Sunday, March 3, 2024
spot_img
Homeमनोरंजन जगत54वें भारतीय अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव का शानदार समापन

54वें भारतीय अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव का शानदार समापन

54वें आईएफएफआई में अब्बास अमीनी की फारसी फिल्म एंडलेस बॉर्डर्स को सर्वश्रेष्ठ फिल्म का गोल्डन पीकॉक अवॉर्ड मिला

हॉलीवुड अभिनेता/निर्माता माइकल डगलस को सत्यजीत रे लाइफटाइम अचीवमेंट पुरस्कार से सम्मानित किया गया

एंथनी चेन की ड्रिफ्ट को आईसीएफटी-यूनेस्को गांधी पदक

अमेज़ॉन सीरीज ‘पंचायत सीजन 2’ को सर्वश्रेष्ठ वेब सीरीज (ओटीटी) का पुरस्कार मिला

राष्ट्रीय फिल्म विरासत मिशन के अंतर्गत विभिन्न भाषाओं की 5,000 से अधिक फिल्मों को 4के डिजिटल प्रारूप में संगृहीत किया जाएगा: केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री श्री अनुराग सिंह ठाकुर

गोआ। अरब सागर में आज हुए सूर्यास्त की स्वर्णिम आभा के साथ गोवा में पणजी के शानदार समुद्र तट पर अपनी सिनेमाई उत्कृष्टता और मनोहारी वातावरण की सुंदर आभा के बीच 54वें भारतीय अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव का रंगारंग समापन हो गया। शानदार समापन समारोह के साथ आज अपने अंतिम पड़ाव पर पहुंचे इस महोत्सव में फिल्म और मनोरंजन जगत की जानी-मानी हस्तियों, फिल्म निर्माताओं और दिग्गजों ने भागीदारी की।

फ़ारसी फ़िल्म एंडलेस बॉर्डर्स ने सर्वश्रेष्ठ फ़िल्म का गोल्डन पीकॉक पुरस्कार हासिल किया

अब्बास अमीनी द्वारा निर्देशित फारसी फिल्म एंडलेस बॉर्डर्स को 54वें आईएफएफआई में सर्वश्रेष्ठ फिल्म का गोल्डन पीकॉक पुरस्कार मिला। जूरी ने कहा कि यह फिल्म दर्शाती है कि आप अपने आप को जिन भावनात्मक और नैतिक बंधनों में बाध लेते हैं, वे भौतिक सीमाओं से कहीं अधिक जटिल हो सकते हैं।

बुल्गारिया के निर्देशक स्टीफन कोमांडेरेव को उनकी फिल्म ब्लागाज लेसन्स के लिए सर्वश्रेष्ठ निर्देशक के तौर पर सिल्वर पीकॉक से सम्मानित किया गया। जूरी के वक्तव्य में कहा गया है कि स्टीफन कोमांडेरेव एक महिला के चरित्र के माध्यम से एक सक्षम और हैरान करने वाले सबक के रूप में अपनी कहानी पेश करते हैं, जिसे अपने लक्ष्यों को प्राप्त करने का निर्णय लेते समय अपने मूल्यों से समझौता करना होता है। ब्लागाज लेसन्स की अभिनेत्रियों एली स्कोरचेवा और रोजाल्या एबगेरियन ने स्टीफन कोमांडेरेव की ओर से पुरस्कार प्राप्त किया। गोवा के मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत, तुर्की निर्देशक नूरी सीलान, ऑस्ट्रेलियाई फिल्म निर्माता हेलेन लीक और फिल्म अभिनेत्री ईशा गुप्ता ने यह प्रतिष्ठित पुरस्कार प्रदान किया।

अब्बास अमीनी द्वारा निर्देशित फारसी फिल्म एंडलेस बॉर्डर्स में ईरानी अभिनेता पौरिया रहीमी सैम को उनकी भूमिका के लिए सर्वसम्मति से सर्वश्रेष्ठ अभिनेता चुना गया है। जूरी ने अभिनेता का चयन “शूटिंग की चुनौतीपूर्ण परिस्थितियों में भी अपने सहयोगियों, बच्चों और वयस्कों के साथ भावपूर्ण अभिनय और प्रभावशाली संवाद के लिए किया है।”

