आप यहाँ है :

प्रभु की ट्विटर अदालत में चट सुनवाई,पट फैसला

इस देश की सरकार के मंत्रियों और अफसरों से लेकर सरकारी नक्करखाने में भले ही आम आदमी की आवाज़ नहीं पहुँच पाती हो, मगर रेल मंत्री श्री सुरेश प्रभु के ट्विटर दरबार में देश के आम रेल यात्री की फरियाद तत्काल सुनी ही नहीं जाती बल्कि फरियाद करने वाले को को तत्काल समाधान भी मिलता है।

एक छात्र को दिल्ली जाना था। वह आरक्षित टिकट के लिए परेशान था उसने रेलमंत्री सुरेश प्रभु से ट्वीट कर गुहार लगाई। शिकायत के 12 घंटे के भीतर ही रेल मंत्रालय के साथ ही साथ डीआरएम वाराणसी ने मामले को संज्ञान में लेकर समाधान का भरोसा दिलाया।

देवरिया में बीटेक के छात्र मनीष पांडेय को नोएडा जाना था। वह भटनी रेलवे स्टेशन पर रिजर्वेशन कराने गया था। आरक्षण के लिए अलग काउंटर न होने से उसे घंटों इंतजार करना पड़ा। कुव्यवस्था से परेशान हुए मनीष ने सोमवार को भटनी में आरक्षण काउंटर अलग न होने की शिकायत रेल मंत्रालय के ट्विटर हैंडल पर की। शिकायत के 12 घंटे के भीतर ही रेल मंत्रालय के साथ ही साथ डीआरएम वाराणसी ने मामले को संज्ञान में लेकर समाधान का भरोसा दिलाया।

मनीष का कहना है कि काउंटर पर बैठे कर्मचारी हर आधे घंटे पर रिजर्वेशन बंद कर देते हैं। इससे परेशानी का सामना करना पड़ता है। उन्होंने सोमवार को रेल मंत्रालय के ट्विटर हैंडल पर ट्वीट कर इसकी शिकायत की। रेलवे की तरफ से समस्या के समाधान का आश्वासन मिला है। डीआरएम वाराणसी ने भी संबंधित अधिकारियों को इस समस्या का समाधान करने निर्देश दिया है।

यूं तो भटनी जंक्शन पर तीन टिकट खिड़की है लेकिन इसमें अमूमन एक तो बंद ही रहता है। बाकी बचे दो में से एक पर सिर्फ जनरल टिकट मिलता है। जिसके कारण यात्रियों आरक्षण कराने के लिए सिर्फ एक खिड़की उपलब्ध होती है। कुरमोठा निवासी मनीष आरक्षण कराने गए तो एक ही खिड़की से टिकट और आरक्षण दोनों हो रहा था। इस वजह से तत्काल आरक्षण मनीष को नहीं मिल पाया।

image_pdfimage_print


सम्बंधित लेख
 

Back to Top