आप यहाँ है :

विश्व हिंदू परिषद् की माँगः जकात फाउंडेशन की जाँच कराई जाए

विश्व हिन्दू परिषद के केन्द्रीय महामंत्री माननीय मिलिंद जी परांडे मिलिंद जी परांडे ने एक पत्रकार वार्ता को संबोधित करते हुए कहा कि कोरोना महामारी के समय समाज की सेवा का व्यापक कार्य सम्पूर्ण देश में किया गया है। अभी तक देश भर में 2 करोड़ 74 लाख से अधिक भोजन पैकेट का वितरण, 4 लाख गोवंश के चारा पानी की व्यवस्था तथा 40 लाख से अधिक परिवारों के लिए सूखे अनाज की व्यवस्था की गई। इसी क्रम में विश्व हिन्दू परिषद, मध्यभारत प्रांत द्वारा 633024 भोजन के पैकेट, 85062 परिवारों को सूखा राशन, 42632 मास्क, 2754 लोगों को काढ़ा पिलाया।

पिछले वर्षों में कई समाचार एजेंजियो के माध्यम से ज़कात फाउंडेशन के बारे में जानकारी मिली है कि इस फाउंडेशन की कई गतिविधिया हिंसा मैं लिप्त संगठनों के समर्थन में दिखाई पड़ती है, अतः विश्व हिन्दू परिषद सरकार से यह मांग करता है कि इस ज़कात फाउंडेशन की जांच की जानी चाहिए।

चीन की वस्तुओं का बहिष्कार हेतू व्यापक अभियान सम्पूर्ण देश में किया गया। इसका सकारात्मक पहलू यह है कि भारत को आत्मनिर्भर बनाने की दृष्टि से देशभर में सभी के माध्यम से अनेक प्रयास चल रहे हैं

इन सब प्रयासों को पुष्ट करने के लिए कृषि कौशल विकास (स्वरोजगार) स्वास्थ्य तथा शिक्षा के क्षेत्र में विहिप भी अनेक गतिविधि करेगा। देश भर में 100 से अधिक जिलों में प्रारंभिक तौर पर किसानों का गाय आधारित कृषि का प्रशिक्षण युवक, महिलाओं के लिए कौशल विकास का कार्य ऐसे अनेक तरह के कार्य प्रारंभ किये जायेंगे।

उन्होंने कहा कि ढाई तीन वर्षो में अयोध्या में श्रीराम जन्मभूमि मंदिर के गर्भगृह में भगवान मर्यादा पुरूषोत्तम की श्री रामलला विराजमान हो जाऐगें और हम सभी को भव्य मंदिर में दिव्य दर्शन का सौभाग्य प्राप्त होगा। यह भारतवर्ष ही नहीं अपितु सम्पूर्ण विश्व के लिए गौरव का पल होगा। इसलिए श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र न्यास निकट भविष्य में व्यापक धनसंग्रह के लिए आव्हान करेगा तो इस संग्रह में विश्व हिन्दू परिषद अपनी पूर्ण शक्ति से लगेगा।

पत्रकार वार्ता में मिलिंद जी परांडे केन्द्रीय महामंत्री के साथ, क्षेत्र मंत्री राजेश जी तिवारी एवं मध्यभारत प्रांत मंत्री पप्पू जी वर्मा उपस्थित थे।

संपर्क
प्रचार प्रसार कार्यविभाग
विश्व हिन्दू परिषद मध्यभारत
9826568204

image_pdfimage_print


सम्बंधित लेख
 

Back to Top