ताजा सामाचार

आप यहाँ है :

पुस्तक चर्चा
 

  • अमरीश पुरीः  परदे पर जिनकीमौजूदगी ही दर्शकों में सिहरन पैदा कर देती थी

    अमरीश पुरीः परदे पर जिनकीमौजूदगी ही दर्शकों में सिहरन पैदा कर देती थी

    अमरीश पुरी अपनी आत्मकथा में जिक्र करते हैं कि संघ का सदस्य रहने के दौरान ही उन्होंने यह पक्का इरादा कर लिया था कि वे फिल्मों में कभी काम नहीं करेंगे। हिंदी सिनेमा के महानतम खलनायक अमरीश पुरी कभी राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सदस्य भी थे।

  • ‘संघ और समाज’ के आत्मीय संबंध को समझने में मदद करते हैं मीडिया विमर्श के दो विशेषांक

    ‘संघ और समाज’ के आत्मीय संबंध को समझने में मदद करते हैं मीडिया विमर्श के दो विशेषांक

    लेखक एवं राजनीतिक विचारक प्रो. संजय द्विवेदी के संपादकत्व में प्रकाशित होने वाली जनसंचार एवं सामाजिक सरोकारों पर केंद्रित पत्रिका 'मीडिया विमर्श' का प्रत्येक अंक किसी एक महत्वपूर्ण विषय पर समग्र सामग्री लेकर आता है। ग्यारह वर्ष की अपनी यात्रा में मीडिया विमर्श के अनेक अंक उल्लेखनीय हैं- हिंदी मीडिया के हीरो, बचपन और मीडिया, उर्दू पत्रकारिता का भविष्य, नये समय का मीडिया, भारतीयता का संचारक : पंडित दीनदयाल उपाध्याय स्मृति अंक, राष्ट्रवाद और मीडिया इत्यादि। मीडिया विमर्श का पिछला (सितम्बर) और नया (दिसम्बर) अंक 'संघ और समाज विशेषांक-1 और 2' के शीर्षक से हमारे सामने है। यूँ तो राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (संघ) सदैव से जनमानस की जिज्ञासा का विषय बना हुआ है। क्योंकि, संघ के संबंध में संघ स्वयं कम बोलता है, उसके विरोधी एवं मित्र अधिक बहस करते हैं। इस कारण संघ के संबंध में अनेक प्रकार के भ्रम समाज में हैं। विरोधियों ने सदैव संघ को किसी 'खलनायक' की तरह प्रस्तुत किया है। जबकि समाज को संघ 'नायक' की तरह ही नजर आया है। यही कारण है कि पिछले 92 वर्ष में संघ 'छोटे से बीज से वटवृक्ष' बन गया। अनेक प्रकार षड्यंत्रों और दुष्प्रचारों की आंधी में भी संघ अपने मजबूत कदमों के साथ आगे बढ़ता रहा।

  • तीस साल की साधना का प्रतिफल है पं. दीनदयाल उपाध्याय संपूर्ण वाङ्मय

    तीस साल की साधना का प्रतिफल है पं. दीनदयाल उपाध्याय संपूर्ण वाङ्मय

    कोई इंसान कितना जुनूनी हो सकता है और अपने जुनून के लिए जीवन के पूरे तीस साल दाँव पर लगा दे उसका साक्षात उदाहरण है एकात्म मानव अनुसंधान एवँ विकास प्रतिष्ठान के डॉ. महेश शर्मा। पूर्व राज्यसभा सांसद डॉ. महेश शर्मा ने तीस साल के अनथक प्रयासों के बाद पं. दीनदयाल उपाध्याय के शताब्दी वर्ष में स्वर्गीय दीनदयाल उपाध्याय वाङ्मय के 15 खंडों में प्रकाशित कर एक ऐसा ऐतिहासिक दस्तावेज इस देश को दिया है जिसमें पं. दीनदयाल उपाध्याय ने अपने समकालीन भारत से लेकर आने वाले दौर में भारत के समक्ष चुनौती बनकर खड़े रहने वाले खतरों से आगाह किया था। एकात्म मानवतावाद का सिद्धांत देने वाले पंडित दीनदयाल उपाध्याय को सामाजिक-राजनैतिक दर्शन के लिए जाना जाता है। इस संपूर्ण खंड का प्रकाशन प्रभात प्रकाशन किया है।

  • आचार्य विद्यासागर जी की ‘मूकमाटी’ व्यक्तित्व  विकास की अनोखी महाकृति – डॉ. चन्द्रकुमार जैन

