आप यहाँ है :

रेल स्वच्छता सप्ताह की सरकारी रिपोर्ट

रेल मंत्री के आह्वान पर देश भर में 17 सितम्बर से 25 सितम्बर, 2016 तक मनाये जा रहे `स्वच्छ रेल स्वच्छ भारत – स्वच्छता सप्ताह’ के अंतर्गत पश्चिम रेलवे इस आयोजन को अधिकाधिक सफल बनाने के लिए हरसम्भव प्रयास कर रही है। सप्ताह भर चलने वाले इस अभियान में रेलवे पर स्वच्छता के महत्त्व को प्रकाश में लाया जा रहा है तथा इस अवधि के दौरान विभिन्न स्वयंसेवी संगठनों, स्वयंसेवक समूहों, शैक्षणिक संस्थानों तथा अन्य चैरिटेबल संस्थाओं इत्यादि के सहयोग से रेलवे स्टेशनों तथा ट्रेनों में विशेष स्वच्छता अभियान चलाने सहित विभिन्न प्रकार के सफाई अभियान आयोजित किये जा रहे हैं।

इन्हीं गतिविधियों के क्रम में `रेल स्वच्छता सप्ताह’ का सातवाँ दिन अर्थात 23 सितम्बर, 2016 ‘स्वच्छता संवाद’ की संकल्पना पर मनाया गया, जिसमें पश्चिम रेलवे पर प्रेस कॉन्फ्रेंस एवं सेमिनार आयोजित किये गये, जिसके अंतर्गत सभी मंडलों के मंडल रेल प्रबंधकों ने रेलवे स्टेशनों की स्वच्छता एवं उनका रख-रखाव, साफ-सफाई के उचित मानदंडों के लिए किये जा रहे प्रयासों एवं इसके लिए अपनाये गये साधनों के विषय पर सेमिनार आयोजित किये तथा स्टेशन तथा परिसरों को साफ रखने हेतु यात्रियों में मीडिया के सहयोग से जागरूकता पैदा करने के लिए सहयोग मांगा। स्वच्छता पर यात्रियों से भी संवाद स्थापित किया गया एवं उनसे इस विषय पर फीडबैक लिया गया।

मुंबई सेंट्रल स्थित मंडल रेल कार्यालय में मीडिया प्रतिनिधियों को संबोधित करते हुए रेलवे बोर्ड के कार्यकारी निदेशक (पर्यावरण एवं हाउस कीपिंग प्रबंधन) श्री अभय बाकरे ने भारतीय रेलवे के 407 प्रमुख स्टेशनों पर स्वच्छता के 40 मानकों के आधार पर हाल ही में किये गये सर्वेक्षण की उपयोगिता को उजागर किया। उन्होंने कहा कि यह सर्वेक्षण तीसरी पार्टी द्वारा कराया गया था, जिसमें 1.25 लाख लोगों के मतों को शामिल किया गया था। इस सर्वेक्षण के परिणामों के विश्लेषण से रेलवे को स्टेशनों तथा ट्रेनों में स्वच्छता के प्रति लोगों का नज़रिया समझने तथा सर्वेक्षण की रिपोर्ट के आधार पर भविष्य में उठाये जाने वाले कदमों के बारे में काफी मदद मिली।

मुंबई मंडल के उमरगाम स्टेशन पर रेलवे स्टेशनों की स्वच्छता एवं उनका रख-रखाव विषय पर एक सेमिनार का आयोजन भी किया गया। स्टेशन पर यात्रियों तथा मीडिया से संवाद और उन्हें अभियान के दौरान विभिन्न गतिविधियों का संक्षेप में वर्णन, रेल परिसर में स्वच्छता को बेहतर बनाने के लिए उठाया गया एक महत्त्वपूर्ण कदम है। मुंबई मंडल के मंडल रेल प्रबंधक श्री मुकुल जैन तथा अन्य अधिकारियों ने उद्योग एवं यात्री संगठनों को आमंत्रित किया तथा उनसे स्टेशन को साफ-सुथरा रखने के लिए योगदान का अनुरोध किया। भेस्तान स्टेशन पर नगरपालिका कर्मचारियों के सहयोग से स्वच्छता कार्यक्रम आयोजित किये गये। साथ ही नामित अधिकारियों एवं पर्यवेक्षी कर्मचारियों द्वारा यात्रियों एवं रेल उपभोक्ताओं के साथ वृहद पैमाने पर संवाद स्थापित किया गया। यात्रियों के मतों एवं उनकी टिप्पणियों को जानने के लिए यात्रियों से फीडबैक फॉर्म के ज़रिये स्टेशनों एवं ट्रेनों में स्वच्छता पर फीडबैक लिया गया। फीडबैक का बहुमत सकारात्मक रहा। बांद्रा टर्मिनस स्थित कोचिंग डिपो में क्लीनिंग सेमिनार-कम-वर्कशॉप का आयोजन किया गया, जिसमें रेल अधिकारियों द्वारा रेलकर्मियों को स्वच्छता के विषय पर उचित मार्गदर्शन दिया गया।

