आप यहाँ है :

मंदिरों में अंडे दिखा रहा है ‘पोकेमॉन गो’ गुजरात उच्च न्यायालय ने सरकार से माँगा जवाब

चर्चित मोबाइल गेम ‘पोकेमॉन गो’ अब धार्मिक भावनाएं आहत करने के विवाद में भी फंस गया है। केंद्र और गुजरात सरकार से पूछा गया है कि क्या इस लोकप्रिय गेम की वजह से धार्मिक भावनाएं आहत हो रही हैं? सैन फ्रांसिस्को की कंपनी नायनटिक द्वारा विकसित किए गए इस गेम में एग्स जमा किए जाते हैं जो अलग-अलग पूजा स्थलों में रखे दिखाए जाते हैं।

गुजरात हाई कोर्ट ने केंद्र और गुजरात सरकार से इस मामले पर चार हफ्तों के भीतर जवाब देने के लिए कहा गया है। दरअसल, अनिल दवे नाम के एक शख्स ने इस संबंध में कोर्ट केस फाइल किया है। उनका कहना है कि एग्स हिंदू और जैन मंदिरों में प्रतिबंधित हैं।
यह है विवाद की जड़

दवे के वकील नचिकेत दवे का कहना है, ‘गेम खेलते हुए लोगों को एग्स के रूप में प्वॉइंट्स मिलते है। ये सामान्य तौर पर धार्मिक स्थलों पर रखे दिखाए जाते हैं। हिंदू और जैन मंदिरों में एग्स दिखाना ईशनिंदा है। इसलिए मेरे क्लाइंट ने देश में इस खेल पर प्रतिबंध की मांग की है।’

साभार- अमर उजाला से



सम्बंधित लेख
 

ईमेल सबस्क्रिप्शन

PHOTOS

VIDEOS

Back to Top