राजभाषा पदक एवं नकद पुरस्‍कार से सम्‍मानित किया गया। राजभाषा के क्षेत्र में पश्चिम रेलवे की इस उपलब्धि को महाप्रबंधक श्री मिश्र ने बैठक के दौरान सदस्‍यों से साझा किया।

राजभाषा बैठक की अध्यक्षता करते हुए पश्चिम रेलवे के महाप्रबंधक श्री अशोक कुमार मिश्र ने समिति के सदस्यों को संबोधित करते हुए कहा कि भारतीय संविधान में राजभाषा के संबंध में किए गए प्रावधानों के अनुसार सरकारी सेवा से जुड़े हुए प्रत्येक अधिकारी एवं कर्मचारी का कर्तव्य है कि वे सरकारी कामकाज में राजभाषा का अधिक से अधिक प्रयोग करें। उन्‍होंने सभी से आग्रह किया कि अपने विभाग से संबंधित निरीक्षणों के साथ-साथ राजभाषा की प्रगति का भी जायजा लें और अपनी निरीक्षण रिपोर्ट में उसका उल्लेख अवश्य करें ताकि सभी मदों में राजभाषा का प्रयोग बढ़ सके। आजकल जहां ज्‍यादातर कार्य कंप्‍यूटरों पर किए जा रहे हैं वहां तकनीकी मदद से राजभाषा का कार्य बढ़ाने हेतु स्‍वयं पहल करने को कहा। हिंदी हमारी राजभाषा है और इसमें कार्य करने में किसी प्रकार का संकोच न करें, बल्कि गर्व महसूस करें।

बैठक के प्रारंभ में पश्चिम रेलवे के मुख्य राजभाषा अधिकारी श्री एस. के. अलबेला ने समिति के अध्यक्ष एवं पश्चिम रेलवे के महाप्रबंधक, सभी विभागों के प्रमुखों, सभी अपर मंडल रेल प्रबंधक, सभी मुख्‍य कारखाना प्रबंधक और अन्य अधिकारियों का स्वागत करते हुए कहा कि भारतीय संविधान के अनुच्‍छेद-351 के तहत स्‍पष्‍ट प्रावधान किए गए हैं कि प्रत्‍येक केन्‍द्रीय सरकारी कार्यालयों में ज्‍यादा से ज्‍यादा कार्य हिंदी में किए जाएं। यह इसलिए भी आवश्‍यक है क्‍योंकि हिंदी सामासिक संस्‍कृति की अभिव्‍यक्ति का सशक्‍त माध्‍यम हो सकती है। उन्‍होंने सभी सदस्‍यों को आगामी सितम्‍बर माह में पश्चिम रेलवे में राजभाषा दिवस/सप्‍ताह/पखवाड़ा का आयोजन करने के लिए एक रूपरेखा बनाने का आग्रह किया ताकि दैनिक कार्यों के साथ-साथ तकनीकी कार्यों में भी राजभाषा को आगे बढ़ाया जा सके। उन्‍होंने संसदीय समिति के राजभाषा निरीक्षणों के दौरान संबंधित कार्यालयों को आंकड़े भरते समय विशेष सतर्कता बरतने की ओर ध्‍यान आकृष्‍ट किया।

बैठक में अधिकारियों के लिए एक राजभाषा प्रश्‍न-मंच का आयोजन भी किया गया, जिसमें प्रश्‍नों के सही उत्‍तर देने वाले अधिकारियों को महाप्रबंधक महोदय के कर-कमलों से नकद पुरस्‍कार राशि से सम्‍मानित किया गया। बैठक के दौरान क्षेत्रीय रेल हिंदी प्रतियोगिताओं में 18 सफल प्रतिभागियों को प्रमाण-पत्र एवं नकद पुरस्‍कार राशि से सम्‍मानित किया गया। पश्चिम रेलवे में अप्रैल से जून-2023 के दौरान राजभाषा कार्यान्वयन में हुई प्रगति संबंधी आंकड़े समिति के सदस्य सचिव डॉ. रोशनी खुबचंदानी द्वारा प्रस्तुत किए गए।

पश्चिम रेलवे क्षेत्रीय राजभाषा कार्यान्‍वयन समिति की इस बैठक में पश्चिम रेलवे के अपर महाप्रबंधक श्री प्रकाश बुटानी, वरिष्‍ठ उप महाप्रबंधक श्री शलभ गोयल, प्रमुख मुख्‍य सिगनल एवं दूरसंचार इंजीनियर श्री हरीश गुप्‍ता, प्रमुख मुख्‍य परिचालन प्रबंधक श्री चितरंजन स्‍वैन, प्रमुख मुख्‍य सुरक्षा आयुक्‍त श्री पी. सी. सिन्‍हा, प्रमुख मुख्‍य संरक्षा अधिकारी श्री एस. सी. जैन, प्रमुख मुख्‍य इंजीनियर श्री परमेश्‍वर फुंकवाल, प्रमुख मुख्‍य वाणिज्‍य प्रबंधक श्री प्रवीण परमार, प्रमुख मुख्‍य चिकित्‍सा निदेशक श्रीमती हफिजुन्न्‍िासा रहमान, मुख्‍य प्रशासनिक अधिकारी (निर्माण) श्री विनीत गुप्‍ता, प्रमुख मुख्‍य यांत्रिक इंजीनियर श्री सुरभित माथुर, उप महाप्रबंधक (सामान्‍य) श्री उज्‍ज्‍वल देव, मुख्‍य जनसंपर्क अधिकारी श्री सुमित ठाकुर आदि अधिकारी उपस्थित थे।

फोटो कैप्शन: पश्चिम रेलवे के महाप्रबंधक श्री अशोक कुमार मिश्र क्षेत्रीय रेल हिंदी प्रतियोगिताओं में सफल प्रतिभागी को प्रमाण-पत्र प्रदान करते हुए। दूसरे चित्र में सुप्रसिद्ध कवयित्री अमृता प्रीतम जी की जयंती के अवसर पर उनकी कविता की संगीतमय प्रस्‍तुति की झलकी।

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -spot_img

वार त्यौहार