फ्रांसीसी अभिनेत्री मेलानी थिएरी को फिल्म पार्टी ऑफ फूल्स में उनकी शानदार भूमिका के लिए सर्वश्रेष्ठ अभिनेता (महिला) के लिए सिल्वर पीकॉक से सम्मानित किया गया है। जूरी ने कहा कि अभिनेत्री ने अपने पात्र को निभाने में अभिव्यक्त की गई आशा से निराशा तक की सभी भावनाओं को गंभीरता से दर्शकों के सामने प्रदर्शित किया है। इंस्टीट्यूट फ्रेंकैस के जूलियट ग्रैंडमोंट ने मेलानी थिएरी की ओर से गोवा के मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत, फिल्म निर्माता जेरोम पैलार्ड और पार्श्व गायक और फिल्म संगीतकार हरिहरन से पुरस्कार प्राप्त किया।

समापन समारोह में प्रसिद्ध हॉलीवुड अभिनेता और निर्माता माइकल डगलस को प्रतिष्ठित सत्यजीत रे लाइफटाइम अचीवमेंट पुरस्कार मिला। पुरस्कार प्राप्त करते हुए माइकल डगलस ने कहा “करियर लाइफटाइम अचीवमेंट जैसा पुरस्कार प्राप्त करना एक उत्कृष्ट सम्मान है, जब मैंने पुरस्कार के बारे में सुना तो मैं और मेरा परिवार बहुत प्रसन्न हुए।”

प्रतिष्ठित अभिनेता ने कहा कि सिनेमा में विभिन्न सांस्कृतिक कलात्मक अभिव्यक्तियों के साथ लोगों को एकजुट करने और बदलने की क्षमका है। दो बार के ऑस्कर विजेता अभिनेता ने सिनेमा की वैश्विक भाषा के और अधिक विस्तार पर बात करते हुए कहा कि भारतीय अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव (आईएफएफआई) फिल्म निर्माण अदभुद क्षमता और समय, भाषा और भौगोलिक क्षेत्रों से परे सांस्कृतिक कलात्मक अभिव्यक्तियों का स्मरण कराता है। डगलस ने भारतीय सिनेमा की प्रशंसा करते हुए कहा कि आरआरआर, ओम शांति ओम और लंच बॉक्स उनकी कुछ पसंदीदा भारतीय फिल्में हैं।

दीपक कुमार मिश्रा द्वारा निर्देशित पंचायत सीजन 2 ने हाल में शुभारंभ किये गये सर्वश्रेष्ठ वेब सीरीज (ओटीटी) का पुरस्कार प्राप्त किया। यह सीरीज एक इंजीनियरिंग स्नातक के जीवन का वर्णन करती है जो नौकरी के बेहतर विकल्पों की कमी के कारण उत्तर प्रदेश के सुदूर काल्पनिक गांव फुलेरा में पंचायत सचिव के रूप में सेवा में शामिल होता है। अभिषेक त्रिपाठी ने इस सीरिज में मुख्य नायक जितेंद्र कुमार की भूमिका निभाई हैं।

केंद्रीय सूचना और प्रसारण, युवा कार्यक्रम एवं खेल मंत्री श्री अनुराग सिंह ठाकुर ने समापन समारोह में एक वीडियो संदेश देते हुए कहा कि 54वां भारतीय अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव विविधता में एकता का उत्सव है और यह ‘वसुधैव कुटुंबकम’ की भावना का प्रतीक है। यह महोत्सव दुनिया भर से रचनात्मक प्रतिभाओं, फिल्म निर्माताओं, सिनेमा प्रेमियों और सांस्कृतिक रूप से उत्साही लोगों को एक मंच पर ला रहा है। उन्होंने कहा, “हमारे माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी द्वारा दिए गए ‘वसुधैव कुटुंबकम’ के दर्शन को अपनाने के आह्वान का आईएफएफआई में भी पालन किया जा रहा है। आईएफएफआई का यह आयोजन वास्तव में असाधारण था, इसमें कई बातें पहली बार हुई और यह अभूतपूर्व उपलब्धियों से परिपूर्ण रहा जिसने महत्वपूर्ण उपलब्धियां हासिल करते हुए सर्वश्रेष्ठ फिल्म निर्माण की प्रक्रिया का प्रदर्शन किया।”

