Tuesday, June 25, 2024
spot_img
Homeआपकी बातकश्मीर में कब थमेगा खूनी खेल

कश्मीर में कब थमेगा खूनी खेल

लगता है कश्मीर में आतंकी वारदातें थम नहीं रहीं। पिछले दिनों जम्मू-कश्मीर के बडगाम में आतंकियों ने तहसील कार्यालय में घुसकर राहुल भट्ट नाम के एक कश्मीरी पंडित की गोली मारकर हत्या कर दी जिसके बाद से घाटी में रह रहे कश्मीरी पंडित समुदाय में भारी आक्रोश,भय और चिंता का माहौल बना हुआ है। रोष प्रकट करने के लिए कश्मीरी पंडित सड़कों पर भी उतरे हैं।यह सब तब हो रहा है जब सरकार घाटी में कश्मीरी पंडितों के पुनर्वास के बारे में प्रयास करने में जुटी हुई है। घटना के विरोध में हुए प्रदर्शन के दौरान पंडितों ने स्पष्ट किया कि सरकार उन्हें सुरक्षा की गारंटी दे। घाटी में पंडित पहली बार गमो-गुस्से में दिखाए दिए। हाथों में बैनर और तख्तियां लिए उन्होंने सरकार विरोधी नारेबाजी भी की। प्रदर्शन कर रहे लोगों का साफ तौर पर कहना था कि उनका क्या कसूर है जो उन्हें इस तरह एक बार फिर से निशाना बनाया जा रहा है।1990 से वे बराबर आतंकियों के निशाने पर हैं और सरकार है जो इन जिहादियों का सफाया नहीं कर पा रही।

12 मई गुरुवार शाम को चडूरा गांव में स्थित तहसील ऑफिस में घुसकर जैश-ए-मोहम्मद के आतंकवादियों ने 36 साल के राहुल भट्ट पर गोलियां बरसा दी थीं। राहुल को हमले के तुरंत बाद अस्पताल पहुंचाया गया था, लेकिन इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई। राहुल भट्ट की हत्या के बाद से विरोध कर रहे कश्मीरी पंडितों का कहना है कि उन्हें जान-बूझकर निशाना बनाया जा रहा है। इस घटना से पहले एक मेडिकल स्टोर के मालिक की हत्या की गयी थी, फिर स्कूल में घुसकर एक पंडित टीचर और प्रिंसिपल पर फायरिंग की वारदात हई थी। खबर है कि बीते शुक्रवार को राहुल भट्ट के जम्मू में हुए अंतिम संस्कार के दौरान लोगों ने ‘बीजेपी हाय-हाय’ और ‘पाकिस्तान मुर्दाबाद’ के नारे भी लगाए। भट्ट के परिवार ने मामले की उच्चस्तरीय जांच की मांग की है। राहुल भट्ट की पत्नी ने कहा है कि जम्मू-कश्मीर में कश्मीरी पंडित सुरक्षित नहीं हैं और सरकार को कश्मीरी पंडितों की बिल्कुल भी फिक्र नहीं है। उन्हें तो बलि का बकरा बनाया जा रहा है।

गौरतलब है कि मरहूम राहुल भट्ट प्रधानमंत्री राहत पैकेज के अंर्तगत कश्मीर में सरकारी मुलाज़िम नियुक्त हुए थे। कश्मीरी पंडित नेता मांग कर रहे हैं कि कश्मीर में प्रधानमंत्री पैकेज के तहत कार्यरत सभी मुलाज़िमों को तुरंत प्रभाव से जम्मू या अन्यत्र तैनात किया जाय।

 

 

 

 

 

(डॉ.शिबन कृष्ण रैणा)
पूर्व सदस्य,हिंदी सलाहकार समिति,विधि एवं न्याय मंत्रालय,भारत सरकार।
पूर्व अध्येता,भारतीय उच्च अध्ययन संस्थान,राष्ट्रपति निवास,शिमला तथा पूर्व वरिष्ठ अध्येता (हिंदी) संस्कृति मंत्रालय,भारत सरकार।
2/537 Aravali Vihar(Alwar)
Rajasthan 301001
Contact Nos;
+918209074186,
+919414216124, 01442360124(Landline)
Email: [email protected],
shibenraina.blogspot.com
http://www.setumag.com/2016/07/author-shiben-krishen-raina.html

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -

वार त्यौहार