    आचार्य विद्यासागर जी की ‘मूकमाटी’ व्यक्तित्व विकास की अनोखी महाकृति – डॉ. चन्द्रकुमार जैन

    राजनांदगांव। आचार्य विद्यासागर जी महाराज के मूकमाटी महाकाव्य पर बहुप्रशंसित शोध कर पंडित रविशंकर विश्वविद्यालय, रायपुर से 1997 में पीएच.डी. की उपाधि प्राप्त कर प्रथम पंक्ति के शोधकर्ताओं में अपनी जगह बनाने वाले शहर के शासकीय दिग्विजय स्वशासी स्नातकोत्तर अग्रणी महाविद्यालय के हिंदी विभाग के राष्ट्रपति सम्मानित प्राध्यापक डॉ. चन्द्रकुमार जैन का कहना है कि 'मूकमाटी' व्यक्तित्व विकास की अनोखी महाकृति है।

  • अंबानी-बिड़ला को कैसे बाहर का रास्ता दिखाया इस कारोबारी ने

    अंबानी-बिड़ला को कैसे बाहर का रास्ता दिखाया इस कारोबारी ने

    लार्सन एंड टुब्रो (एलएंडटी) के गैर-कार्यकारी अध्यक्ष ए एम नाइक नाइक ने बताया कैसे अंबानी, बिड़ला समेत कई घरानों ने एल ऐंड टी पर कब्जा करने की कोशिश कीऔर उन्हें बाहर का रास्ता दिखाया गया।

  • श्री राम नाईक ने बताया, इस पत्रिका का संपादक भारत का प्रधान मंत्री बना

    श्री राम नाईक ने बताया, इस पत्रिका का संपादक भारत का प्रधान मंत्री बना

    उत्तर प्रदेश के राज्यपाल राम नाईक ने मासिक पत्रिका ‘राष्ट्रधर्म’ के सिंहावलोकन विशेषांक का विमोचन किया। निराला नगर के माधव सभागार में आयोजित कार्यक्रम को संबोधित करते हुए राज्यपाल ने कहा कि ‘राष्ट्रधर्म’ केवल पत्रिका ही नहीं बल्कि एक विचार भी है।

  • अपनी पत्नी को ऐसे अमरीका ले जा पाए सत्या नाडेला

    अपनी पत्नी को ऐसे अमरीका ले जा पाए सत्या नाडेला

    माइक्रोसॉफ्ट के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) सत्या नडेला ने अपने जीवन से जुड़ी काफी दिलचस्प बातों का खुलासा किया है। उन्होंने बताया कि अपनी नवविवाहित पत्नी को अमेरिका लाने के लिए उन्होंने अपना ग्रीन कार्ड लौटा दिया था और एच-1 बी वीजा के लिए आवेदन किया था।

  • आज के समय में व्यंग्य लिखना जोख़िम भरा काम है : उदयप्रकाश

    आज के समय में व्यंग्य लिखना जोख़िम भरा काम है : उदयप्रकाश

    23 सितंबर, नई दिल्ली। कोई भी सर्व सत्तावादी जिस चीज़ से सबसे ज़्यादा डरता है वह है व्यंग्य। वह व्यंग्य को बर्दाश्त नहीं कर पाता यहां तक कि कार्टून को बर्दाश्त नहीं कर पाता। ऐसे में व्यंग्य लिखना भारी जोखिम का काम है और वह मुकेश कुमार ने किया है।

  • जब दौरे पर गईं इंदिरा गांधी ने डीएम से कहा था- नाश्ते में जलेबी और मट्ठी चाहिए

    मिर्जापुर पहुंचीं भारत की तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने नाश्ते में जलेबी और मट्ठी मांगकर प्रशासनिक अधिकारियों को हैरान कर दिया था।

  • पाठकों को बाँधने की ग़ज़ब की टेक्नीक का इस्तेमाल किया है डॉ. मुकेश कुमार ने

    साहित्य गंभीर होता है। शायद यही वजह है कि साहित्य के पाठक कम होते हैं। पत्रकारिता की शैली में पठनीयता होती है क्योंकि यह समाज-देश की घटनाओं पर तथ्यात्मक तौर पर आधारित होती है लेकिन इसमें तात्कालिकता अधिक होती है।

  • Page 1 of 17
    1 2 3 17

ईमेल सबस्क्रिप्शन

PHOTOS

VIDEOS

Back to Top

Page 1 of 17
1 2 3 17