आईएफएफआई द्वारा किए गए समावेशिता और पहुंच की दिशा में किए गए प्रयासों पर प्रकाश डालते हुए, श्री अनुराग सिंह ठाकुर ने कहा कि फिल्मों को विशेष रूप से दिव्यांग फिल्म-प्रेमियों के लिए तैयार किया गया ताकि वे सांकेतिक भाषा विशेषज्ञों के साथ बड़ी स्क्रीन पर सिनेमा की सुंदरता का आनंद ले सकें, जिन्होंने उनके लिए पूरी फिल्म का अनुवाद किया। उन्होंने कहा, “हमने महिलाओं की प्रतिभा का उत्सव मनाते हुए उनके द्वारा निर्देशित 40 से अधिक फिल्में शामिल करना सुनिश्चित किया।

पुरानी क्लासिक फिल्मों को पुनर्स्थापित करने के लिए राष्ट्रीय फिल्म विरासत मिशन के प्रयासों को बधाई देते हुए, केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री ने कहा कि 4के डिजिटल प्रारूप में कई भाषाओं की 5,000 से अधिक फिल्मों को संगृहीत किया जाएगा ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि भारत की भावी पीढ़ियां इन महान कृतियों की सराहना कर सकें, आनंद ले सकें और प्रेरित हो सकें।

श्री अनुराग सिंह ठाकुर ने पुराने को संरक्षित करने और नए को बढ़ावा देने के दोहरे मिशन पर भी जोर दिया। उन्होंने कहा, “’75 क्रिएटिव माइंड्स ऑफ टुमॉरो’ के तहत ‘फिल्म चैलेंज’ ने युवा प्रतिभाओं को प्रदर्शित किया, जिससे उन्हें मीडिया और मनोरंजन क्षेत्र में उत्कृष्टता हासिल करने का अवसर मिला। विशेष रूप से, 75 क्रिएटिव माइंड्स में से 45 को पहले ही क्षेत्र की अग्रणी कंपनियों के सामने अपने विचार प्रस्तुत करने के अवसर प्रदान किए जा चुके हैं। एनएफडीसी फिल्म बाजार ने अपने दायरे का विस्तार किया, विविध अंतर्राष्ट्रीय दर्शकों का स्वागत किया और अंतर-सांस्कृतिक सहयोग को बढ़ावा दिया। ‘वीएफएक्स एंड टेक पवेलियन’ की शुरुआत और एक वृत्तचित्र खंड में नवीनता और गैर-काल्पनिक कहानी का प्रदर्शन किया गया।

केंद्रीय मंत्री श्री ठाकुर ने 2023 के लिए सत्यजीत रे लाइफटाइम अचीवमेंट अवार्ड प्राप्त करने के लिए श्री माइकल डगलस को बधाई दी और आईएफएफआई में सभी के लिए इस पल को विशेष बनाने के लिए उनके साथ आने के लिए सुश्री कैथरीन जेटा जोन्स को धन्यवाद दिया। उन्होंने गोल्डन पीकॉक अवार्ड्स के विजेताओं और आईएफएफआई में सर्वश्रेष्ठ वेब सीरिज (ओटीटी) के लिए पहले पुरस्कार के विजेताओं को भी बधाई दी।

अतिथियों का स्वागत करते हुए गोवा के मुख्यमंत्री प्रमोद सांवत ने कहा कि गोवा में आयोजित 54वां आईएफएफआई कलात्मकता के उत्सव की खोज और कथा वाचन की क्षमता के प्रमाण की यात्रा है। उन्होंने कहा कि इस वर्ष का संस्करण समावेशी वातावरण को बढ़ावा देने की हमारी प्रतिबद्धता का प्रमाण है जहां विविध विचारों का मिलन होता है और सिनेमाई उत्कृष्टता को बढ़ावा मिलता है। यह महोत्सव 75 से अधिक देशों की फिल्मों का प्रदर्शन करने वाले सिनेमा की विविधता और जीवंतता का सच्चा प्रतिबिंब रहा है, ”

