आप यहाँ है :

काव्यांजलि में अटलजी को कविताओँ और संस्मरणों से श्रध्दांजलि

मुंबई। केंद्रीय खाद्य मंत्री रामविलास पासवान ने आज यहां अटलजी की मासिक पुण्यतिथि पर आयोजित काव्यांजलि के कार्यक्रम में उन्हें याद करते हुए उन्हें संघर्षों की कोख से निकले राजनेता के रूप में निरूपित किया।उन्होंने बताया कि जब वे आठवी के विद्यार्थी थे तब बिहार में उन दिनों राम मनोहर लोहिया और अटल बिहारी वाजपेई के प्रति नवयुवकों में जबरदस्त रोमांच रहता था अटल जी के लक्ष्य दार भाषण और भाषण के साथ-साथ उनके अंग-प्रत्यंगों के उतार चढ़ाव को देखने की ललक लोगों में होती थी।श्री पासवान ने आपातकाल के दौरान श्री अटलजी के साथ बिताए गए दिनों का जिक्र किया।उन्होंने जनता पार्टी के दिनों में विदेश मंत्री के रूप में श्री वाजपेयी के योगदान की प्रशंसा की।और उनके प्रधानमंत्रित्व काल मे किये गए विकास पर् भी प्रकाश डाला। कार्यक्रम का संचालन श्री वीरेन्द्र याज्ञिक ने किया।

बांद्रा के रंग शारदा सभागृह में मुंबई बीजेपी द्वारा भारत रत्न अटलजी के मासिक पुण्यतिथि पर आयोजित काव्यांजलि के कार्यक्रम में केंद्र ,उत्तरप्रदेश व महाराष्ट्र के मंत्रियों समेत बड़ी संख्या में लोगों ने शिरकत की।उत्तरप्रदेश के प्राविधिक व चिकित्सा शिक्षा मंत्री आशुतोष टण्डन ने अटलजी के सानिध्य में बिताए पलों को याद किया। अटलजी द्वारा लखनऊ के सांसद के तौर पर किस तरह छोटे छोटे विषयों को तवज्जों दिए जाने की उनकी नीति का उल्लेख किया।महाराष्ट्र के शिक्षा व संस्कृति मंत्री विनोद तावड़े ने याद दिलाया कि अटलजी अपने प्रधानमंत्रित्व काल मे मुंबई में अपने घुटने का जब ऑपरेशन करवाया था तब उन्होंने यही मुंबई के लिए अतिआवश्यक एम यू टी पी को हरी झंडी दी थी।श्री तावड़े ने सत्ता में आने के बाद भी संगठन के लोगों को अति महत्व देने की श्री अटलजी की नीति की पैरोकारी की।महाराष्ट्र के गृहनिर्माण मंत्री प्रकाश मेहता ने अटलजी की सादगी और उनके उच्च विचारों को आज भी प्रासंगिक बताया।मुंबई बीजेपी के अध्यक्ष आशीष शेलार ने कहा कि किस तरह अटलजी कश्मीर के लिए चिंतित रहते थे इसीलिए वे अपने कामों की वजह से कश्मीर की जनता में भी उतने ही लोकप्रिय थे।

कार्यक्रम के संयोजक मुंबई बीजेपी के महामंत्री अमरजीत मिश्र ने अतिथियों को अटलजी की तरह का अंगवस्त्रम देकर स्वागत किया।उन्होंने श्री अटलजी की ‘गगन में लहरता है भगवा हमारा’ का पाठ किया।डॉ सुधाकर मिश्र,कवियित्री दीप्ति मिश्र व महेश दुबे ने श्री अटलजी के व्यक्तित्व व कृतित्व पर प्रकाश डालती कविता पढ़ी।मुंबई विश्वविद्यालय के हिंदी विभागाध्यक्ष डॉ करुणाशंकर उपाध्याय ने श्री अटलजी को उत्तम दर्जे का कवि व राजनेता बताया।काव्यांजलि का संचालन वीरेंद्र याग्निक ने किया।अमरजीत मिश्र द्वारा निर्मित मराठी फिल्म जिसमें यह दिखाया गया है कि अटलजी अपने भाषणों में किस तरह सफाई से मराठी शब्दों का प्रयोग करते थे और मराठी सन्त साहित्य व संगीत से उनके अनुराग पर आधारित एक मराठी फिल्म का भी प्रदर्शन किया गया।

फोटो में—

अटलजी की स्मृति में मुंबई बीजेपी द्वारा आयोजित काव्यांजलि में केंद्रीय खाद्य मंत्री रामविलास पासवान का स्वागत उसी तरह का अंगवस्त्रम देकर हुआ जिस तरह का अंगवस्त्रम अटलजी अपने कंधे पर रखते थे।पासवान को अंगवस्त्रम व अटलजी की पुस्तक देकर स्वागत करते मुंबई बीजेपी के अध्यक्ष आशीष शेलार व काव्यांजलि के संयोजक व महामंत्री अमरजीत मिश्र।साथ मे उत्तरप्रदेश के मंत्री आशुतोष टण्डन,महाराष्ट्र के मंत्री विनोद तावड़े व प्रकाश मेहता व अन्य।



सम्बंधित लेख
 

Back to Top