Tuesday, April 16, 2024
spot_img
Homeश्रद्धांजलिमहासाध्वी उपप्रवतिनी श्री चंदनबाला का देवलोक गमन:70 वर्षों तक दीक्षा पर्याय का...

महासाध्वी उपप्रवतिनी श्री चंदनबाला का देवलोक गमन:70 वर्षों तक दीक्षा पर्याय का पालन किया  

समाज की क्षति अपूर्णीय –  दिनेश मुनि


गुजरात राज्य के मोडासा शहर के श्री जीरावला पार्श्वनाथ लब्धि जैन मंदिर में प्रवासरत श्रमण संघीय सलाहकार दिनेश मुनि ने आज (28 दिसंबर 2023) को कालधर्म को प्राप्त श्रमण संघीय श्री अमर – पुष्कर संप्रदाय की ज्येष्ठ महासाध्वी उप प्रवतिनी श्री चंदनबाला जी म. को श्रद्धांजली अर्पित करते हुए कहा कि महासती के आकस्मिक देवलोक गमन से समाज को जो क्षति हुई है वह अपूर्णीय है। जन जन के मन में धर्म आस्था का सूर्य दीप्तिमान करने वाली महान साधिका का अवसान हुआ है जिससे समाज व संघ पर वज्रघात हुआ है। धर्मसाधना उनका जीवन लक्ष्य था, दृढनिष्ठा उनका प्रगतिपथ था, विवेक और विचार उनके मार्गदर्शक थे, और यश प्रतिष्ठा मान सम्मान उनके अनुगामिनी थे। उन्होंने अपनी तपश्चर्या व अद्वितीय साधना के द्वारा जैन संस्कृति के गौरव को बढाया हैं। उनका जीवन अनेकानेक सद्गुणो का खिला हुआ गुलदस्ता था, जिनकी सुवास से सम्पूर्ण स्थानकवासी समाज व गुरु पुष्कर देवेंद्र संप्रदाय गौरवान्वित था। इस अवसर पर डॉ द्विपेंद्र मुनि, डॉ पुष्पेंद्र मुनि ने भी श्रद्धांजलि अर्पित की।

उल्लेखनीय है कि अखिल भारतीय श्वेतांबर स्थानकवासी जैन श्रमण संघीय महासाध्वी उपप्रवर्तिनी चंदनबाला (87 वर्ष) का आज प्रातःकाल श्री शील चंदन स्वाध्याय भवन, अंवती नगर – हैदराबाद में संथारे सहित देवलोक गमन हो गया। श्रमण संघीय उपाध्याय श्री पुष्कर मुनि जी म. के संप्रदाय की ज्येष्ठ उपप्रवर्तिनी चंदनबाला को कल सायंकाल चौविहार संथारे के पचकखाण करवाएँ दिए गये थे, और आज प्रातःकाल 10.50पर उनका देवलोक गमन हो गया। अंतिम डोल यात्रा शील चंदन स्वाध्याय भवन से प्रारंभ हो जो कि हैदराबाद के विविध मार्गो से होती हुई “सत्यम शिवम् गोशाला” के सामने गगनपहाड परिसर पहुँची, जहां साध्वी श्री का पार्थिव देव का अंतिम संस्कार संपन्न हुआ। देवलोक गमन के समाचार प्राप्त होते ही उदयपुर – सूरत इत्यादि शहरों के श्रावक – श्राविकाओं में शोक की लहर छा गई।
जीवन परिचय
उदयपुर
 में 13 दिसंबर 1937 को ओसवाल गोत्रीय सोहनलाल खाब्या के घर जन्मी कुमारी कमला ने 6 मार्च 1953 को उदयपुर में ही उपाध्याय श्री पुष्कर मुनि से जैन दीक्षा ग्रहण कर नही साध्वी शीलकुंवर की शिष्या बनी। चार भाषाओं की जानकार महा साध्वी श्री ने कई पुस्तकों का लेखन भी किया है। उदयपुर क्षेत्र में साध्वी श्री का विचरण अधिक रहा था। उदयपुर शहर के मालदास स्ट्रीट की सुराना की सेहरी में “अमर स्वाध्याय भवन” जैन धर्म स्थानक आपकी प्रेरणा से स्थापित है।

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -spot_img

वार त्यौहार