श्री सावंत ने यह भी कहा कि यह महोत्सव गोवा के लिए विशेष रूप से खास है क्योंकि यह गोवा के फिल्म निर्माताओं को अपनी प्रतिभा और रचनात्मकता दिखाने के लिए एक मंच प्रदान करके राज्य की सांस्कृतिक विरासत को दर्शाता है। उन्होंने कहा कि इस वर्ष के फिल्म महोत्सव में गोवा के फिल्म निर्माताओं की भागीदारी वास्तव में उल्लेखनीय रही है।

शूटिंग के लिए आने वाले विदेशी फिल्म निर्माताओं के प्रति राज्य की प्रतिबद्धता व्यक्त करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि हरे-भरे जंगलों, नदी, झरनों, गांवों और टेरेस राईस खेतों के साथ, गोवा फिल्म निर्माताओं के लिए स्वर्ग होगा क्योंकि यह पारंपरिक और आधुनिक दोनों तरह की स्थिति का मिश्रण प्रदान करता है। उन्होंने कहा कि राज्य में फिल्मों की शूटिंग की सुव्यवस्थित प्रणाली विभिन्न स्थलों तक पहुंचने के लिए निर्बाध अनुमति भी प्रदान करती  है। उन्होंने कहा कि वह गोवा क्षेत्र को फिल्म उद्योग का स्वर्ग बनाने के लिए प्रतिबद्ध हूं। श्री प्रमोद सांवत ने जानकारी देते हुए बताया कि अत्याधुनिक प्रौद्योगिकी प्रदान करने वाले बुनियादी ढांचे को विकसित करने और अंतरराष्ट्रीय फिल्म निर्माताओं को प्रोत्साहित करने की योजना पर कार्य जारी है।

आईएफएफआई के अंतर्राष्ट्रीय जूरी के अध्यक्ष शेखर कपूर ने कहा कि फिल्म महोत्सव इसलिए भी बेहद महत्वपूर्ण हैं क्योंकि संघर्ष और युद्ध के बीच दुनिया भर में क्या हो रहा है, इसके संदर्भ में हमारी कहानियों को बताना बहुत महत्वपूर्ण है। उन्होंने कहा कि हमारी कहानियाँ वही हैं जो हम हैं। कहानियाँ मूलतः मानव होने की ही गाथा हैं। मानव होना हमारा मूलभूत पहलू है। अगर हम अपनी कहानियाँ एक-दूसरे को बताते हैं, तो लोग सीमाओं के पार भी इन्हें सुनेंगे और एक-दूसरे को समझेंगे।

एनएफडीसी के प्रबंध निदेशक पृथुल कुमार ने धन्यवाद ज्ञापन दिया। समापन समारोह में एंटरटेनमेंट सोसाइटी ऑफ मिस गोवा की उपाध्यक्ष दलीला लोबो, गोवा के मुख्य सचिव डॉ. पुनीत कुमार गोयल, एंटरटेनमेंट सोसाइटी ऑफ गोवा की सीईओ सुश्री अंकिता मिश्रा और अन्य गणमान्य व्यक्तियों ने भी भाग लिया। मंदिरा बेदी ने इस समारोह की मेजबानी की और उनके साथ अमित त्रिवेदी और आयुष्मान खुराना जैसे स्टार अभिनेताओं की शानदार प्रस्तुतियां भी इस महोत्सव का हिस्सा बनीं।

चित्र में: हॉलीवुड अभिनेता और निर्माता माइकल डगलस सत्यजीत रे लाइफटाइम अचीवमेंट पुरस्कार प्राप्त करते हुए

समापन समारोह का यू ट्यूब लिंक https://youtu.be/clTJM5TEylQ

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -spot_img

वार त्यौहार