आप यहाँ है :

खबरें
 

  • क्यों करता है भारतीय समाज बेटियों की इतनी परवाह…

    क्यों करता है भारतीय समाज बेटियों की इतनी परवाह…

    बालिका ने कहा- महाराज हमारे समाज में लड़कों को हर प्रकार की आजादी होती है। वह कुछ भी करे, कहीं भी जाए उस पर कोई खास टोका टाकी नहीं होती। इसके विपरीत लड़कियों को बात बात पर टोका जाता है।

    • By: विनोद भीमराजका
    •  ─ 
    • In: खबरें
  • बच्चों पर बुरा प्रभाव डाल रही है आधुनिक जीवनशैली – डॉ.जैन

    बच्चों पर बुरा प्रभाव डाल रही है आधुनिक जीवनशैली – डॉ.जैन

    तीन साल से कम के बच्चों के लिए इलेक्ट्रानिक स्क्रीनों और उपकरणों का अधिक उपयोग इन बच्चों के दिमाग़ को बुरे तरीके से प्रभावित कर रहा है.एक चैरिटी की ताज़ा चेतावनी के हवाले से प्रोफ़ेसर डॉ.चन्द्रकुमार जैन ने बताया कि आधुनिक जीवन शैली से बच्चों के दिमाग़ पर प्रभाव पड़ रहा है.

  • दिवाली और महावीर के महानिर्वाण का संयोग

    दिवाली और महावीर के महानिर्वाण का संयोग

    दीपावली केवल बाहर रोशनी जलाने का नाम नहीं, बल्कि अंतर को भी प्रज्ज्वलित करने का पर्व है। हमारी चेतना बाहर की ओर देखती है, अगर हम अंदर की ओर देखें तो कायाकल्प हो सकता है। अगर अंदर की रोशनी जल गई तो पूरा जीवन जगमग जगमग हो जाएगा। अपने अंतर में दीया जलाने की प्रक्रिया को ही ध्यान कहते हैं।

  • रोशनी पवित्रता का जीवन रक्त है

    रोशनी पवित्रता का जीवन रक्त है

    विद्या, बुद्धि और कला-संपन्न व्यक्ति वही होता है, जो सहनशील, नम्र और मधुर व्यवहार वाला होता है। व्यवहार रेगिस्तान में नहीं पनपता। वह तो एक फूल है,जिसे खिलने के लिये उद्यान की जरूरत होती है। लोग सोचते है कि उन्हें व्यवहार करना आता है।

  • आज मीरा बाई होती तो ये भजन गाती

    आज मीरा बाई होती तो ये भजन गाती

    खायो जी मैने दाल रतन धन खायो वस्तु अमोलिक दी मेरे सतगुरु | कृपा कर अपनायो ||

    • By: चन्द्रकांत जोशी
    •  ─ 
    • In: खबरें
  • उस आदमी ने हिटलर और स्टैलिन की नींद उड़ा दी थी!

    उस आदमी ने हिटलर और स्टैलिन की नींद उड़ा दी थी!

    1910 में जर्मनी की एक ट्रेन में एक पन्‍द्रह-सोलह वर्ष का युवक बैंच के नीचे छिपा हुआ था। उसके पास टिकट नहीं था। वह घर से भाग खड़ा हुआ है। उसके पास पैसा भी नहीं है। फिर तो बाद में वह बहुत प्रसिद्ध आदमी हुआ और हिटलर ने उसके सर पर दो लाख मार्क की घोषणा की कि जो उसका सिर काट लाये।

  • माँ की महिमाः जिसके पैरों के नीचे ज़न्नत है, उसके सर का मुकाम क्या होगा

    माँ की महिमाः जिसके पैरों के नीचे ज़न्नत है, उसके सर का मुकाम क्या होगा

    देश भर में शक्ति आराधना का पर्व चल रहा है, वैदिक ऋषियों ने प्रकृति को मातृ-शक्ति की संज्ञा दी और प्रकृति और पुरुष के रूप में सृजन शक्ति को पूजनीय बनाया। पुरुष स्वरूप शिव है और प्रकृति स्वरूप शक्ति। शिव और शक्ति का सम्मिलन ही जीवन का सृजन करता है। शक्ति के बिना शिव मात्र शव रह जाता है। वैदिक ऋषियों द्वारा इस मात्र शक्ति को सर्वोपरि मानते हुए ही कहा है

  • सरहदों  से समझौता बर्दाश्त नहीं – जितेन्द्र सिंह

    सरहदों से समझौता बर्दाश्त नहीं – जितेन्द्र सिंह

    जम्मू कश्मीर के सरहदों से कोई समझौता नहीं होना चाहिए। महाराजा हरि सिंह को यदि सच्ची श्रद्धांजलि अर्पित करनी है तो जम्मू-कश्मीर को उसी रूप में स्थापित किया जाये, जिस रूप में महाराजा छोड़ गये थे। उक्त बातें जम्मू काश्मीर पीपल्स फोरम द्वारा आयोजित महाराजा हरि सिंह के जयन्ती समारोह में मुख्य अतिथि डॉ. जितेन्द्र सिंह ने कही।

  • भ्रष्टाचारियों के खाते खोल रही है जम्मू कश्मीर सरकार

    भ्रष्टाचारियों के खाते खोल रही है जम्मू कश्मीर सरकार

    बीजेपी और पीडीपी की गठबंधन सरकार ने राज्य में फैले भ्रष्टाचार के प्रति सक्रिय कार्रवाई शुरू कर दी है। जो मामले पिछले लंबे समय से फाइलों में दबे हुए थे, अब उनकी तहे खुलने लगी हैं। जिसमें से कुछ ऐसे मामले भी हैं जिन पर हाल ही में कार्रवाई की गई है।

  • संत सुरक्षा की मांग को लेकर केंद्रीय मंत्रालय जायेगा जैन मीडिया – विनायक लुनिया

    संत सुरक्षा की मांग को लेकर केंद्रीय मंत्रालय जायेगा जैन मीडिया – विनायक लुनिया

    संतो के पैदल विहार में होते दुर्घटना के दौरान बढ़ते मृत्युदर (कालधर्म दर ) को देखते हुए संत सुरक्षा महाअभियान चलने वाले जैन मीडिया सोशल वेलफेयर सोसाइटी के राष्ट्रीय अधयक्ष विनायक ए लुनिया ने जैन समाज को सम्बोधित करते हुए कहा की जब जैन समाज अल्पसंख्यक होने के बावजूद भारत की सबसे बड़ी आर्थिक ताकत है उसके बाद भी आज तक जैन समाज को अनदेखा किया गया है

Back to Top