Saturday, July 13, 2024
spot_img
Homeदुनिया मेरे आगेकुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय से जुड़ा एक संस्मरण

कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय से जुड़ा एक संस्मरण

बात १९६३-६४ की होनी चाहिए।तब मैं कुरुक्षेत्र विश्वविद्यलय से यू०जी० सी० की फ़ेलोशिप पर पी-एच डी० कर रहा था।हिंदी विभाग के अध्यक्ष आचार्य विनयमोहन शर्मा हुआ करते थे।उन्होंने जाने क्या सोचकर मुझे हिंदी विभाग की “अनुसन्धान परिषद” का सचिव मनोनीत किया था। परिषद का उद्घाटन आचार्य हज़ारीप्रसाद द्विवेदी जी से करवाना निश्चित हुआ।आचार्यजी उस ज़माने में पंजाब विश्विद्यालय,चंडीगढ़ के हिंदी-विभागाध्यक्ष हुआ करते थे।परिषद का उद्घाटन हो जाने के बाद कुछ समय के अनंतर यह तय किया गया कि दिल्ली से अज्ञेयजी को भाषण देने के लिए बुलाया जाय।

तब शायद अज्ञेय ‘दिनमान’ के सम्पादक हुआ करते थे।“अनुसन्धान परिषद” के लैटर-हेड पर उनको मैं ने भाषण देने के लिए बाकायदा आमन्त्रण-पत्र भेजा।उनका उत्तर भी तुरंत आगया। पत्र में उन्होंने आने की स्वीकृति तो दे दी मगर अपने नाम के शब्द ‘वात्स्यायन’ की गलत टाइपिंग पर नाराज़गी जताई। आचार्यजी (विनयमोहनजी) को जब इस बात का पता चला तो वे मुझपर तनिक नाराज़ हुए।खैर,कार्यक्रम हो गया।चायपान के दौरान अज्ञेयजी मेरे निकट आगये और मेरा मनोबल यह कहकर बढ़ाया: “तुम कोई अपवाद नहीं हो, मेरे नाम का अधूरा और गलत उच्चारण बड़े-बड़े विद्वान करते हैं।तुम तो अभी महज़ एक शोधछात्र हो।” उनके ये शब्द आज तक मुझे याद हैं।

यह उस समय की बात है जब कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय के हिंदी विभाग में आचार्य विनयमोहनजी के अतिरिक्त सर्वश्री पद्मसिंह शर्मा कमलेश,जयनाथ नलिन,छविनाथ त्रिपाठी,शशिभूषण सिंहल,हरिश्चंद्र वर्मा,जयभगवान गोयल,मनमोहन सहगल,ब्रह्मांदजी आदि कार्यरत थे।हुकुमचंद राजपाल,बैजनाथ सिंहल,राजकुमार शर्मा,सुधींद्र कुमार,जवाहरलाल हांडू,ललिता हांडू,ब्रजमोहन शर्मा,कृष्णा शर्मा,कांता सूद आदि शोधछात्र/आनर्स के विद्यार्थी हुआ करते थे।

एक दुर्लभ चित्र साझा कर रहा हूँ: लगभग साठ वर्ष हो चुके हैं. कह नहीं सकता कि इस समय कौन कहाँ पर है?चित्र में बाएं से (कुर्सी पर) डाक्टर हरिश्चंद्र वर्मा,डाक्टर ब्रह्मानंद, डाक्टर छविनाथ त्रिपाठी, आचार्य विनयमोहन शर्मा (विभाग अध्यक्ष), डाक्टर शशिभूषण सिंघल, डाक्टर मनमोहन सहगल, डाक्टर मनमोहन सिंह। नीचे बैठे हैं (शोधछात्र तथा आनर्स हिंदी के विद्यार्थी): बैजनाथ सिंहल(खडे) हुकुमचंद राजपाल, लालचंद,कांता सूद,—-और मैं (एकदम दाएँ कोने पर बैठे हुए) ।

(डॉ. शिबन कृष्ण रैणा) 2/537 Aravali Vihar(Alwar)
Rajasthan 301001
Contact Nos; +919414216124, 01442360124 and +918209074186
Email: [email protected],
shibenraina.blogspot.com

http://www.setumag.com/2016/07/author-shiben-krishen-raina.html

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -

वार त्यौहार