आप यहाँ है :

कला-संस्कृति
 

  • मानवता की सृजनात्मक हुंकार है “थिएटर ऑफ़ रेलेवंस”!

    मानवता की सृजनात्मक हुंकार है “थिएटर ऑफ़ रेलेवंस”!

    नब्बे का दशक देश,दुनिया और मानवता के लिए आमूल बदलाव का दौर है.”औद्योगिक क्रांति” के पहिये पर सवार होकर मानवता ने सामन्तवाद की दासता से निकलने का ख्वाब देखा.पर नब्बे के दशक तक आते आते साम्यवाद के किले ढह गए और ”औद्योगिक क्रांति” सर्वहारा की मुक्ति का मसीहा होने की बजाय पूंजीवाद का खतरनाक,घोर शोषणवादी और अमानवीय उपक्रम निकला जिसने सामन्ती सोच को ना केवल मजबूती दी अपितु विज्ञान के आविष्कार को तकनीक देकर भूमंडलीकरण के जरिये दुनिया को एक शोषित ‘गाँव’ में बदल दिया. ऐसे समय में भारत भी इन वैश्विक प्रक्रियाओं से अछुता नहीं था.

  • लोक का अर्थ, मंथन की परंपरा और राष्‍ट्रीय आयोजन

    लोक का अर्थ, मंथन की परंपरा और राष्‍ट्रीय आयोजन

    मंथन भारत का आधारभूत तत्‍व है, इसलिए विमर्श के बिना भारत की कल्‍पना भी की जाएगी तो वह अधूरी प्रतीत होगी। यहां लोकतंत्र शासन व्‍यवस्‍था की सफलता का कारण भी यही है कि वेद, श्रुति, स्‍मृति, पुराण से लेकर संपूर्ण भारतीय वांग्‍मय, साहित्‍य संबंधित पुस्‍तकों और चहुंओर व्‍याप्‍त संस्‍कृति के विविध आयमों में लोक का सुख, लोक के दुख का नाश, सर्वे भवन्‍तु सुखिन: और जन हिताय-जन सुखाय की भावना ही सर्वत्र दृष्‍टि‍गत होती है।

  • स्वर आलाप का मधुर संगीत महोत्सव

    स्वर आलाप का मधुर संगीत महोत्सव

    मुंबई। संगीत, कमेडी, बहुत से पुराने और भावनात्मक फिल्मी गानों के द्वारा अनेकों की पुरानी यादों को ताजा किया...ऐसी थी स्वर आलाप द्वारा आयोजित कंसर्ट में “बहुमुखी प्रतिभा वाले –जावेद अली”की प्रस्तुति। स्वर आलाप एक ऐसा संगठन है जो पिछले 14 सालों से भारतीय संगीत उद्योग के महान संगीतकारों को पहचान दिलाने के लिए प्रतिबद्ध है।

  • अविस्मरणीय क्षणों की सौगात दे गया कजरी महोत्सव

    अविस्मरणीय क्षणों की सौगात दे गया कजरी महोत्सव

    मुंबई। रविवार को जाते जाते कजरी महोत्सव ने कई अविस्मरणीय क्षणों की सौगात दी, जो मुंबईकरों के मानस पर अमिट छाप छोड़ गए।बनारसी लाल गमछा कांधे पर डाले महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस की महोत्सव में एक घण्टे से अधिक समय की मौजूदगी

  • नाटक समूह की अभिव्यक्ति है  – स्वयं प्रकाश

    नाटक समूह की अभिव्यक्ति है – स्वयं प्रकाश

    दिल्ली। 'कहानी लिखना एक व्यक्ति की निजी गतिविधि हो सकती है लेकिन नाटक और रंगमंच के साथ ऐसा नहीं है। नाटक रंगमंच पर आकर अपना वास्तविक आकार ग्रहण करता है जिसमें निर्देशक और नाटक से जुड़े तमाम लोग अर्थ भरते हैं।'

  • कजरी महोत्सव में पहुँची  राजश्री बिरला

    कजरी महोत्सव में पहुँची राजश्री बिरला

    मुंबई। सुप्रसिद्ध उद्योग घराने बिरला समूह की अगुआ पद्मश्री राजश्री बिरला ने कजरी महोत्सव में पहुंचकर एक ओर सादगी व विनम्रता का परिचय दिया तो दूसरी ओर महोत्सव में बड़ी संख्या में जुटी महिलाओं को प्रेरणा भी दी।

  • मुंबई की झमाझम बारिश के बीच कजरी की धुनों पर १७ दिनों तक थिरकेंगे मुंबईवासी

    मिर्जापुर की कजरी गायिका मधु पांडेय और मुंबई के सदाबहार गायक सुरेश शुक्ला सावन की झमाझम बारिश में मुंबई के लोकगीत रसिको को 30 जुलाई से लोकसंस्कृति की फुहार से तृप्त करेंगे.

  • ‘स्वर आलाप’ की प्रस्तुति ‘‘द वर्सेटाइल’’ – एक संगीतमय प्रेरणा

    ‘स्वर आलाप’ की प्रस्तुति ‘‘द वर्सेटाइल’’ – एक संगीतमय प्रेरणा

    स्वर आलाप' एक गैर-लाभकारी संगठन है जो कि पिछले 14 साल से भारतीय संगीत उद्योग से जुड़े संगीतकारों के हितों के लिए कार्य कर रहा है। हर साल, 'स्वर आलाप' एक संगीत समारोह का आयोजन करता है, जिसमें संगीत उद्योग की गत वर्षों की महान संगीत प्रतिभाओं को कौशल प्रदर्शन का मंच प्रदान किया जाता है।

  • मुंबई में बहेगी लोक रंग की धारा, 30 जुलाई को कजरी महोत्सव

    एक ओर इंद्र देवता ने महाराष्ट्र समेत देश के लगभग हर हिस्से पर कृपा की है।सावन से पहले ही सावनी वातावरण ने लोगों का मन मोह लिया है।वहीँ दूसरी ओर सावन की रिमझिम फुहारों के बीच मुम्बई में रहनेवाले उत्तरप्रदेश और बिहार के लोगों पर कजरी की रसधार बरसाने का पूरा इंतजाम हो गया है।

  • कैलिफोर्निया में गाँधारी इन सर्च ऑफ लाईट की दमदार प्रस्तुति

    कैलिफोर्निया में गाँधारी इन सर्च ऑफ लाईट की दमदार प्रस्तुति

    2 जुलाई को नॉइज़ विद इन थिएटर लॉस ऐँजेलिस कैलिफोर्निया अमेरिका में आस्ट्रेलया के जाने माने अभिनय स्कूल ऑफ परफॉर्मिंग आर्ट्स की प्रस्तुति गांधारी इन सर्च ऑफ लाईट का मंचन हुआ l यह एक ऐसी यादगार प्रस्तुति थी जिसे लोग बरसों तक नहीं भूल पाएँगे।

Back to Top