आप यहाँ है :

कैरियर
 

  • उच्च शिक्षा की गुणवत्ता पर निर्भर, समृद्धि का स्तर

    उच्च शिक्षा की गुणवत्ता पर निर्भर, समृद्धि का स्तर

    छात्रों और अभिभावकों को यह महसूस हो चुका है और उनका रुझान इस ओर कम हो रहा है। बिजनेस स्टैंडर्ड में प्रकाशित एक रिपोर्ट के मुताबिक शीर्ष प्रबंधन संस्थानों की प्रवेश परीक्षा में शामिल होने वाले छात्रों की संख्या में गिरावट आई है।

  • रेडियो से मैंने सीखी बोलने की प्रभावी कला

    रेडियो से मैंने सीखी बोलने की प्रभावी कला

    देवकीनन्दन पांडे की आवाज का वह असर मुझ पर आज तक बाकी है, यहाँ तक कि जब उनके साहबजादे सुधीर पांडे रेडियो/फ़िल्मों/टीवी पर आने लगे तब भी मैं उनमें उनके पिता की आवाज खोजता था।

  • प्रबंधन में सँवारें भविष्य के ऊँचे सपने

    आपने उस छोटी चिड़िया की कहानी तो सुनी ही होगी, जो खुद को बदसूरत मानते-मानते इस कदर आत्मविश्वासहीन हो गयी कि अपनी बोली भी भूल गयी। एक दिन अचानक उसने साफ जल में खुद को देखा, तो महसूस किया कि वह अब छोटी चिड़िया नहीं, बल्कि एक खूबसूरत हंस हो चुकी है। खुद को पहचान […]

  • तरुणाई को सही और सटीक दिशा की ज़रुरत

    किशोरावस्था तीव्र शारीरिक भावनात्मक और व्यवहार सम्बन्धी परिवर्तनों का काल है। यह परिवर्तन शरीर में उत्पन्न होने वाले कुछ हारमोंस के कारण आते हैं जिनके परिणाम स्वरुप कुछ एक ग्रंथियां एकाएक सक्रिय हो जाती है। ये सब परिवर्तन यौन विकास के साथ सीधे जुड़े हुए हैं क्योंकि इस अवधि में गौण यौन लक्षणों के साथ-साथ […]

  • उच्च शिक्षा में क्षमता और दक्षता की बढ़ती महत्ता

    हाल ही में हमारे यहां उच्च शिक्षा के क्षेत्र में प्राध्यापकों के कार्यों की परफॉरमेंस आधारित मूल्यांकन पद्धति एक स्वागतेय कदम है,क्योंकि हर जिम्मेदार अधिकारी या कर्मचारी की क्षमता व दक्षता की झलक उसके कार्य और कार्यशैली का आइना कहा जा सकता है। वैसे प्रत्येक संस्थान में कर्मचारियों के वर्क परफॉरमेंस का विश्लेषण करने के […]

  • बारहवीं के बाद भविष्य की राह

    बारहवीं और दसवीं की परीक्षाओं केबाद छात्रों की नजर परीक्षा परिणामों पर टिकी रहती है। लीजिये अपने याहा तो नतीजे भी घोषित हो गए हैं। इसी के साथ उनमें आगे की पढ़ाई के लिए उपयुक्त कोर्स या स्ट्रीम के चयन को लेकर चिंतन और अक्सर चिंता का दौर भी शुरू हो जाता है। लेकिन, याद […]

  • रचनात्मक कला और प्रतिष्ठित व्यवसाय : जन संपर्क

    जन संपर्क एक कला तो है ही, आज एक महत्वपूर्ण व्यवसाय और भारत जैसे विशाल लोकतंत्र की तो बड़ी ज़रुरत भी बन गया है। उत्पादों व संस्थाओं को बाजार में उतारने व कायम रहने की चुनौतियों ने जनसंपर्क की उपयोगिता बढ़ा दी ।  मोबाइल, इंटरनेट द्वारा नवनिर्मित सूचना समाज में जनसंपर्क सरकार व बाजार से […]

  • बायोमास गैसिफिकेशन में 2025 तक लाख 9 लाख जॉब्स !

    प्रसिद्ध पर्यावरणविद् सुंदरलाल बहुगुणा मानते हैं कि अगर दुनिया को बचाना है तो हिमालय को पूरी तरह पेड़ों से ढकना होगा।पर्यावरण के खतरों पर विश्व में चिंता तो बढ़ी है और कुछ पहल भी शुरू हुई है, लेकिन भारत की स्थिति इन देशों से अलग है। विकसित देशों में जमीन ज्यादा है और आबादी कम। […]

  • इ मेल मार्केटिंग को भारत में एक नया आयाम दिया है कल्पित जैन ने

    ई-मेल मार्केटिंग बाजार की नई शैली है। दुनिया भर में 2.5 अरब ईमेल यूजर्स हैं और इसके जरिए कमर्शियल मेसेज भेजना एक लोकप्रिय ट्रेंड है। नेटकोर ( Netcore)  के सीओओ कल्पित जैन का मानना है कि आने वाले समय में यह नया बाजार खड़ा करेगा। पेश हैं कल्पित से एक बातचीत- नेटकोर  ने कुछ साल […]

  • बारहवीं के बाद पत्राचार कोर्स की राहों पर एक नज़र

    आजकल अक्सर बारहवीं के बाद क्या किया जाए जैसे प्रश्न पर चर्चा की जाती है।आज ही इस कालम के लेखक ने एक करियर मार्गदर्शन कार्यशाला में मुख्य वक्त के रूप में सहभागिता की। वहां भी दसवीं और बारहवीं के बाद की पढ़ाई पर बेहद कारगर बातें की गईं।  करियर बारे में नवीनतम जानकारी के साथ […]

  • Page 2 of 2
    1 2

ईमेल सबस्क्रिप्शन

PHOTOS

VIDEOS

Back to Top

Page 2 of 2
1 2