मुंबई मंडल पर चलाये जा रहे प्रमुख अभियान की अभी तक की प्रमुख बातें निम्न हैं:-
मुंबई मंडल के मंडल रेल प्रबंधक के नेतृत्व में मंडल के अधिकारियों द्वारा 6 स्थानों पर पौधरोपण किया गया।
पश्चिम रेलवे की दोनों ट्रेड यूनियनों द्वारा बोरीवली, वलसाड, अंधेरी और बांद्रा स्टेशन पर पौधारोपण किया गया।
कांदिवली स्टेशन पर श्रॉफ कॉलेज द्वारा पौधारोपण किया गया।
· चलथान स्टेशन पर एपेक्स इंग्लिश अकादमी द्वारा पौधारोपण किया गया।
· मुंबई सेंट्रल स्टेशन पर इंजीनियरिंग विभाग द्वारा बगीचे के सौंदर्य को निखारा गया।
· मुंबई मंडल के 90 स्टेशनों पर सघन स्वच्छता अभियान के अंतर्गत अधिकारियों द्वारा कुल 464 निरीक्षण तथा स्टेशन मास्टरों द्वारा कुल 38 निरीक्षण किये गये।
·
सप्ताह के अंतर्गत 130 ट्रेनों में स्वच्छता के सर्वेक्षण, लिनन की गुणवत्ता तथा ओबीएचएस स्टाफ के कार्य निष्पादन का निरीक्षण किया गया।
·
कूड़ा-करकट फैलाने के विरुद्ध धारा 198 के अंतर्गत सप्ताह के अंतर्गत कुल 1061 मामले दर्ज किये गये तथा जुर्माने के रूप में रु. 1,06,100 वसूले गये।
·
मुंबई के 5 उपनगरीय स्टेशनों चर्चगेट, दादर, बांद्रा, अंधेरी और बोरीवली तथा गैर उपनगरीय स्टेशनों नंदुरबार और सूरत स्टेशनों पर ‘डस्टबिन दान करें’ अभियान चलाया गया। इस अभियान के अंतर्गत इन 7 स्टेशनों पर 17 डस्टबिन दान किये गये। इस अभियान का उद्देश्य डस्टबिन को पाना नहीं, बल्कि स्वच्छता अभियान में यात्रियों की सहभागिता और उनमें इसके प्रति जागरूकता पैदा करना था।
·
स्वच्छता अभियान के तहत विभिन्न स्टेशनों पर अनेक नुक्कड़ नाटक किये गये, जिसमें चर्चगेट, बांद्रा और बोरीवली स्टेशनों पर नेशनल स्पीड फॉर परफॉर्मिंग द्वारा किये गये नुक्कड़ नाटक मुख्य हैं।
·
मीरा-भायंदर नगरमहापालिका की महापौर द्वारा 22 सितम्बर, 2016 को न सिर्फ अभियान में सक्रिय भाग लिया गया, बल्कि उन्होंने अपनी उपस्थिति द्वारा इस अभियान को गति प्रदान की।
·
स्टेशनों को स्वच्छ रखने के संदेश को लोगों तक पहुँचाने के लिए गैर-सरकारी संगठनों द्वारा 19 जागरूकता अभियान चलाये गये।
·
अधिकारियों को यात्रियों से संवाद स्थापित करने की सलाह दी गई एवं उनसे इस अभियान के प्रति फीडबैक भी लिया गया। स्टेशनों पर 1279 यात्रियों से सम्पर्क किया गया एवं ट्रेनों में 370 यात्रियों से संवाद स्थापित किया गया।
·
स्काउट एंड गाइड, प्रयास फाउंडेशन, देखा एक ख्वाब, ऑटो रिक्शा एसोसिएशन तथा डी. के. एम. श्रॉफ कॉलेज सहित 11 संगठनों ने अपने 322 स्वयंसेवकों के माध्यम से जागरूकता पैदा करने तथा स्टेशनों पर स्वच्छता गतिविधियों में लोगों की सहभागिता बढ़ाने के लिए 14 स्वच्छता अभियान चलाये।

Print Friendly, PDF & Email


सम्बंधित लेख
 

ईमेल सबस्क्रिप्शन

PHOTOS

VIDEOS

Back to Top