आप यहाँ है :

बच्चों का भविष्य सँवार रही है क्रायः अभय देओल

चाइल्ड राइट्स एंड यू (CRY) अमेरिका की लाभ-निरपेक्ष संस्था है जो सुविधा से वंचित बच्चों के अधिकार और सुरक्षा के लिए काम करती है। क्राय गाला रात्रि भोज २०१८ का आयोजन मेरिओट ला ओला सैन डिएगो कैलिफोर्निया में किया। इस कार्यक्रम में संस्था ने लगभग ६० हजार डॉलर एकत्रित किये गए। इस रोचक शाम का शुभारंभ लाबोनी पटनायक और राजेश कुमार पालाई के सुन्दर ओड़िसी नृत्य से हुआ।

इसके बाद मंच पर आईं क्राय अध्यक्षा शेफाली सुंदरलाल, उन्होंने ने कहा कि भारत में प्रत्येक चार में से एक ही बच्चा पढता है इसका कारण गरीबी बाल मज़दूरी ,बाल विवाह,पाठशालाओं का दूर होना और लिंगभेद इत्यादि है। क्राय अमेरिका स्थानीय लोगों के साथ और अधिकारीयों के साथ मिल कर काम करती है ताकि बच्चों को निरक्षरता, बच्चों के साथ दुर्व्यवहार और कुपोषण से बचाया जा सके। हम लोगों में जागरूकता पैदा करते हैं। शेफाली जी ने आगे कहा कि हम वहां स्कूल और अस्पताल नहीं बनाते हम वहां मौजूद चीजों को, वहां की व्यवस्था,वहाँ के अधिकारीयों तथा सरकार के साथ मिल कर काम करते हैं। हम देखते हैं कि बच्चे स्कूल जा सके और स्कूलों में आधारभूत सुविधाओं भी मौजूद हो क्योंकि बहुत से स्कूलों शौचालय ,टेनिंग पायी हुई शिक्षिकाएं ,यहाँ तक की पढ़ने के लिए कमरा और पढ़ाई का सामन भी नहीं है और यही सब सुभिधाएँ क्राय उपलब्ध करता है।

 

शेफाली जी ने बताया की नवीन एक बाल मजदूर था। उसके माता पिता ने उसका स्कूल जाना बंद करवा दिया ताकी वह काम कर सके। क्राय ने उसको पुनः स्कूल भेजा। नवीन को विज्ञान में बहुत रूचि हुयी उसने अपनी माँ को परेशान होते देखा था,तो अपने शिक्षकों की सहायता से उसने इको फ्रैंडली बायो फियूल बनाया। उसके इस अविष्कार को राष्ट्रिय स्तर पर चुना गया।

मध्य प्रदेश के गाँवों में बहुत से बच्चे कुपोषण का शिकार हैं। हमने सभी के साथ मिल कर ये सोचा कि क्यों न शाक वाटिका (किचन गार्डन )का काम शुरू जाये और इन सभी परिवारों ने ऐसा ही किया। इस कारण से सारे बच्चे आज नार्मल हैं। शेफाली जी ने सारिका के बारे बताते हुए कहा की बिहार में रहने वाली इस बच्ची का विवाह १४ वर्ष की उम्र था। जब उसने विरोध किया तो उसको घर में बंद कर दिया गया। बिहार की एक संस्था है दिशा विहार जिसके साथ हम काम करते हैं उसको जब ये पता चला तो उनलोगों ने सारिका के माता पिता से और उसके ससुराल में सभी से बात की। बहुत मेहनतों के बाद सभी मान गए और सारिका को पुनः स्कूल में दाखिला दिलाया गया। आज वह अपने परिवार की पहली सदस्य है जो स्नातक कर रही है।

मनीषा जो बहुत काम बात करती है ज्योती विकास केन्द्र की सहायता से उसने बहुत कुछ सीखा और उसने कहा की आज वो खुल कर बोल रही है और वह मजिस्ट्रेट बनना चाहती है ताकि वह देख सके कि सभी बच्चे पढ़ाई कर सकें। शेफाली जी ने कहा कि यहाँ मैने मात्र तीन कहानियां बताई हैं ऐसी ही ६९५,०७७ कहानियां है। हमारे ७३ प्रोजेक्ट भारत के ३,६७६ गांवों में चल रहे हैं।

शेफाली जी ने आगे बोलते हुए कहा कि आप में ताकत है आप सहयोग कर सकते हैं ताकि कोई भी बच्चा शिक्षा से वंचित न रहे तथा स्वस्थ और सुरक्षित रहेl शेफाली जी २६ सालोँ से क्राय की अध्यक्षा है। आपके मार्गदर्शन से ये संस्था बहुत ही उत्तम कार्य कर रही है। अपने स्वयंसेवी लोगों को ,मिडिया को और वहां मौजूद सभी का धन्यवाद दिया।

इसी सभा में बोलते हुए व्यापारी प्रमुख श्री फ्रेड नास्सेरी ने कहा की मै भाग्यशाली हूँ कि मेरा बचपन सुरक्षित था तो मै ये सब कर पाया। पर यदि मुझको परिवार का सहयोग न मिलता तो मै आज कुछ भी नहीं होता। ये सोच कर ही अजीब सा लगता है। हम में सामर्थ है तो हमको इन बच्चों के लिए कुछ न कुछ करना चाहिए।

