आप यहाँ है :

जियो तो ऐसे जियो
 

  • ये लड़ाई पैसे के लिए नहीं थी, 6 करोड़ तो मुकदमेबाजी में ही खर्च हो गए!

    चिकित्सीय लापरवाही के एक मामले में लगभग छह करोड़ रुपये का मुआवज़ा पाने वाले कुणाल साहा का कहना है कि उनकी लड़ाई कभी भी पैसे के लिए नहीं थी.  अमरीका में रहने वाले भारतीय मूल के डॉक्टर साहा का कहना है कि ये लड़ाई भारत में चिकित्सीय लापरवाही के हालात के खिलाफ़ थी जिसके फ़ैसले […]

  • एक भारतवंशी ने चुनौती दी ब्रिटिश संसद को

    लंदन। सदस्यता लेने से वंचित किए जाने से नाराज भारतीय मूल के अरबपति ब्रिटिश कारोबारी रमिंदर सिंह रैंगर ने हाउस ऑफ लॉड्‌र्स को अदालत में घसीट लिया है। भारतवंशी रैंगर का आरोप है कि गलत, झूठी और भेदभावपूर्ण जानकारियों के जरिये उन्हें दो बार हाउस आफ लॉर्ड्‌स की सदस्यता लेने से रोक दिया गया। लंदन […]

  • मलेशिया के एक हिन्दू की शानदार पहल

    मलेशिया में रहने वाले उथया शंकर का जन्म हिंदू परिवार में हुआ लेकिन बचपन में वे अकसर चर्च जाते थे और कभी-कभी मस्जिद में भी खेलते भी थे।  वे कहते हैं कि अलग अलग धर्मों के लोगों से मिलने में बहुत मज़ा आता था। लेकिन 90 का दशक आते आते चीज़ें बदलने लगीं।  संबंधित समाचार […]

  • किसान के बेटे ने बनाया नायाब उपकरण

    कहावत है, दीवारों के भी कान होते हैं। एक किसान के बेटे ने वाकई यह 'कान' बना दिया। सौ मीटर के दायरे में मोबाइल फोन पर या आपस में कनबतिया हो रही हैं, तो यह 'कान' सुन लेगा। इसके निर्माण पर लागत आई है मात्र पांच हजार रुपये और नाम रखा गया है मल्टीटॉस्किंग मशीन। […]

Back to Top