Friday, April 19, 2024
spot_img
Homeपत्रिकाकला-संस्कृतिविक्रमोत्सव, उज्जयिनी विक्रम व्यापार मेले का शुभारंभ 1 मार्च को

विक्रमोत्सव, उज्जयिनी विक्रम व्यापार मेले का शुभारंभ 1 मार्च को

उज्जैन। विक्रमादित्य, उनके युग, भारत उत्कर्ष, नवजागरण और भारत विद्या पर एकाग्र विक्रमोत्सव 2024 का शुभारंभ 1 मार्च को कालिदास अकादमी, उज्जैन में प्रात: 10.30 बजे होगा। इस अवसर पर उज्जयिनी विक्रम व्यापार मेला, भारतीय ऋत्र्षि वैज्ञानिक परंपरा पर कें्िरदत कॉफी टेबल बुक आर्ष भारत, विक्रम पंचांग (विक्रम संवत् 2081) का लोकार्पण किया जाएगा। साथ ही स्वराज संस्थान संचालनालय के प्रकाशन मप्र में स्वाधीनता संग्राम मंडला-डिंडोरी, दतिया, जबलपुर, सतना एवं रामराजा (लेखक- पी. नरहरि एवं ऋषिकेश पाण्डेेय) पुस्तक का विमोचन तथा ओरछा के राजाराम ऑडियो सीडी का लोकार्पण किया जाएगा।

विक्रमोत्सव 2024 एक इवेंट नहीं यह लोक समाज के लिए पर्व बन चुका है। 1 मार्च से 9 अप्रैल तक आयोजित यह समारोह देश-प्रदेश की सांस्कृतिक दुनिया का सबसे लंबी अवधि तक चलने वाला आयोजन है। विक्रक्रमोत्सव में संगीत, नृत्य, नाटक, चित्र, मूर्तिकला, सिनेमा, प्राचीन इतिहास पर समागम, शोध परक पुस्तकों के प्रकाशन तो शामिल है। साथ ही भारतीय कालगणना की प्राचीनतम, प्रामाणिक एवं विश्वसनीय पद्धति पर आधारित विक्रमादित्य वैदिक घड़ी का स्थापन भी उज्जैन में किया जा रहा है।

जिसका लोकार्पण कार्यक्रम भोपाल में आज 29 फरवरी को पीएम नरेंद्र मोदी द्वारा किया जा रहा है। यह विश्व की पहली वैदिक घड़ी होगी। साथ ही युगयुगीन भारत के कालजयी महानायकों की तेजस्विता को रेखांकित करने वाले वीर भारत संग्रहालय का संकल्प न्यास भी होगा। पूर्व वैदिक, उत्तर वैदिक, रामायण-महाभारत काल, विक्रमादित्य युग, मध्ययुग और पराधीनता के विरुद्ध सिंहनाद करने वाले तेजस्वी नायकों, मंत्र द्रष्टा ऋषियों, संतों, मनीषियों और आज़ादी के रणबांकुरों के अनुपम योगदान पर केंद्रित यह संग्रहालय देश और दुनिया में सर्वथा अनूठा और सर्व प्रथम होगा।

विक्रमोत्सव 2024 के शुभारंभ अवसर पर शाम 7 बजे से लोकप्रिय भजन गायक पं. कन्हैया मित्तल की भजन प्रस्तुति होगी। इसके पहले संतोष नायर निर्देशित ओम नम: शिवाय (शास्त्रीय नृत्य ) की प्रस्तुति की जाएगी। इसके अलावा क्रेजी हूपर ग्रुप मुंबई द्वारा हनुमान चालीसा और शिव महादेव (स्तुति) होगी।

शोधपीठ के कार्यालय बिड़ला भवन में भारतीय ऋषि वैज्ञानिक परंपरा पर केंद्रित आर्ष भारत, विक्रमकालीन मुद्रा एवं मुद्रांक, श्रीकृष्ण: चौंसठ कलाए (मालवा की चितरावन शैली में), श्रीकृष्ण : होली पर्व प्रदर्शनी (लघु चित्रों में श्रीकृष्णा की छवियां) प्रदर्शनी लगाई जाएगी। प्रदर्शनी प्रतिदिन सुबह 10:30 से शाम ६ बजे तक अवलोकनार्थ खुली रहेगी।

अभिनेत्री-नृत्यांगना हेमा मालिनी एवं उनके दल द्वारा शिव-दुर्गा नृत्य नाटिका की प्रस्तुति और महाशिवरात्रि के अवसर पर 8 मार्च को लोकप्रिय गायक अमित त्रिवेदी द्वारा नमामि महादेव शंखनाद प्रस्तुति होगी।

40 से अधिक चलने वाले इस उत्सव में बोलियों का अभा कवि सम्मेलन, श्रीकृष्णकलीलामृत, राष्ट्रीय विज्ञान समागम, महादेव शिल्प कला कार्यशाला, पौराणिक फिल्मों का अंतरराष्ट्रीय महोत्सव, विक्रम नाट्य समारोह, वेद अंताक्षरी, दैवज्ञ सम्मान समारोह, अंतरराष्ट्रीय इतिहास समागम, अभा कवि सम्मेलन सहित सृष्टि आरंभ दिवस गुड़ी पड़वा 9 अप्रैल को सूर्योपासना, महाकाल शिवज्योति अर्पणम्, पिंगल सम्वत्सर का शुभारंभ, उज्जायिनी गौरव दिवस के अवसर पर सुप्रसिद्ध गायक जुबिन नौटियाल एवं उनके दल द्वारा सांगीतिक प्रस्तुति होगी।

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -spot_img

वार त्यौहार