इसके बाद भारत से आये मशहूर हस्तियों के सामान की नीलामी की गयी। नीलामी करने के लिए बहुत से नामी हस्तियों जी चीजें उपलब्ध थी ,जिनमे भारत के मशहूर चित्रकार स्वर्गीय राम कुमार ,स्वर्गीय बद्री नारायण ,जे एम् एस मनी , प्रकाश देशमुख ,सुरेश गुलागे ,सचिन संगारे ,दिनकर जादव ,फैशन के संपरिधान अबू जानी,संदीप खोसला ,ऋतू बेरी ,ऋतु कुमार ,तरुण ताहिलियानी ,अनीता डोंगरे ,पायल सिंघल , तहिलयानी, इवनिंग क्लच बैग सब्यसाची और जॉय बैग्स के द्वारा उपलब्ध कराये गए ,गहने रोसेंटिक,अक्वामरीन ,करीना नहर और आम्रपाली के द्वारा दान किये गए थे। साइली ओक के मधुर संगीत को भी लोगों ने बहुत पसंद किया।

जाने माने अभिनेता अभय देओल के मंच पर आते ही लोगों ने जोरदार तालियों से उनका स्वागत किया। उन्होंने कहा कि मै पिछले कई दिनों से इनके साथ हूँ और ये मेरा बहुत ही अच्छा समय रहा है । क्राय ने मेरी आँखें खोल दी हैं। क्राय १९७९ से इस क्षेत्र में कार्यरत है । ७००,००० बच्चों की मददत की जा चुकी है आपकी सहायता से ये अकड़ा करोड़ों को पार कर सकता है ,आप जैसों की सहायता से ही हम ७०,००० हियुस्टन और ८०,००० सैन होज़े में एकत्र कर सके हैं। कुपोषण के शिकार बच्चों ,बाल मज़दूरी और बालविवाह में पूरी दुनिया में हम प्रथम स्थान पर हैं । आप की सहायता के बिना हम इस संख्या को बदल नहीं सकते हैं। क्राय बहुत ही अच्छा और सच्चा काम कर रही है। आप अपना पूरा सहयोग दीजिये। आगे की बात आपको रोली जी बताएंगी


शम्भुनाथ सिंह अनुसन्धान संस्थान (Shambhunath Singh Research Foundation (SRF)) की कार्यक्रम निर्देशिका डॉ रोली सिंह अभय का धन्यवाद देते हुए कहाकि आज भी ४५% लड़कियों का विवाह काम उम्र में कर दिया जाता है। हमने बहुत सी बच्चों को इससे बचने में मददत की है बनारस में लड़कियों को पकड़ कर लाया जाता है और उनसे जबरन देहव्यापार कराया जाता हैं। उन्होंने कहा की भारत में बुनियादी स्तर पर काम करना आसान नहीं है। एक बार उनको पता चला की कुछ नवालिक लड़कियों से देह व्यापर करवाया जा रहा है तो वह पुलिस को ले कर वहाँ पहुंची परन्तु कोई नहीं मिला उनके पहुंचने से पहले ही उनके आर की खबर हो गयी थी। सभी उनको कहने लगे आप ऐसे ही बात करती हैं कुछ भी नहीं है यहाँ। रोली जी का मन नहीं मान रहा था वह कमरे में धूम रहीं थी तभी एक पत्थर उनको कुछ अलग सा लगा उन्होंने पुलिस वालों को वह पत्थर हटाने को कहा। जब पत्थर हटाया गया तो नीचे एकछोटा सा तहखाना दिखा और उसमे ३५ लड़कियों को जानवरों की तरह ठूंस कर भरा गया था। रोली जी ने कहा “उन लड़कियों को हम पर विश्वास नहीं था वह सभी कहने लगीं कि उनको जबरदस्ती नहीं लाया गया है ये सभी मेरे रिश्तेदार हैं यह मेरा घर है। किसी तरह से उनसे बात करते करते हम उनका विश्वास जीत पाए तो ऐसी ऐसी कहानियां निकल कर सामने आयीं की क्या कहूं आप सभी से। इन लड़कियों को उनके घर वाले ले जाने को तैयार नहीं होते हैं। हमने उनके माता पिता से बात की जिस कारण से अभी अधिकतर लड़कियां अपने घर जा चुकी हैं। जब हम इन लड़कियों को छुड़ा कर लाये तो उसके बाद हमको मेरे बेटे के लिए बहुत धमकियाँ मिलीं l मेरा एक ही बेटा है ,सच कहूं तो उस समय मुझे बहुत डर लगा था l पर मैने सोचा कि यदि आज मै डर गयी तो फिर मुझे इस क्षेत्र में काम करना छोड़ देना चाहिएl ”

क्राय का धन्यवाद करते हुए रोली जी ने कहा कि यह ऐसी संस्था है जो आप को काम करने की छूट देती है बहुत सी अन्य संस्थाएं है पर क्राई ही अकेली ऐसी संस्था है जो कि सहभागिता में विश्वास करती है और सबके साथ मिल कर काम करना चाहती है। क्राय के कारण बहुत से बच्चों का भविष्य उज्जवल हुआ है।

क्राय के ऑर्जेन काउंटी शाखा के सदस्य क्राय सैन डिएगो को सहयोग देने के लिए उपस्थित थे। इस मनोरंजक शाम का संचालन प्रसिद्ध हास्य वक्ता नील चक्रवर्ती ने बहुत ही कुशल तरीके से किया। कार्यक्रम की समाप्ति पर लोगों ने सह-भोज का आनंद लिया।

(रचना श्रीवास्तव अमरीका में रहती हैं और अमरीका में रह रहे भारतीयों की रचनात्मक गतिविधियों पर नियमित रूप से लिखती हैं)

क्राय की वेब साईट – https://www.cry.org



Leave a Reply
 

Your email address will not be published. Required fields are marked (*)

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

सम्बंधित लेख
 

Back to Top