Tuesday, March 5, 2024
spot_img
Homeप्रेस विज्ञप्ति102 वर्षीय श्रावक छत्राणी ने किये दिनेशमुनि जी के दर्शन

102 वर्षीय श्रावक छत्राणी ने किये दिनेशमुनि जी के दर्शन

पिछले दिनों श्रमणसंघीय सलाहकार श्री दिनेशमुनिजी , डॉ . द्वीपेन्द्रमुनिजी एवं डॉ . पुष्पेन्द्रमुनिजी विहार करते हुए खडसूपा नवसारी ( गुजरात ) स्थित भ. महावीर विश्व कल्याण ट्रस्ट, पांजरापोल पहुँचे । वहाँ 102 वर्षीय विलक्षण श्रावक श्री पूणमचंद काकलचंद छत्राणी गुरुदेव के दर्शनाथ उपस्थित हुए।

गुजराती स्थानकवासी जैन परम्परा के श्रावक श्री छत्राणी ने श्रद्धाभाव से मुनिवृंद की वंदना की । अधिकांश समय सामायिक में रहने वाले श्रमणतुल्य श्रावक श्री छत्राणी जी सकल जैन समाज के प्रथम सुदीर्घ आयु वाले तपस्वी है जो कि वर्षों से उपवास – एकासन का वर्षीतप कर रहे हैं । 13 वर्ष की बाल्यावस्था में ही उन्होंने प्रतिक्रमण कंठस्थ कर लिया था । वे प्रतिदिन उभयकाल प्रतिक्रमण, हर पक्खी को अष्टप्रहरी पौषध और दीपावली पर छट्ठम् तप की आराधना करते हैं । वे नंगे पाँव रहते , अहर्निश मुँहपत्ती बांधे रखते हैं और वर्ष में दो बार लोच करते हैं ।

मूलतः धानेरा निवासी श्री छत्राणी जी को गुजराती स्थानकवासी सम्प्रदाय के श्री नागचंदजी महाराज का विशेष सान्निध्य मिला । इसके अलावा उन्होंने उपाध्याय श्री पुष्करमुनिजी का आशीर्वाद भी पाया और उपाध्याय श्री कन्हैयालालजी महाराज ‘ कमल ‘ के दो चातुर्मास धानेरा में हुए तो भरपूरा लाभ लिया । उनकी संयमित , धर्ममय और शाकाहारी जीवनशैली उनकी दीर्घायु का राज है । ऐसे दृढ़धर्मी प्रियधर्मी श्रावक पर सकल जैन समाज को नाज है ।

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -spot_img

वार त्यौहार